Home Tags Education

Tag: education

सावधान…कहीं आप इन फर्जी विश्वविद्यालयों के चक्कर में तो नहीं है!

बच्चे को कॉलेज व विश्वविद्यालय में भर्ती से पहले उस संस्थान के बारे में तमाम जानकारी हासिल करें. अन्यथा आप भी फर्जी विश्वविद्यायलों के झांसे में फंस सकते हैं. UGC Fake Universities

आखिर विक्रम साराभाई को क्यों कहते हैं ‘अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक’!

भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम को नई उंचाई देने वाले वैज्ञनाकि साराभाई थे. इन्हें भारतीय वैज्ञनिक क्षेत्र की रीढ़ भी कहा जा सकता है. Vikram Sarabhai Birthday

CAREER IN SCIENCE: सिर्फ डॉक्टर-इंजीनियर नहीं, व्यापक है साइंस का दायरा!

सिर्फ डॉक्टर व इंजीनियर ही नहीं, बल्कि साइंस का दायरा बहुत व्यापक है. इस फिल्ड में बहुत सारी संभावनाएं हैं!

व्यक्तित्व के विकास में सहायक होती है नाट्य कला!

रंगमंच की दुनिया भी बड़ी मजेदार होती है. नाटक भाषा शिक्षण की एक महत्वपूर्ण विद्या है. यह बच्चों में रचनात्मकता व सृजनात्मकता का विकास करने का एक शक्तिशाली माध्यम है.

स्कूल के साथ ही स्टूडेंट के लिए सही विषय का चयन...

बच्चे के भविष्य की चिंता तो हर अभिभावक को होती है. अभिभावक अगर सही स्कूल के साथ बच्चे के पसंदीदा विषय की ओर ज्यादा फोकस करते हैं तो परवरिश की राह आसान हो जाती है.

12वीं के बाद कॉमर्स विषय में भी हैं बेहतरीन करियर ऑप्शन्स!

कॉमर्स के छात्रों के लिए 12वीं के बाद चार्टर्ड अकाउंटेंट से लेकर कंपनी सेक्रेटरी जैसे कई रोजगारपरक कोर्स हैं. इसके अलावा भी कॉमर्स के छात्रों के लिए इंडस्ट्रीयल कॉस्ट एंड वर्क अकाउंट, बी.कॉम के साथ कम्प्यूटर अकाउंटिंग, बैंकिंग की परीक्षाएं व बी.कॉम के बाद एम.बी.ए. तथा ई-कॉमर्स भी करियर के लिए एक अच्छा विकल्प है.

खेल में बड़ों की भागीदारी से बच्चे का होता है कौशल...

सिर्फ किताबी ज्ञान से बच्चे को बेहतर इंसान नहीं बनाया जा सकता है. इसके लिए खेल-कूद भी जरूरी है और खेल में बड़ों की भागीदारी बच्चों के कौशल विकास में फायदेमंद साबित होता है.

बच्चों की देखभाल को आसान बनाने के कुछ कारगर टिप्स

बचपन जिंदगी का सबसे कीमती समय होता है. हर माता-पिता चाहते हैं कि उनके बच्चे की परवरिश अच्छी हो. लेकिन सिर्फ सोचने मात्र से आपकी ड्यूटी पूरी नहीं होगी!

बच्चों के लिए मातृभाषा का ज्ञान होना बेहद जरूरी!

वैश्वीकरण के इस दौर में अंग्रेजी ही क्यों अन्य भाषाएं सीखना भी जरूरी है. लेकिन इससे ज्यादा जरूरी है पहले अपनी मातृभाषा का सम्मान करते हुए इसकी अच्छी जानकारी हासिल करना. मातृभाषा ही आपकी व देश की संस्कृति की पहचान होती है.

…ताकि खुश होकर स्कूल जाए आपका बच्चा!

किसी भी बच्चे के लिए स्कूल जाने की शुरूआत मुश्किल हो सकती है. पहली बार स्कूल जाने में हर बच्चे को डर लगता है क्योंकि उनके लिए यह दुनिया पूरी तरह से नई होती है. अगर आप कुछ तरीकों को अपनाएंगे तो आपका बच्चा निश्चित ही खुशी-खुशी स्कूल जाने को तैयार रहेगा.

परीक्षा की तैयारी के दौरान बच्चे इन 10 तरीकों को अपनाएंगे...

यहां हम कुछ ऐसे विषयों से आपको अवगत करा रहे हैं जिसे अपनाकर आपका बच्चा बेहतर रिजल्ट ला सकता है –

युवाओं के लिए आज भी प्रेरणादायी है विवेकानंद के विचार!

आज के युवा आधुनिकता की चकाचौंध में खोते जा रहे हैं. आधुनिकता से प्रभावित होकर उनके राह बदल रहे हैं. धन-दौलत व ऐश्वर्य का जीवन ही उनका आदर्श बनता जा रहा है.

बच्चे को शिक्षा के साथ ही संस्कार देना है जरूरी

वर्तमान समय में यह महसूस किया जा रहा है कि जैसे-जैसे शिक्षित नागरिकों का प्रतिशत बढ़ रहा है, वैसे-वैसे समाज के संस्कारों में गिरावट आ रही है. हमें संस्कारों का सौंदर्य बोध होना चाहिए और बच्चे को भी इसका जानकारी देनी चाहिए.
विज्ञापन

EDITOR PICKS