Home Annex Happy Birthday MS Dhoni: आखिर धोनी क्यूं हैं इतने कूल और ख़ास!

Happy Birthday MS Dhoni: आखिर धोनी क्यूं हैं इतने कूल और ख़ास!

जीवन में सफलता की कूंजी कड़ी मेहनत को ही माना जाता है. इसका जीता-जागता उदाहरण भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी हैं. Happy Birthday MS Dhoni

स्टार बनना किसे नहीं पसंद. हर कोई चाहता है कि एक दिन वह बहुत बड़ा स्टार बने और दुनिया भर में उसके चर्चे हो. हर जुबान पर एक ही नाम हो. लेकिन एक बात तो जरूरी है कि स्टार बनने के लिए सबसे पहले अपने फैंस का दिल जीतना जरूरी होता है. (MS Dhoni)

अगर आपने लोगों के दिलों पर राज कर लिया तो बस समझो स्टार बन गए. ऐसे ही हैं भारतीय क्रिकेट टीम के सफल कैप्टन कूल महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni). जिन्होंने क्रिकेट की दुनिया में अपार लोकप्रियता हासिल की. उनकी इस कामयाबी के पीछे ना सिर्फ धोनी की कड़ी मेहनत है बल्कि किस्मत ने भी उनका भरपूर साथ दिया है.

ms-dhoni

किस्मत ने भी दिया साथ – MS Dhoni

यह कहना अनुचित नहीं होगा कि धोनी की सफलता में उनकी किस्मत ने भी अहम भूमिका अदा की है. उनके लिए 7 नंबर लकी रहा है और उनका जन्मदिन भी इसी तारीख को है. अब जब धोनी के जन्मदिन की बात हो रही है तो थोड़ी सी चर्चा धोने के सफल करियर की भी कर ली जाए. क्रिकेट के किसी भी स्तर का बेहतर नेतृत्व करने की क्षमता से भरपूर धोनी हर किसी के फेवरेट स्टार हैं.

क्रिकेट के मैदान में खुद के बेहतर प्रदर्शन के साथ-साथ उन्होंने अपने कैप्टनशिप के लिए भी काफी वाहवाही हासिल की है. धोनी ना सिर्फ मैदान में बल्कि मैदान के बाहर भी कूल रहने वाले व्यक्ति हैं. सूझबूझ भरी कप्तानी, मैदान पर शांत रवैया व खेल में किसी भी तरह की जोखिम लेने को हमेशा तैयार रहने वाले धोनी युवाओं के आदर्श बन चुके हैं.

सिर्फ युवा ही नहीं क्रिकेट की समझ रखने वाले बच्चे भी उनके फैन बन चुके हैं. धोनी का जन्म (Dhoni’s Birthday) 7 जुलाई 1981 को झारखंड के रांची में हुआ था. पिता का नाम पान सिंह धोनी व माता का नाम देवकी देवी है. धोनी के भाई का नाम नरेंद्र व बहन का नाम जयंती है.

लंबे बालों के शौकिन धोनी – MS Dhoni

महेंद्र सिंह धोनी अभिनेता जॉन अब्राहम के फैन होने की वजह से उन्हें लंबे बाल रखना बहुत पसंद है. मैदान में उनके खेल के साथ ही लंबे बाल भी लोगों की आकर्षण का मुख्य केंद्र हुआ करता था. क्योंकि उनका लूक सबसे अलग था.

>> आपका बच्चा भी खेलता है क्रिकेट, फायदे जानें!

ये तो हुई बाल की बात. धोनी को जॉन की ही तरह तेज रफ्तार बाइक व कार में सफर करने का शौक रहा है. आज भी धोनी जब रांची अपने घर जाते हैं तो समय मिलते ही वे अपनी बाइक लेकर रांची के विभिन्न जगहों में चक्कर लगाते हैं. धोनी का कहना है कि बाइक पर घूमना उन्हं बहुत ही पसंद है.

बेहतर प्रदर्शन रही लोकप्रियता की वजह –

पूरी दुनिया के क्रिकेटर कैप्टन कूल व माही के नाम से मशहूर धोनी के मुरीद बन चुके हैं. धोनी ने यह साबित किया है कि ग्लैमर से भरपूर क्रिकेट की दुनिया में कस्बे या छोटे शहरों का रहने वाला युवा भी अपनी मेहनत के दम पर मुकाम हासिल कर सकता है. वर्ष 2010 में धोनी ने अपनी बचपन की दोस्त साक्षी रावत से शादी रचाई थी. अभी उनकी एक बेटी जीवा भी है.

यही वजह है कि धोनी आज इतने लोकप्रिय हैं. शुरुआत के दिनों में तो धोनी ने बल्लेबाज व विकेट कीपर के तौर पर भारतीय टीम में जगह बनाई थी. धोनी की श्रीलंका के खिलाफ खेली गई 183 रनों की शानदार पारी ने यह बता दिया था कि टीम इंडिया मात्र खिलाड़ी नहीं बल्कि देश को एक नया सितारा मिल गया है.

उस पारी में धोनी ने 10 छक्के व 15 चौके लगाए थे. भारतीय टीम के विकेट कीपर के तौर पर पहली बार किसी ने इतना रन बनाया था. धोनी से पहले टीम इंडिया को ऐसा कोई विकेट कीपर नहीं मिला था जो अपनी बल्ले के दम पर टीम को जीत दिला सके.

रिकार्ड जो है धोनी के नाम –

  • इन्हें दुनिया का सबसे बेहतरीन मैच फिनिशर के तौर पर जाना जाता है. कई मैच ऐसे रहे जिसे धोनी ने सिर्फ अपने दम पर जिताया है. धोनी के बल्ले में एक तरह का जादू है. धोनी के बल्ला पकड़ते ही चाहने वालों के चेहरे पर रौनक आ जाती है तो विरोधी टीम के गेंदबाज टेंशन में आ जाते हैं.
  • धोनी के नाम 7 नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए सबसे अधिक शतक लगाने का रिकार्ड है.
  • एक रिकार्ड यह भी है कि उन्होंने विकेटकीपर होते हुए भी 132 बॉल फेंक कर रिकार्ड बनाया था.
  • सबसे अधिक कमाई करने वाले क्रिकेटर भी धोनी रह चुके हैं.
  • बतौर कप्तान धोनी ने टी-20 फॉर्मेट में सबसे ज्यादा मैच जीत चुके हैं.

निजी जिंदगी में भी हैं कूल – MS Dhoni

  • बचपन के दिनों में धोनी को फुटबॉल खेलना पसंद था. अपनी स्कूल की टीम में वे गोलकीपर की भूमिका में थे.
  • उन्हें सेना की नौकरी भी बहुत पसंद थी. वर्ष 2011 में उनको भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल बनाया गया था.
  • धीरे-धीरे क्रिकेट में रूची बढ़ने पर धोनी ने इसी तरफ का रूख कर लिया.

महत्वपूर्ण तीन पारियां –

पाकिस्तान के खिलाफ (2004-05) – 148 रन (विशाखापतनम)

श्रीलंका के खिलाफ (2005-06) – 185 रन (जयपुर)

पाकिस्तान के खिलाफ (2005-06) – 148 रन (फैसलाबाद)

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे चहेते खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी के व्यक्तित्व से सभी को सीख लेनी चाहिए. किस तरह एक छोटे से शहर के रहने वाले धोनी ने अपनी कड़ी मेहनत के दम पर इतना बड़ा मुकाम हासिल किया. आज धोनी हर किसी के दिल पर राज करते हैं. परिश्रम के बल पर हर इंसान आगे बढ़ सकता है. पूरी लगन से अगर मुकाम हासिल करने की कोशिश की जाए तो सफलता जरूर हाथ लगती है. #HappyBirthdayMSDhoni

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here