Home Pregnancy आपको भी है स्ट्रेचमार्क्स की समस्या? तो ऐसे पाएं निदान!

आपको भी है स्ट्रेचमार्क्स की समस्या? तो ऐसे पाएं निदान!

गर्भावस्था के दौरान शरीर में खिंचाव से स्ट्रेचमार्क्स की समस्या आम है लेकिन यह काफी भद्दा दिखता है. जानिए कैसे इसका निदान संभव है!

212
0

गर्भावस्था (Pregnancy) के दौरान किसी भी महिला का वजन बढ़ जाता है. अगर वजन बढ़ती है तो शरीर में खिंचाव आना तो सामान्य सी बात है. यह खिंचाव त्वचा के उपरी परत के साथ-साथ अंदरूनी परत में भी आती है. इस खिंचाव की वजह से शरीर के विभिन्न अंगों जैसे पेट, पीठ, ब्रेस्ट, जांघों, बाजू व कूल्हों पर भूरे रंग की बहुत सारी लाइन्स दिखाई देने लगती है और इसे ही स्ट्रेचमार्क्स कहा जाता है. महिला का वजन बढ़ने के साथ-साथ यह निशान भी बढ़ता रहता है और यह दिखने में काफी भद्दा होता है. क्या आपको इस समस्या का समाधान मालूम है या फिर समय रहते इससे कैसे बचा जा सकता है.

डिलीवरी के पहले या बाद में स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से बचने के लिए हम आपको कुछ जरूरी टिप्स बताने जा रहे हैं:

source: agoramedia

प्रेगनेंसी के दौरान ऐसे बचें स्ट्रेचमार्क्स सेः

1. स्किन की नमी को रखें बरकरारः

प्रेगनेंसी के दौरान त्वचा की कोमलता को बरकरार रखने के लिए आपको तेल से मसाज करना जरूरी है. जैसे नारियल तेल, विटामिन ई व जैतून के तेल से मसाज करना आपके लिए लाभदायक होगा क्योंकि इन तेलों से मसाज करने पर आपके शरीर को पर्याप्त पोषण मिलता है और त्वचा में कोलेजन को बरकरार रहने में सहायता मिलती है. जिसके परिणामस्वरूप आपको इस समस्या से राहत मिलती है. मॉइस्चराइजर, शिया बटर, कोकोआ बटर का इस्तेमाल करना भी फायदेमंद होता है. पर हां, मसाज करते वक्त यह भी ध्यान रखें कि पेट पर किसी तरह का दबाव ना डालें और ना ही तेजी से मसाज करें.

2. हाइड्रेट रहेः

प्रेगनेंसी (Pregnancy) के दौरान आपके शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा का रहना बहुत जरूरी है क्योंकि पानी स्किन की कोमलता को बरकरार रखता है. शरीर में अगर पानी भरपूर हो तो इससे स्किन को हाइड्रेट रहने में तो मदद मिलती ही है, यह आपको ऊर्जावान भी बनाए रखता है. शरीर में अगर पानी की कमी ना रहे यानी भरपूर पानी रहने पर वह शरीर में स्थित विषैले पदार्थों को भी बाहर निकालता है. इसलिए गर्भावस्था के दौरान पानी का भरपूर सेवन करने से इस समस्या से बचाव में सहायता मिलेगी.

source:healthline

3. वजन पर नियंत्रण जरूरीः

गर्भावस्था (Pregnancy) के दौरान वजन बढ़ना तो आम बात है लेकिन वजन अगर ज्यादा तेजी से बढ़े तो यह स्ट्रेचमार्क्स की परेशानी को भी बढ़ा देती है. इसलिए माना जाता है कि प्रेगनेंसी के दौरान थोड़ी-थोड़ी देर के अंतराल पर खाना लेना सही होता है. एक बार में खा लेने पर भोजन को सही से हजम होने की समय नहीं मिलता. अगर आप ज्यादा मीठी चिजों का सेवन नहीं करती हैं और शरीर में पानी की मात्रा भी सामान्य रहे तो आपका वजन नियंत्रित रहता है और आप स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से बच सकती हैं.

4. खुजली में क्रीम का व्यवहार करेः

कई बार ऐसा देखा जाता है कि प्रेगनेंसी (Pregnancy) के दौरान खुजली की समस्या भी शुरू हो जाती है पर आपको ध्यान रखना होगा कि स्किन पर खुजली बिल्कुल ना करें. खुजली करने से भी त्वचा पर निशान पड़ने की संभावना रहती है. इसलिए खुजली होने पर आप चिकित्सक की सलाह से किसी क्रीम का इस्तेमाल कर सकती हैं जिससे आपको स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से निजात मिले.

5. पोषणयुक्त आहार जरूरीः

प्रेगनेंसी (Pregnancy) के दौरान गर्भवती महिला के साथ-साथ गर्भ में पल रहे शिशु का भी स्वस्थ रहना जरूरी है. इसके लिए जरूरी है आपका पोषणयुक्त आहार का सेवन करना. पोषणयुक्त खाना खाने से शरीर के साथ त्वचा भी स्वस्थ होती है और अगर त्वचा स्वस्थ होगी तो स्ट्रेचमार्क्स की भी कोई समस्या नहीं होगी.

source: parents.com

डिलीवरी के बाद ऐसे बचें स्ट्रेचमार्क्स सेः

1. अंडे का सफेद भागः

डिलीवरी के बाद अगर आपको स्ट्रेचमार्क्स की समस्या हो तो उसके इलाज के लिए प्रोटीन से भरपूर अंडे के सफेद भाग का इस्तेमाल किया जा सकता है. इसके लिए आप दो अंडे को फोड़ लें और उसके सफेद हिस्से को अलग कर लें फिर उसे स्ट्रेचमार्क्स मार्क्स पर लगा कर उसे कुछ देर के लिए सूखने दें. जब यह अच्छी तरह सूख जाए तो उसे साफ पानी से धोने के बाद पानी को सूखने दें फिर उस पर किसी क्रीम या मॉइस्चराइजर लगा लें. इससे आपके स्ट्रेचमार्क्स के निशान दूर हो जाएंगे.

2. नींबूः

स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से निजात दिलाने में नींबू का रस बहुत कारगर सिद्ध होता है. यह त्वचा पर जमें मृत कोशिकाओं को खत्म करने में भी मदद करती है. सबसे पहले आप नींबू का रस एक कटोरी में निकाल लें और फिर उसे रुई की सहायता से स्ट्रेचमार्क्स पर लगाएं। उसके बाद जब त्वचा इसे अवशोषित कर लेगी फिर आप गुनगुने पानी का इस्तेमाल कर इसे अच्छी तरह साफ कर लें. धीरे-धीरे आपके स्ट्रेचमार्क्स के निशान मिट जाएंगे.

3. मसाजः

स्ट्रेचमार्क्स पर अगर नारियल, बादाम, अरंडी व जैतून के तेल से रोजाना 10 मिनट मसाज किया जाए तो स्ट्रेचमार्क्स के निशान को मिटाने में काफी हद तक फायदा होता है. हालांकि नारियल तेल इस समस्या का सही उपचार है क्योंकि यह जल्दी असर करता है.

source: healthline

4. एलोवेरा व कॉफी का पेस्टः

स्ट्रेचमार्क्स के निशान से छुटकारा पाने के लिए आप तीन से चार चम्मच एलोविरा जेल के साथ कॉफी मिलाकर पहले पेस्ट तैयार कर लें. फिर इसे स्ट्रेचमार्क्स पर लगाकर 5-6 मिनट तक मसाज करने के बाद इसे सूखने दें। जब यह अच्छी तरह सूख जाए तब साफ पानी से धो लें. कुछ दिनों तक ऐसा करने से आपको इस निशान से निजात मिल जाएगी.

5. विटामिन ईः

स्किन में मौजूद कोलेजन को नष्ट होने से बचाने में एंटी ऑक्सीडेंट युक्त विटामिन ई का तेल काफी असरदार साबित होता है.इसके स्किन को पोषण भी मिलता है. इसके लिए आप हाथों में विटामिन ई का तेल लेकर उसे स्ट्रेचमार्क्स पर हल्के हाथों से 15-20 मिनट तक मसाज करें. रोजाना कुछ दिनों तक इस पद्धति को अपनाने से निशान मिलने में फायदा जरूर मिलेगा.

6. आलूः

आलू में मौजूद पोषक तत्व स्ट्रेचमार्क्स की समस्या समाधान में काफी मददगार होता है. इसका इस्तेमाल करने के लिए आलू की स्लाइसेस काट कर या आलू के रस को अपने स्ट्रेचमार्क्स पर अच्छे ले लगा लें. आलू के रस को त्वचा द्वारा अवशोषित करने के बाद आप उसे अच्छे से धो लें और फिर किसी मॉइस्चराइजर को स्किन पर लगा लें. ऐसा नियमित करने पर आपको स्ट्रेचमार्क्स के निशान मिटाने में मदद मिलेगी.

ये कुछ टिप्स जो आपकी प्रेगनेंसी के दौरान स्ट्रेचमार्क्स जैसी समस्या का निदान दिलाने में बहुत कारगर सिद्ध होंगे. बताए गए टिप्स का इस्तेमाल आप डिलीवरी के पहले या बाद में कर सकती हैं. स्ट्रेचमार्क्स की समस्या से बचने के लिए सबसे बेहतर उपाय यह है कि आप प्रेगनेंसी के दौरान पानी का भरपूर सेवन व आहार में पोषक तत्वों को शामिल करें ताकि आपको स्ट्रेचमार्क्स की समस्या ना हो. ‘योदादी’ के साथ अपने अनुभव को कमेंट कर जरूर शेयर करें. #मॉम्सकेयर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here