बच्चे के साथ जा रहे हैं श्रावणी मेले में, तो इसे जरूर पढ़ें!

    बच्चे को लेकर अगर श्रावणी मेले में जा रहे हैं तो उसकी सुरक्षा के लिए विशेष सावधानी जरूर बरतें. क्योंकि जरा सी असावधानी आपको मुश्किलों में डाल सकती है. Shravani Mela In Deoghar

    122
    0

    सावन के इस पावन महीने में देवघर में शिव भक्तों का हुजूम उमड़ता है. श्रावणी मेले (Shravani Mela In Deoghar) का दिन करीब आते ही शिवभक्तों के मन में भोलेनाथ के दर्शन करने की उमंगें तोज हो जाती है.

    baba baidyanath dham

    इस वर्ष श्रावणी मेला (Shravani Mela In Deoghar) 17 जुलाई से 15 अगस्त तक चलेगी. झारखंड के देवघर में लगने वाले इस मेले में आने वाले कांवड़ियों की भीड़ रोजाना लाखों में होती है. हर तरफ बोलबम बोलबम के नारे लगते रहते हैं.

    सावन का महीना बहुत ही खुशनुमा होता है. जिधर देखों उधर कांवरियों की धूम रहती है. जितनी भारी संख्या में यहां श्रद्धालु जुटते हैं, उस अनुपात में इसे महाकुंभ से कम नहीं कहा जा सकता.

    इस मेले का सीधा संबंध बिहार के सुल्तानगंज से होता है. यहां स्थित गंगा नदी से जल लेकर कांवड़ियों का जत्था नंगे पैर बाबा के जयकारे के साथ देवघर की यात्रा आरंभ करते हैं.

    देवघर स्थित शिवलिंग का खास महत्व है. शास्त्रों में इसे मनोकामना लिंग कहा गया है. वैद्धनाथ धाम के नाम से प्रसिद्ध यह देश के 12 अतिविशिष्ट ज्योतिर्लिंगों में से एक है.

    कई ऐसे लोग हैं जो सावन के महीने में कई वर्षों से लगातार देवघर बाबा का जलाभिषेक करने जाते हैं. श्रद्धालुओं के देवघर जाने की तैयारी महीनों पहले से शुरू हो जाती है.

    मेले का बाजार के साथ भी है नाता – Shravani Mela In Deoghar

    क्या आप जानते हैं कि देवघर में लगने वाले इस श्रावणी मेले (Shravani Mela In Deoghar) के साथ बाजार का अर्थशास्त्र जुड़ा है. कई उद्योग ऐसे हैं जिन्हें जीवित रखने के लिए यह मेला काफी है.

    देवघर जाने वालों के लिए वहां जाने से पहले बहुत सारी तैयारियां करनी होती है. जिसमें सबसे प्रमुख है नया कपड़ा, तौलिया, चादर, दो जल पात्र, अगरबत्ती, मोमबत्ती व माचिस आदि.

    इन तमाम चीजों की खरीदारी में प्रत्येक कांवरिये पर कम से कम हजार रुपये की खरीदारी होती है. यानी श्रद्धालुओं के देवघर जाने से ये तमाम उद्योग जीवित होते हैं.

    इसके अलावा रास्ते में चाय, ठंडा पेय, खाद्य की भी काफी बिक्री होती है. वहीं देवघर में जलाभिषेक के बाद पेड़ा, बिंदी, चूड़ी, सिंदूर आदि समेत अन्य चीजों की खरीदारी होती है.

    >> महाशिवरात्रि: ऐसे करें शिव-पार्वती की आराधना

    अगर आप वहां जुटने वाले श्रद्धालुओं की संख्या के अनुसार इन सामानों की खरीदारी की बात करें तो करीब 1 हजार करोड़ की यह खरीदारी होती है.

    बहुत सारे लोग ऐसे हैं जो पूरे परिवार के साथ कांवड़ लेकर देवघर (Shravani Mela In Deoghar) जाते हैं. परिवार वालों को विशेष सावधानी बरतनी होती है. क्योंकि मेले में भीड़ अधिक होने पर परिवार का कोई सदस्य कहीं बिछड़ नहीं जाए.

    Paag Kanwariya

    हालांकि श्रावणी मेले में जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए प्रशासन की तरफ से विशेष तैयारी की गई है. किसी को कोई दिक्कत ना हो और मेला पूरी तरह सफल हो इसके लिए मेले की सुरक्षा व्यवस्था पर पूरी निगरानी रखी जाती है.

    अब ध्यान देने वाली बात है कि अगर आप भी बच्चे के साथ श्रावणी मेले में जा रहे हैं तो फिर सावधानी बरतने की जरूरत है–

    1. बच्चे को ले जाने से बचें – Shravani Mela In Deoghar

    पहले तो आपका यह जानना जरूरी है कि इस मेले में लाखों-लाख लोगों की भीड़ उमड़ती है. महाकुंभ की तरह जनसैलाब वाले इस मेले में बच्चों को नहीं ले जाना ही समझदारी है. क्योंकि इतनी ज्यादा भीड़ में खुद के संभालना ही कितना मुश्किल हो जाता है. उपर से अगर बच्चे साथ हैं तो जिम्मेवारी और बढ़ जाती है. और अपने से ज्यादा आपको बच्चे का ख्याल रखना होता है.

    2. बच्चे के साथ अपना फोन नंबर व पहचान पत्र रखें –

    अगर आप बच्चे को साथ लेकर जा ही रहे हैं तो फिर कुछ तैयारियां पहले से ही रखें. ताकि अगर भीड़ में बच्चा गुम जाए तो उसे आसानी से ढ़ूंढ़ा जा सके.

    जैसे बच्चे के पास अपना व हो सके तो घर के किसी अन्य सदस्यों का भी नंबर रखें. ऐसे में अगर बच्चा खो जाए तो कोई भी व्यक्ति फोन के माध्यम से आपको बच्चे से मिलवा सकता है.

    3. सहायता केंद्र का सहारा लें – Shravani Mela In Deoghar

    हर मेले (Shravani Mela In Deoghar) में प्रशासनिक तौर पर व स्वयंसेवी संगठनों द्वारा सहायता केंद्र की व्यवस्था रहती है. बच्चे के गुम हो जाने पर घबराएं नहीं बल्कि तुरंत ही इन सहायता केंद्रों से संपर्क साधें. यहां ड्यूटी पर तैनात पुलिस अधिकारी व स्वयं सेवी संगठनों के लोग इसमें आपकी पूरी मदद करेंगे.

    4. बच्चे को मेले में कहीं अकेला छोड़ने से बचें –

    कई बार देखा जाता है कि मेले में लोग बच्चे को कहीं खड़ा करके कुछ लेने चले गए. वापस आने पर देखते हैं कि बच्चा वहां से गायब है. इसमें कई बार बच्चे की चोरी का मामला प्रकाश में आता है. बच्चे को अकेला देखकर कोई उसे बहला-फुसला कर ले जाते हैं. ऐसे मामलों में बच्चे का पता लगाना बड़ा मुश्किल काम होता है.

    5. बच्चे पर पूरी निगरानी रखना जरूरी –

    इस मेले में भीड़ तो बहुत ज्यादा रहती है इसलिए बच्चा अगर साथ में है तो उस पर विशेष निगरानी रखना जरूरी होता है. ध्यान रखें कि बच्चा इधर-उधर भटके नहीं. अन्यथा उसके बिछड़ने पर आपका मेला का मजा ही किरकिरा हो जाएगा.

    6. ऐप से भी मिलेगी सहायता – Shravani Mela In Deoghar

    मेला का आनंद के लिए श्रावणी मेला ऐप भी उपलब्ध है. ‘श्रावणी मेला 2019’ ऐप को डाउनलोड करके आप इस मेले से संबंधी तमाम जानकारियां हासिल कर सकते हैं.

    इस मोबाइल ऐप की खासियत है कि एक तो आप इसमें गंगा आरती समेत मेले का लाइव वीडियो देख सकते हैं. इसके अलावा किसी आपात स्थिति में एसओएस विकल्प पर क्लिक करके मदद लेने की भी सुविधा उपलब्ध है.

    जैसे अगर बीमार हो गए तो यहां से एंबुलेंस के विकल्प पर जाकर कॉल भी कर सकते हैं. इन सबके अलावा पीने का पानी, शौचालय, नियंत्रण कक्ष बाथरूम व पुलिस स्टेशन आदि की जानकारी भी आपको यहां से मिल सकती है.

    >> गंगासागर मेले में बच्चे भी हैं साथ, तो ऐसे बरतें सावधानी!

    मेले के लिए जसीडीह-सुल्तानगंज में बढ़ाया गया ट्रेनों का ठहराव

    श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए पूर्व मध्य रेलवे की तरफ से भी विशेष व्यवस्था की गई है. जैसे जसीडीह व सुल्तानगंज में कई महत्वपूर्ण ट्रेनों के ठहराव में बढ़ोत्तरी की गई है.

    इसके अलावा कई स्पेशल ट्रेनें भी दी गई है. वहीं श्रावणी मेले के दौरान कई जसीडीह पर कई ट्रेनों का ठहराव पांच मिनट किया गया है.

    स्पेशल ट्रेन की भी व्यवस्था –

    16 जुलाई से 15 अगस्त के लिए पटना-गया-पटना श्रावणी मेला स्पेशल ट्रेन का परिचालन शुरू किया है. फिर जसीडीह के लिए भी श्रावणी मेला स्पेशल ट्रेन 16 जुलाई से शुरू की गई है.

    सावन के सोमवार का विशेष महत्व है. यही वजह है कि इस महीने में शिवशंकर के धाम देवघर में श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ता है. आप भी अगर मेले में अपने बच्चे व परिवार के साथ जा रहे हैं तो विशेष सावधानी बरतें. ताकि आपकी यह यात्रा सुखद रहे. #ShravaniMela

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here