Home Health Care ज्यादा इस्तेमाल किया मोबाइल फोन तो सिर पर उगेंगे ‘सींग’

ज्यादा इस्तेमाल किया मोबाइल फोन तो सिर पर उगेंगे ‘सींग’

माना कि मोबाइल फोन ने लोगों के जीने का नजरिया बदल दिया है. लेकिन इसका जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल मानव शरीर के लिए घातक सिद्ध हो रहा है. Side effects of mobile

321
0

मोबाइल फोन ने लोगों के जीने का तरीका ही बदल दिया है. यह हमारी जिंदगी (Side effects of mobile) पर इस तरह हावी है कि उसके बिना एक पल भी जीना मुश्किल सा लगता है. यह छोटी सी डिवाइस कितनी सारी समस्याओं का समाधान करती है.

mobile-use

जैसे किसी से बात करना हो तो, पढ़ाई करनी हो तो, खेलना हो तो शॉपिंग करनी हो तो. ऐसे बहुत सारे काम है जो हम मोबाइल फोन के सहारे बहुत आसानी से कर लेते हैं. इससे तो साफ है कि मोबाइल ने लोगों की जिंदगी पूरी तरह बदल दी है.

लेकिन क्या आप जानते हैं कि हमारी तमाम छोटी-मोटी जरूरतों को पूरा करने वाला यह डिवाइस हमारे मस्तिष्क के कंकाल को भी बुरी तरह प्रभावित कर रहा है. विश्वास नहीं हो रहा ना लेकिन यह बात बिल्कुल सत्य है. मोबाइल फोन हमारी हड्डियों के ढ़ांचे को ही बदल (Side effects of mobile) रही है. ऐसा उनके साथ होता है जो लोग मोबाइल का इस्तेमाल बहुत ज्यादा करते हैं.

सिर पर उग आते हैं सींग – Side effects of mobile

जैव यांत्रिकी पर किए गए एक शोध में पता चला है कि सिर को ज्यादा देर तक झुकाकर मोबाइल इस्तेमाल करने लोगों के सिर में सींग (Side effects of mobile) विकसित हो रहे हैं. यह रिसर्च घंटों मोबाइल पर व्यस्त रहने वाले 18-30 वर्ष के युवाओं पर किया गया है.

>> क्या आपके बच्चे को भी बीमार बना रहा सोशल मीडिया!

रिसर्च ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड स्थित सनशाइन कोस्ट यूनिवर्सिटी में किया गया है. शोध रिपोर्ट में 1200 लोगों के एक्स-रे को भी शामिल किया गया. जिसमें 33 फीसदी लोगों में सींग जैसी हड्डी का पता चला है.

रिसर्च के अनुसार जो लोग सिर को ज्यादा झुकाकर मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं उन्ही की खोपड़ी में सींग जैसी रचना (Side effects of mobile) विकसित हो रही है. शोध में बताया गया है कि जब हम झुक कर मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं तो उस वक्त शरीर का वजन रीढ़ की हड्डी से शिफ्ट होकर सिर के पीछे स्थित मांसपेशियों तक पहुंच जाता है.

जिसकी वजह से कनेक्टिंग टेंडर व लिगामेंट्स में हड्डी विकसित होने लगती है. यही हड्डी सींग का आकार धारण कर लेती है. यह गर्दन के ठीक ऊपर की तरफ खोपड़ी से बाहर निकली हुई रहती है.

हड्डी बढ़ कर हो जाती है सींग जैसी – Bone increases as horn

वॉशिंगटन टाइम्स की खबर के अनुसार खोपड़ी के निचले हिस्से में एक कांटेदार हड्डी को देखा गया है. हड्डी का आकार सींग की तरह है. चिकित्सक के मुताबिक मानव खोपड़ी का वजन करीब साढ़े चार किलोग्राम होता है.

सामान्यतः मोबाइल का इस्तेमाल करते वक्त लोग अपने सिर को आगे-पीछे की तरफ हिलाते रहते हैं. जिससे गर्दन के निचले हिस्से की मांसपेशियों में खिंचाव आता है. जिसकी वजह से हडिड्यां बाहर की तरफ निकल जाती है और इसका आकार किसी सिंग की तरह होता है.

>> आपका बच्चा डिप्रेशन का शिकार तो नहीं है? जानिए ऐसे!

शोधकतार्ओं का यह भी कहना है कि सिर्फ स्मार्टफोन ही नहीं बल्कि इसकी तरह के अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस मानव स्वरूप को बदल रहे हैं. छोटी स्क्रीन पर देखने के लिए यूजर को अपना सिर झुकाना पड़ता है. जिसका रिजल्ट सींग के रूप में उभर कर आता है. सिर के निचले हिस्से में दिखने वाली हड्डी किसी सींग की तरह ही लगती है.

महिला से ज्यादा पुरुष हैं प्रभावित – Side effects of mobile

शोधकर्ताओं का पहला पेपर जर्नल ऑफ एनाटॉमी में वर्ष 2016 में प्रकाशित हुआ था. जिसमें 18-30 साल की उम्र के 216 लोगों के एक्स-रे को शामिल किया गया था. रिसर्च में 41 फीसदी युवा व्यस्कों के सिर की हड्डी में वृद्धि देखी गई. खोपड़ी के पहले वाले नाप की तुलना में बाद वाला नाप अधिक पाया गया था.

महिलाओं की तुलना में पुरुष इस बीमारी से सबसे ज्यादा प्रभावित मिले थे. वर्ष 2018 में इसका दूसरा पेपर पेश हुआ था जिसमें केस स्टडी के लिए चार टीनएजर्स को लिया गया था. शोध में पता चला था कि इन टीनएजर्स के सिर पर सींग अनुवांशिक नहीं बल्कि खोपड़ी व गर्दन पर पड़ रहे दबाव की वजह से थी.

शोधकर्ताओं ने सबूत भी किए पेश – Side effects of mobile

अपने अध्ययन में आई जानकारी को पुख्ता बनाने के लिए शोधकार्ताओं ने एक स्कैन किया हुआ चित्र भी दिखाया है. चित्र में साफ-साफ खोपड़ी के निचले हिस्से में सींग (Horn on Human Head) दिखाई दे रहा है.

मानव शरीर पर पड़ रहा बुरा प्रभाव – Bad effects on human body

शोधकर्ताओं का मानना है कि मोबाइल फोन मानवीय स्वरूप को बदल रहे हैं. इनका दावा है कि प्रौद्योगिकी के मानव शरीर पर होने वाले प्रतिकूल प्रभाव का यह अपने तरीके का पहला शोध है.

बच्चे भी हो रहे शिकार – Horn on Human Head

वर्ष 2016 के बाद वर्ष 2018 में शोधकर्ताओं ने अपना दूसरा पेपर पेश किया था. उस पेपर में चार किशोरों का केस स्टडी सामने रखा गया था. उन चारो किशोरों के सिर पर सींग निकले हुए थे. हालांकि शोधकार्ताओं ने इसके पीछे अनुवांशिकता का काऱण होने के इंकार किया है. उनका दावा है कि इन बच्चों के सिर पर यह सींग जैसी रचना गर्दन के दबाव के कारण ही आए हैं.

इस आलेख को पढ़कर आपको यह तो पता चल ही गया होगा कि मोबाइल हमारे लिए जितना फायदेमंद है उतना ही घातक भी. इसलिए कोशिश करें कि इस तरह की डिवाइस का इस्तेमाल जरूरत से ज्यादा मत करें. अन्यथा यह आपके लिए भी समस्या का कारण बन सकती है. #HornOnHead

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here