Home Education सावधान…कहीं आप इन फर्जी विश्वविद्यालयों के चक्कर में तो नहीं है!

सावधान…कहीं आप इन फर्जी विश्वविद्यालयों के चक्कर में तो नहीं है!

बच्चे को कॉलेज व विश्वविद्यालय में भर्ती से पहले उस संस्थान के बारे में तमाम जानकारी हासिल करें. अन्यथा आप भी फर्जी विश्वविद्यायलों के झांसे में फंस सकते हैं. UGC Fake Universities

हर माता-पिता की तमन्ना रहती है कि उनका बच्चा अच्छे स्कूल-कॉलेजों (UGC Fake Universities) में पढ़ाई करके कुछ नाम करे. बेहतर से बेहतर कॉलेज में भर्ती के लिए वे हर संभव प्रयत्न भी करते हैं.

fake Universities

बच्चे की बेहतर शिक्षा के लिए डोनेशन के तौर पर मोटी रकम भी देते हैं. लेकिन क्या आपको मालूम है कि कई बार इतना कुछ करने के बाद भी आपकी मेहनत की कमाई पानी में चली जाती है.

जी हां क्योंकि आपको पता नहीं होता है कि आपका बच्चा जिस विश्वविद्यालय के अधिन पढ़ाई कर रहा है वह मान्यता प्राप्त नहीं बल्कि फर्जी है. ऐसे संस्थानों में भर्ती ले चुके विद्यार्थियों के लिए समस्या उत्पन्न होती है. क्योंकि वहां से ना तो उसे सही शिक्षा मिल पाती है और ना ही सही सर्टिफिकेट ही मिल पाते हैं.

फर्जी विश्वविद्यालयों का हुआ खुलासा – UGC Fake Universities

यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन (यूजीसी) की तरफ से 23 फर्जी विश्वविद्यालयों (UGC Fake Universities) की सूची जारी की गई है.

दिल्ली के पूर्व कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर की फर्जी डिग्री को लेकर मचे बवाल के बाद ही यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमीशन हरकत में आ गई. जांच के बाद यूजीसी ने 23 फर्जी विश्वविद्यालयों की लिस्ट जारी की.

हैरान करने वाली बात ये है कि जिन 23 फर्जी विश्वविद्यालयों (UGC Fake Universities) का खुलासा हुआ है. उसकी सूची में 23 में से 8 सिर्फ उत्तर प्रदेश में है. ये सभी 23 यूनिवर्सिटी बहुत पुरानी है.

यूजीसी का कहना है कि ये सभी यूनिवर्सिटीज नियमों का पालन नहीं करती है. ये सभी विश्वविद्यालय फर्जी हैं.

हमारी जिम्मेवारी स्टूडेंट्स व पैरेंट्स को एडमिशन सेशन से पहले इन फर्जी विश्वविद्यालयों की जानकारी देना है. यूजीसी के पास इन विश्वविद्यालयों को बंद करने का अधिकार नहीं है.

आपके लिए इन विश्वविद्यालयों का नाम जानना बहुत जरूरी है. ताकि आप भी कहीं अपने बच्चे की भर्ती उसी में ना करवां लें. और फिर बाद में पछताना पड़े.

फर्जी विश्वविद्यालयों की लिस्ट – UGC Fake Universities

दिल्ली –

1. वाराणसेय संस्कृत यूनिवर्सिटी, वाराणसी, जगतपुरी दिल्ली

2. यूनाइटेड नेशंस यूनिवर्सिटी

3. वोकेशन यूनिवर्सिटी

4. कॉमर्शियल यूनिवर्सिटी लिमिटेड, दरियागंज

5. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड इंजीनियरिंग

6. एडीआर-सेंट्रिक ज्यूरिडिकल यूनिवर्सिटी एडीआर हाउस

7. विश्वकर्मा मुक्त विश्वविद्यालय

8. अध्यात्म विश्व विद्यालय

उत्तर प्रदेश –

1. गांधी हिंदी विद्यापीठ, प्रयाग, इलाहाबाद

2. महिला ग्राम विद्यापीठ यूनिवर्सिटी, इलाहाबाद

3. गुरुकुल यूनिवर्सिटी वृंदावन, मथुरा

4. महाराणा प्रताप शिक्षा निकेतन यूनिवर्सिटी, प्रतापगढ़

5. नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ इलेक्ट्रो कॉम्पलेक्स होमियोपैथी, कानपुर

6. उत्तर प्रदेश यूनिवर्सिटी कोसीकलां मथुरा

7. नेताजी सुभाषचंद्र बोस यूनिवर्सिटी (ओपन यूनिवर्सिटी), अचलताल, अलीगढ़

8. इंद्रप्रस्थ शिक्षा परिषद इंस्टीट्यूशनल एरिया, खोड़ा माकनपुर, नोएडा

मध्यप्रदेश –

1. केसखानी विद्यापीठ, जबलपुर

बिहार –

1. मैथिली यूनिवर्सिटी, दरभंगा, बिहार

कर्नाटक –

1. बडागानवी सरकार वर्ल्ड ओपन यूनिवर्सिटी एजुकेशन सेसाइटी, गोकाक, बेलगाम

केरल –

1. सेंट जॉन यूनिवर्सिटी कृष्णट्टम केरल

तमिलनाडु

1. डीडीबी संस्कृत यूनिवर्सिटी , पुत्तुर, त्रिची, तमिलनाडु

पश्चिम बंगाल –

1. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ ऑल्टरनेटिव मेडिसीन, कोलकाता

महाराष्ट्र –

1. राजा अरेबिक यूनिवर्सिटी, नागपुर

University Grants Commission

प्रलोभन में फंसने से बचें – UGC Fake Universities

प्रति वर्ष नए सत्र की शुरुआत होते ही तमाम पत्र-पत्रिकाओं में नए नए कॉलेजों व विश्वविद्यालयों के विज्ञापनों की भरमार होती है. वेबसाइटों पर भी विभन्न तरह के प्रलोभन वाले विज्ञापन आने शुरू हो जाते हैं.

इन प्रलोभनों में विद्यार्थियों व अभिभावकों को उक्त कॉलेज व विश्वविद्यालयों (UGC Fake Universities) के बारे में जितनी ज्यादा हो सके सुविधाएं गिनाई जाती है. जबकि विश्वविद्यालयों के बारे में वे सही जानकारी नहीं देते हैं.

अक्सर देखा जाता है कि विद्यार्थी उच्च पढ़ाई के लिए किसी तरह की पड़ताल नहीं करते. बल्कि एमबीए, बीबीए, एमटेक, बीटेक, एमसीए जैसी उच्च शिक्षा के लिए बस कॉलेज की खूबसूरती को देखते हैं.

यानी तमाम सुविधाओं से लैस कॉलेज या विश्वविद्यालय की चमक-दमक को देख कर ही प्रलोभित हो जाते हैं. पढ़ाई शुरू होने के बाद इसकी सच्चाई का पता चलता है.

यूजीसी की वेबसाइट पर इन सभी विश्वविद्यालयों की पूरी जानकारी उपलब्ध है. यहां से आप फर्जी विश्वविद्यालयों की जानकारी हासिल कर सकते हैं.

यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन की कोशिशों के बावजूद पिछले 11 वर्षों में 90 हजार से ज्यादा विद्यार्थी फर्जी विश्वविद्यालयों के झांसे में फंस चुके हैं. देश में यूजीसी की मान्यता प्राप्त 712 विश्वविद्यालय हैं.

इनमें 330 राज्य स्तरीय व 128 को डीम्ड विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त है. वहीं 46 विश्वविद्यालय केंद्रीय विश्वविद्यालय के तौर पर हैं. वहीं निजी विश्वविद्यालयों की संख्या 208 है.

फर्जी विश्वविद्यालयों में फीस की मनमानी –

अगर आप एक बार फर्जी विश्वविद्यालय (UGC Fake Universities) के झांसे में आ गए तो फिर वहां से निकलना मुश्किल है. यानी बगैर नुकसान के आप उससे बाहर नहीं सकते.

ऐसे फर्जी विश्वविद्यालय खुद को यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त बताकर मनमाना फीस वसूली करते हैं. पर सच्चाई रहती है कि उक्त विश्वविद्यालय सिर्फ मान्यता के लिए आवेदन ही करता है.

देखा जाता है कि ज्यादातर छात्र अच्छे अंक आने की वजह से भी फर्जीवाड़े में फंस जाते हैं.

इस तरह के फर्जीवाड़े से बचने के लिए कुछ खास बातों का ध्यान रखना जरूरी है –

1. लुभावने वादों की अनदेखी करना

2. शैक्षिक संस्थानों की मौजूदा रैंकिंग जानना

3. कॉलेज या विश्वविद्यालय मान्यता प्राप्त है या नहीं

4. कॉलेज में दाखिले का कटऑफ प्रतिशत क्या है

5. कॉलेज में विद्यार्थियों की संख्या

6. वेबसाइट के अलावा उसके सोशल मीडिया प्रेजेंस की जानकारी लेना

7. कॉलेज में रहने वालों के लिए क्या व्यवस्था है

8. फैकल्टी की सही जानकारी होना जरूरी

9. मौजूदा विद्यार्थियों के अलावा वहां से ग्रैजुएट हुए विद्यार्थियों से बातचीत कर जानकारी हासिल करें

10. कॉलेज की तमाम बुनियादी जानकारी जुटाना जरूरी

अगर आपने बच्चे की भर्ती से पहले इस तरह के रिसर्च कर लिए तो इस तरह के फर्जी कॉलेज व विश्वविद्यालयों के जाल में फंसने से बचने की पूरी संभावना रहती है.#FakeUniversities

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here