Home Health Care 75 फीसदी लिवर खराब होने पर भी अमिताभ कैसे रहते हैं फिट!

75 फीसदी लिवर खराब होने पर भी अमिताभ कैसे रहते हैं फिट!

बॉलीवुड के सबसे चहेते सुपर स्टार अमिताभ बच्चन इन दिनों फिर से कौन बनेगा कड़ोरपति को लेकर काफी चर्चा में हैं. अपने दमदार अभिनय के बल पर अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) हर किसी के दिलों पर राज करते हैं.

Amitabh Bachchan

76 वर्षिय अमिताभ बच्चन के फिटनेस को देखकर यह अंदाजा लगाना मुश्किल है कि वे अपने स्वास्थ्य को लेकर संघर्ष कर रहे हैं. उन्हें एक नहीं बल्कि कई गंभीर बीमारियां है.

जी हां उन्होंने अपनी बीमारी को लेकर एक खुलासा किया है. स्वास्थ्य संबंधी एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे अमिताभ बच्चन ने खुद बताया कि उनके लिवर का 75 फीसद हिस्सा खराब हो चुका है.

वे मात्र 25 फीसद हिस्से के सहारे अपनी जिंदगी जी रहे हैं. इस बात की जानकारी बिग बी ने हेल्थ मिनिस्ट्री की तरफ से हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) को रोकने के मुहिम में उनको ब्रांड अंबेसडर बनाए जाने के अवसर पर दी थी.

उन्होंने कहा कि एक आदमी को चलने-फिरने और स्वस्थ रहने के लिए 12 प्रतिशत लिवर का काम करना भी काफी है. उन्होंने लोगों से अपील की है वे अपने बच्चों को हेपिटाइटिस बी (Hepatitis B) का टीका जरूर लगवाएं ताकि इस बीमारी को पूरी तरह से खत्म किया जा सके.

टीबी की बीमारी से भी हैं ग्रस्त –

उन्होंने बताया कि उन्हें ट्यूबरक्यूलोसिस (टीबी) की बीमारी है. लेकिन इस बीमारी का पता उन्हें 8 वर्ष बाद चला. जिसका वे इलाज करा रहे हैं.

इसलिए उन्होंने लोगों को नियमित जांच के प्रति जागरूक होने की सलाह दी है. उनका कहना है कि नियमित जांच करवाते रहने से किसी भी बीमारी को शुरूआत के दिनों में ही पकड़ पाना संभव होता है.

नहीं तो बीमारी का पता देरी से चलने पर वह गंभीर रूप धारण कर लेती है. इसलिए हर किसी को नियमित जांच करवानी चाहिए.

हेपेटाइटिस बी से भी हैं पीड़ित –

सीनियर बच्चन हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) जैसी गंभीर बीमारी से भी पीड़ित हैं. इस बारे में उन्होंने बताया कि कुली फिल्म की शूटिंग के दौरान जब वे जख्मी हुए थे तो उन्हें खून चढ़ाया गया था.

उनकी जान बचाने के लिए अस्पताल में कई सारे लोगों ने अपना खून दिया था. जिसमें से कोई व्यक्ति हेपेटाइटिस बी का मरीज था. उसी खून के माध्यम से उनके शरीर में हेपेटाइटिस-बी का वायरस चला गया था.

हेपेटाइटिस बी की वजह से उनका लिवर 75 फीसद तक खराब हो गया. लेकिन इसकी जानकारी उन्हें 20 वर्षों बाद वर्ष 2000 में चेकअप के दौरान मिली थी. अभी वे मात्र 25 फीसद लिवर पर ही जीवित हैं.

युवाओं से भी ज्यादा रहते हैं एक्टिव –

अमिताभ बच्चन ने 70 के दशक में फिल्मी करियर की शुरूआत की थी. आज वे बॉलीवुड के महानायक कहे जाते हैं. इतनी अधिक उम्र में भी वे युवाओं से ज्यादा काम कर लेते हैं.

महानायक का कहना है 75 फीसद लिवर खराब होने के बावजूद वो बिल्कुल फिट हैं और रोजमर्रा के कामों में पूरी तरह व्यस्त रहते हैं.

उन्होंने लोगों से अपील की है वे अपने बच्चों को हेपिटाइटिस बी का टीका जरूर लगवाएं, ताकि इस बीमारी को पूरी तरह से खत्म किया जा सके.

उनका लिवर मात्र 25 फीसद ही सही है और इसी के सहारे उनके शरीर में कमाल की एनर्जी देखने को मिलती है. अब आपके मन में हो रहा होगा कि स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित होने के बाद भी वे अपने को इतना फिट कैसे रखते हैं.

आइए बताते हैं बिग बी के फिटनेस का राज – Hepatitis B

अपने व्यस्त शिड्यूल में भी अमिताभ बच्चन जिम को प्राथमिकता देते हैं. वे कितने बी व्यस्त रहें लेकिन जिम जाना वे कभी नहीं भूलते. जिम जाने के साथ ही वे खानपान का भी पूरा ख्याल रखते हैं.

वे जंक फूड व तली-भुनी चीजों से हमेशा दूर रहते हैं. सुबह उठकर वे 2 ग्लास पानी जरूर पीते हैं. इसके अलावा 15 मिलीलीटर आंवले का रस पानी में मिलाकर लेते हैं।

उनकी डाइट में ग्रीन टी विशेष तौर पर रहती ही है. सुबह नाश्ते में वे इडली, एक कटोरी सांभर व दूध लेते हैं. नाश्ते व लंच के बीच एक मौसमी फल व ग्रीन टी जरूर लेते हैं.

दोपहर का खाना –

1. दोपहर के खाने में अमिताभ सलाद, चावल, मल्टीग्रेन रोटी, दाल व सब्जी लेते हैं.

2. डिनर में लेते हैं हल्का भोजन –

3. अमिताभ डिनर में पनीर की भुजिया वाला सैंडविच और सलाद लेते हैं. रात को रोजाना रूटीन के साथ वे दूध जरूर पीते हैं.

क्या है हेपेटाइटिस बी?

हेपेटाइटिस बी एक वायरस है, जो रक्त व शरीर के तरल पदार्थों से फैलता है. यह लिवर को बुरी तरह संक्रमित करता है.

यह संक्रमण लंबे समय तक रहने पर यह लिवर को संक्रमित करता है. इसके लक्षण फ्लू की तरह होते हैं. हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) एक संक्रामक बीमारी है.

इस बीमारी से अन्य लोगों के संक्रमित होने की भी संभावना रहती है. हेपेटाइटिस के जितने भी वायरस हैं, उनमें सबसे खतरनाक वायरस ‘बी’ माना जाता है.

Liver Problem

हेपेटाइटिस बी के लक्षण – Hepatitis B

1. अत्यधिक थकान महसूस होना.

2. उल्टी व दस्त की समस्या रहना.

3. त्वचा व आंखों के सफेद भाग का रंग पीला पड़ जाना.

4. मूत्र का रंग गहरा होना.

5. सिर दर्द होना.

6. भूख नहीं लगना व पेट में पानी भर जाना.

7. वायरस के कारण हल्का बुखार रहना.

8. कई बार क्रोनिक हेपेटाइटिस बी से ग्रस्त होने वाले व्यक्ति के लक्षण नजर न आना.

हेपेटाइटिस बी के कारण –

1. संक्रमित मां के रक्त से नवजात शिशु के संपर्क में आने से बच्चे के भी संक्रमित होने की संभावना रहती है.

2. संक्रमित खून चढ़ाने से.

3. सभी पैरामेडिकल व डॉक्टर्स मरीजों के घावो के इलाज के समय या ऑपरेशन के समय या रक्त जांच करवाते समय.

4. किसी चोट लगे व्य.क्ति के खून के संपर्क में आने पर.

5. संक्रमित सुई चूभ जाने या रक्त के हाथ पर गिर जाने पर.

ऐसे बरतें सावधानी – Hepatitis B

हमेशा सुरक्षित, कीटाणु रहित नई सिरिंज का उपयोग करें. ग्ला.स सिरिंज व सुई को कम से कम 15-20 मि. तक उबाल कर उपयोग करें.

रक्त चढ़ने से पूर्व जांच कर लें कि रक्त की हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) वायरस की जांच की हुई है या नहीं.

इस वायरस को पूरी तरह से शरीर से खत्म नहीं किया जा सकता. लेकिन दवाओं के जरिए इसे कंट्रोल में लाया जा सकता है. इसलिए समय रहते इसका पता लगाना जरूरी है. अन्यथा यह गंभीर रूप धारण कर लेता है. #HepatitisB

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here