Home Health Care माइग्रेन से बचने के 5 कारगर इलाज

माइग्रेन से बचने के 5 कारगर इलाज

रक्‍तवाहिनियों का आकर जब बड़ा होने लगता है तो माइग्रेन की समस्या होती है. लेकिन आजकल वातावरण के चलते भी लोग इससे पीड़ित हो रहे हैं. Effective treatment to prevent migraine

लोगों के जीवनशैली में आजकल तेजी से बदलाव देखा जा रहा है. इससे कई प्रकार की हेल्थ समस्या अब आम होती जा रही है. माइग्रेन भी इसी कैटेगरी में आता है जो कि शुरुआत में सिरदर्द की तरह लगता है. लेकिन इसके लक्षण उससे हटकर होते हैं. इसमें सिर के किसी एक हिस्से में अजीब चुभन महसूस होती है जो पीड़ित व्यक्ति को बेचैन कर देती है. माइग्रेन (Effective treatment to prevent migraine) होने पर सिरदर्द के साथ-साथ गैस्टिक, जी मिचलाना, उल्टी, चक्कर आना, वीकनेस आदि की समस्या भी हो सकती है.

दरअसल, रक्‍तवाहिनियों का आकर जब बड़ा होने लगता है तो माइग्रेन की समस्या होती है. वहीं नर्व फाइबर्स से केमिकल लीक होने को भी इसका एक कारण माना जाता है. यह समस्या कई बार जेनेटिक होती है लेकिन आजकल वातावरण के चलते भी लोग इससे पीड़ित हो रहे हैं. स्ट्रेसफुल लाइफ और हार्मोनल चेंज के साथ-साथ नींद कम लेना या फिर अधिक स्मेल आदि के चलते भी लोग माइग्रेन के शिकार होते हैं. बता दें कि इसे अधकपारी भी कहा जाता है क्योंकि इसमें सिर के किसी खास हिस्से में गंभीर दर्द होता है.

आमतौर पर माइग्रेन (Effective treatment to prevent migraine) 72 घंटे तक रहता है और इतने समय खतरनाक रूप से दर्द देता है. कुछ लोगों को ये बार-बार होता है जो कि एक गंभीर समस्या है. डॉक्टरों की मानें तो डस्ट आदि से भी एलर्जी होने पर माइग्रेन की समस्या हो जाती है. मिला-जुलाकर जब आप शरीर के साथ लगातार असामान्य चीजें करते हैं और संकेतों को अनसुना करते हैं तो माइग्रेन के जरिए शरीर अलार्म देता है.

इसे भी पढ़ेंः दीपिका पादुकोण को ऐसे मिली डिप्रेशन से मुक्ति!

माइग्रेन का दर्द होता ही ऐसा है कि आपको चैन से बैठने नहीं देगा. डॉक्टर अमूमन इसका इलाज करते हुए पीड़ित व्यक्ति के सिरदर्द का आकलन करते हैं और वे ब्लड टेस्ट, सीटी स्‍कैन, एमआरआई टेस्ट करने की सलाह देते हैं. वहीं जरूरत होने पर स्‍पाइनल टेप भी की जा सकती है. जानकारी हो कि माइग्रेन (Effective treatment to prevent migraine) का पूरी तरह इलाज संभव नहीं है.

सलाह के अनुसार अपने रूटीन और रहन-सहन में सुधार लाएं. कई बार इसके कारण ब्रेन स्ट्रोक का खतरा भी होता है, जो कि जानलेवा साबित हो सकता है. यही कारण है कि हेल्थ को देखते हुए डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए. अगर आपको माइग्रेन की समस्या है या फिर इसकी आशंका है तो इसमें परहेज ही बेहतर इलाज है.

हम आपको यहां 5  कारगर उपाय बताने जा रहे हैं जो कि माइग्रेन (Treatment to prevent migraine) से आपको बचाए रख सकता है:

1. पर्याप्त नींद लें – Effective treatment to prevent migraine

शरीर को समय-समय पर रिलैक्स होने की जरूरत रहती है लेकिन कामकाज और जीवनशैली के कारण हम उसे रिलैक्स होने नहीं देते. यही कारण है कि ऐसी समस्या आजकल लगभग लोगों को आ रही है. आपको अगर सिरदर्द या फिर माइग्रेन की समस्या है तो भरपूर नींद लेने की कोशिश करें. अगर पूरी नींद लेंगे और रिलैक्स करेंगे तो माइग्रेन के चांस कम हो जाएंगे. इसीलिए नींद में कभी कटौती ना करें.

2. आंखों को भी रिलैक्स होने दें – Let the eyes relax

लोग मोबाइल, टीवी, लैपटॉप आदि पर जरूरत से ज्यादा चिपके रहते हैं, जो कि माइग्रेन को बुलाने के लिए काफी है. अगर उसे भगाना है या भगाए रखना है तो आंख को जरा आराम दें. आंख का कनेक्शन सीधे दिमाग के साथ रहता है इसलिए आंखों पर जोर देकर कोई काम ना करें. सनलाइट से भी बचकर रहें तो वहीं बेडरूम में तेज लाइट जलाकर ना सोएं.

3. बदलते मौसम में अलर्ट रहें – Stay alert in the changing weather

मौसम में बदलाव होते रहते हैं लेकिन बदलता मौसम माइग्रेन पीड़ित लोगों के लिए ठीक नहीं होता. तेज धूप हो या सर्दी-गर्मी, हिफाजत करें. सिर को कूल-कूल रहने दें। जरूरत पड़े तो आप सिर पर मेहंदी लगा सकते हैं जिससे कि रक्‍त धमनियां सही हो जाती हैं. अपने मन-मिजाज और हेल्थ को देखते हुए थोड़ा केयरफुल रहें.

4. आहार में कुछ बदलाव करें Change food habits

भोजन में पोषक की कमी के कारण भी माइग्रेन जैसी समस्या हो जाती है. ऐसे में सलाह दी जाती है कि आप मौसमी फलों का सेवन करें. हरे पत्‍तेदार सब्जियों, फलों का जूस तथा नियमित सलाद खाने पर माइग्रेन से निजात मिल सकता है. बता दें कि सोते समय त्रिफला व आंवले के चूर्ण का गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से लाभ मिल सकता है.

5. नियमित योग व मेडिटेशन करें – Do regular yoga and meditation

दिमाग जितना शांत और स्वस्थ रहेगा, माइग्रेन आपसे उतना ही दूर रहेगा. अगर आप पीड़ित हैं तो डॉक्‍टर की सलाह से मेडिसिन लें इसके साथ ही योग-मेडिटेशन भी करें जिससे कि ये समस्या आपसे हमेशा ही दूर रहे. (Effective treatment to prevent migraine)

बताते चलें कि माइग्रेन के केस में परहेज ही सही इलाज है और इसको ध्यान में रखते हुए कदम उठाएं. माइग्रेन को नजरअंदाज करना बेहद खतरनाक हो सकता है. मामूली सिरदर्द की तरह इसे हल्के में लेने की भूल ना करें. डॉक्टर से सलाह करें और ऊपर बताए उपायों को करते रहें. आप माइग्रेन को मात देने में पूरी तरह सफल हो सकते हैं. हैप्पी रहें, हेल्दी रहें!

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here