Home Health Care ‘सुपर 30’ के आनंद कुमार का ट्यूमर जानलेवा, जानिए क्या कहते हैं...

‘सुपर 30’ के आनंद कुमार का ट्यूमर जानलेवा, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ!

ब्रेन ट्यूमर का खतरा किसी भी उम्र में है. लेकिन 50 ये उससे अधिक उम्र के लोगों में इसके होने की संभावना ज्यादा रहती है. Anand Kumar Suffering From Brain Tumor

786
0

ब्रेन ट्यूमर (Brain Tumor) किसी को भी और किसी भी उम्र में हो सकता है. वैसे तो हर ट्यूमर को लोग कैंसर के साथ जोड़ देते हैं. लेकिन हर कैंसर की वजह ट्यूमर नहीं होता. जहां तक ब्रेन ट्यूमर की बात है तो यह भी बेहद खतरनाक बीमारी है.

विशेषज्ञों के अनुसार, ब्रेन ट्यूमर के अधिकतर मामले 50 और उससे अधिक आयु वर्ग के लोगों में सामने आ रही है. पहले की तुलना में अभी इसके मरीजों की संख्या में वृद्धि हो रही है.

anand-kumar-super-30

यह ट्यूमर सिर्फ ब्रेन (Brain Tumor) को ही नहीं बल्कि पूरे शरीर को प्रभावित करता है. इसकी वजह है कि मस्तिष्क से ही पूरे शरीर का संचालन होता है. अगर ट्यूमर मस्तिष्क में ही हो जाए तो फिर इसका असर पूरे शरीर पर तो पड़ना ही है.

इस बीमारी में एक दिक्कत यह है कि शुरुआत के दिनों में इसका पता लगाना मुश्किल होता है. काफी समय बाद मरीज को इसकी जानकारी लग पाती है. कई बार को मरीज को इस बीमारी का पता चलने में ही 10 वर्ष या फिर उससे अधिक लग जाते हैं.

तब तक बीमारी गंभीर रूप धारण कर लेती है. अगर सही वक्त पर इस बीमारी का पता चल जाए तो मरीज को बचाना संभव हो पाता है.

आनंद पर बनी बायोपिक ‘सुपर 30’ – Super 30

‘सुपर 30’ के संस्थापक आनंद कुमार (Anand Kumar) भी ब्रेन ट्यूमर जैसी खतरनाक बीमारी से पीड़ित हैं. इस चौंकाने वाली बात का खुलासा आनंद कुमार ने एक साक्षात्कार में किया है. दरअसल बिहार के इस जीनियस गणितज्ञ आनंद कुमार पर एक बायोपिक बनाई गई है.

उनकी जिंदगी से प्रेरित इस फिल्म में अभिनेता ऋतिक रोशन ने पटना में ‘सुपर 30’ कोचिंग चलाने वाले प्रोफेसर आनंद कुमार का किरदार निभाया है. इसी फिल्म के सिलसिले में जब उनका इंटरव्यू लिया जा रहा था तभी उन्होंने अपनी इस बीमारी का खुलासा किया.

उन्होंने बताया कि कुछ सालों पहले उन्हें दाएं काने से सुनने में दिक्कत आ रही थी. इलाज के लिए दिल्ली स्थित राम मनोहर लोहिया अस्पताल गए. जांच के दौरान वर्ष 2014 में उन्हें जानकारी मिली की उन्होंने अपनी 80-90 सुनने की क्षमता खो दी है.

इसके बाद फिर वे इलाज के लिए मुंबई के हिंदुजा अस्पताल पहुंचे. वहां डॉ. बीके मिश्रा से इलाज के दौरान उन्होंने बताया कि उन्हें एकॉस्टिक न्यूरोमा (ब्रेन ट्यूमर) है जिसे वो ऑपरेट कर सकते हैं. इससे समस्या खत्म हो जाएगी. लेकिन उन्होंने बताया कि इसमें कुछ समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती है.

जरा सी चूक हो सकता है खतरनाक –

जैसे एकॉस्टिक न्यूरोमा को ऑपरेट करने के दौरान अगर थोड़ी सी भी भूल होती है तो इसमें मुंह टेढ़ा होने या फिर पलक नहीं झपकने जैसी समस्या हो सकती है. अब इसी भय से वे इसे ऑपरेट नहीं करा पा रहे हैं.

आनंद कुमार (Anand Kumar) ने कहा कि इस बीमारी की वजह से जिंदगी और मौत की कोई निश्चितता नहीं है. यही वजह है कि उन्होंने इतनी कम उम्र में बायोपिक के लिए हां कही. “मेरे लिए यह सबसे अच्छा होगा कि मैं जीवित रहते हुए बायोपिक में अपनी यात्रा देख सकूं.”

वे अपनी इस समस्या को किसी के साथ साझा नहीं करना चाहते थे. लेकिन उनके ‘सुपर 30’ के वर्ष 2014 के बैच को इसकी जानकारी लग गई थी. कान को ब्रेन से जोड़ने वाली नर्व के पास ही ट्यूमर है.

12 जुलाई को रिलीज हुई बायोपिक ‘सुपर 30’ (Super 30)की कहानी आनंद कुमार व उनके कोचिंग सेंटर के छात्रों से प्रेरित है. अपनी कोचिंग ‘सुपर 30’ से आनंद कुमार वर्ष 2002 में सुर्खियों में आए थे. इस ‘सुपर 30’ को कई तरह के विवाद भी सामने आए.

‘सुपर 30’ से जाने आनंद कुमार के बारे में – ‘Super 30’

ऋतिक रोशन की ‘सुपर 30’ में फिल्म बिहार के पटना में चलने वाले कोचिंग सेंटर ‘सुपर 30’ के संस्थापक आनंद कुमार की कहानी पर आधारित है. आनंद कुमार एक प्रसिद्ध शिक्षक हैं जो आईआईटी-जेईई के लिए छात्रों को प्रशिक्षित करते हैं.

ये गरीब बच्चों को निःशुल्क आईआईटी की तैयारी करवाते है. एक शिक्षक के रूप में इन्होंने कई छात्रों के भविष्य को बदल दिया. इनके काम को देखते हुए वर्ष 2010 में टाइम पत्रिका ने ‘द बेस्ट ऑफ एशिया’ लिस्ट मंं शामिल कर सम्मानित किया है.

ब्रेन ट्यूमर – Brain Tumor

दिमाग में कोशिकाओं के असामान्य रूप से बढ़ कर गांठ बनने की क्रिया को ब्रेन ट्यूमर कहते हैं. इस प्रक्रिया में मस्तिष्क के क खास हिस्से में कोशिकाओं का गुच्छ बन जाता है. यही गुच्छ कई बार कैंसर की गांठ के रूप में तब्दील हो जाता है. तभी ब्रेन ट्यूमर को कभी हल्के में नहीं लेना चाहिए.

brain-tumor-super-30

ये रहे ब्रेन ट्यूमर के लक्षण – Brain Tumor

1. ब्रेन ट्यूमर का सबसे बड़ा संकेत सिर में दर्द रहना है. इसमें सुबह के वक्त तेज सिरर्दद की समस्या रहती है. लेकिन लोग इसे माइग्रेन समझकर इसकी अनदेखी करते हैं.

2. सुबह-सुबह अगर एक जगह से दूसरी जगह जाने में उल्टी होती है तो यह भी ब्रेन ट्यूमर का संकेत है.

3. मिर्गी की तरह दौड़े पड़ना व बार-बार बेहोश हो जाना भी इसके लक्षणों में शामिल है.

4. शरीर के संतुलन बनाए रखने में बाधा उत्पन्न हो तो भी सावधान होना जरूरी है.

5. टैंपोरल लोब में ट्यूमर होने पर व्यक्ति की बोलने की क्षमता प्रभावित होती है. इस बीमारी में व्यक्ति की जुबान भी लड़खड़ाने लगती है. साथ ही हर चीजें दो-दो दिखाई देने लगती है.

6. दिमाग में ऑक्सीपिटल के पास ट्यूमर होने से आंखों की रोशनी पर प्रभावित होती है. यानी चीजें धुंधली दिखाई देती हैं.

7. अगर वजन अचानक बढ़ जाए और चेहरे के कुछ हिस्सों में कमजोरी महसूस हो तो ट्यूमर का आशंका रहती है.

8. गले में अगर अकड़न रहने लगे तो भी सावधानी बरतनी चाहिए.

9. मस्तिष्क के फ्रंटल लोब में ट्यूमर होने पर याददाश्त कमजोर हो जाती है.

10. कान में हमेशा कुछ न कुछ आवाज आते रहना भी ट्यूमर के संकेत हो सकते हैं.

ब्रेन ट्यूमर का कारण –

ब्रेन ट्यूमर के कुछ कारणों की जानकारी मिल पाई है. जैसे गलत जीवनशैली, खाद्य पदार्थों में मिला केमिकल, प्रदूषण अनुवांशिक कारण के अलावा किसी बीमारी के इलाज के दौरान इस्तेमाल किये गए रेडिएशन के कारण भी यह बीमारी हो सकती है.

ऐसे करें ब्रेन ट्यूमर से बचाव –

1. नर्वस सिस्टम को परेशानी मुक्त रखना जरूरी है. इसके लिए अधिक जागने की बजाय पर्याप्त नींद लेना अवश्यक है.

2. जंकफूड का ज्यादा सेवन करना स्वास्थ्य संबंधी कई बीमारियों का घर हो सकती है. जिसमें एक ब्रेन ट्यूमर भी शामिल हैं.

3. अधिक से अधिक पानी पीना ब्रेन ट्यूमर से बचने का एक सजह माध्यम है.

4. ब्रेन ट्यूमर के मरीजों को विटामिन-सी का अधिक सेवन करना लाभदायक होता है. क्योंकि विटामिन-सी ट्यूमर को तेजी से खत्म करने में सहायक होता है.

5. खानपान में रसायनों से दूर रहना सीखें.

6. डिब्बाबंद चीजों का सेवन करना सेहत के लिए हानिकारक होता है.

7. विटामिन व पौष्टिकता से भरपूर आहार का सेवन करें. विटामिन-सी, के व ई वाले खाद्य पदार्थों पर विशेष ध्यान देना जरूरी होता है.

बेहतर स्वास्थ्य ही सबसे अनमोल धन है. किसी भी बीमारी का इलाज समय रहते होना ही बेहतर रहता है. इसी तरह ब्रेन ट्यूमर को हल्के में लेना खतरों से खाली नहीं है. समय रहते इसका भी इलाज करवाना चाहिए. इसलिए हमने यहां इसके कुछ लक्षणों को बताया है. ताकि आप इस बीमारी की पहचान कर समय रहते इसका इलाज करवा सकें.#AnandKumar #BrainTumor

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here