Home Annex Voices of Nepal: नेपाल की एकजुटता के लिए चलाया जा रहा ऑनलाइन...

Voices of Nepal: नेपाल की एकजुटता के लिए चलाया जा रहा ऑनलाइन कैंपेन

देश हो या घर-समाज एकता का महत्व हर जगह है. इसकी सहायता से भारी से भारी संकटों का मुकाबला भी आसानी से किया जा सकता है. Voices of Nepal

197
0

देश हो या घर-समाज एकता (Message of Solidarity) का महत्व हर जगह है. इसमें इतनी ताकत है जिसकी सहायता से भारी से भारी संकटों का मुकाबला भी आसानी से किया जा सकता है. यहां अगर हम नेपाल की बात करें तो यह देश आए दिन किसी ने किसी परेशानियों से जूझता रहता है. इसकी भौगोलिक स्थिति ही ऐसी है कि जिससे कई प्रकार की दिक्कतें आती हैं. इसके आर्थिक विकास पर ध्यान दें तो यहां की शासन व्यवस्था में लगातार परिवर्तन से आर्थिक व्यवस्था काफी प्रभावित हुई है.

नेपाल बहुभाषिक व बहुसांस्कृतिक देश है. यहां हिंदू धर्म के नागरिकों की आबादी 85 फीसद है. यही वजह है कि नेपाल में हिंदू धर्म मानने वालों की संख्या विश्व में सबसे अधिक है.

शहरी विवरण (Urban Description):

छोटे से देश नेपाल की भौगोलिक विविधता (Message of Solidarity) बहुत उल्लेखनीय है. विश्व के 14 सबसे ऊंचे शिखर में से 8 शिखर नेपाल में स्थित है. नेपाल की राजधानी व वहां का सबसे बड़ा शहर काठमांडू है. नेपाल के प्रमुख शहरों में भरतपुर, बिराटनगर, भैरहवा, वीरगंज, जनकपुर, पोखरा, नेपालगंज व महेंद्रनगर शामिल है.

राजतंत्र के रूप में यहां शाह राजवंश ने सबसे अधिक शासन किया था. 28 मई 2008 को नेपाल में पहली संविधान सभा के लिए चुनाव कराया गया था. इस चुनाव में जनता का मत था कि यहां से राजतंत्र को खत्म कर बहुपार्टी प्रणाली के अंतर्गत संघीय लोकतांत्रिक गणतंत्र की स्थापना हो.

नेपाल एक विकासशील देश है जहां आर्थिक आय बहुत कम है. यह देश गरीबी व उच्च स्तरीय खान-पान को तरस रहा है. हालांकि अभी परिस्थितियों में काफी सुधार देखने को मिल रहा है. धीर-धीरे यहां के आर्थिक हालात सुधर रहे हैं. यहां की आर्थिक व्यवस्था एक जटिल विषय के रूप में उभरा है. इस देश के आर्थिक विकास में मुख्य रूप से बार-बार सरकार का बदलना और भ्रष्टाचार भी शामिल है. 

नेपाली समाज 20वीं सदी के अंत तक कृषि प्रधान समाज था. 1951 में नेपाल ने नई व्यवस्था में कदम रखा था. तब स्कूल, सड़कें, विद्यालय, बिजली, उद्योग, संचार के साधन आदि की वहां पर्याप्त सेवा नहीं थी. धीरे-धीरे नेपाल ने अपनी अर्थव्यवस्था में काफी सुधार किया है.

भूकंप से तबाही (Earthquake Devastation):

वर्ष 2015 में आए भूकंप ने नेपाल को बुरी तरह प्रभावित किया. इस प्राकृतिक आपदा ने 8000 से अधिक लोगों लोगों की जानें ली थी. जबकि 2000 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे. करीब 8 लाख मकान क्षतिग्रस्त हुए थे. जबकि 28 लाख लोग विस्थापित हुए थे. कृषिक्षेत्र पर इसका बहुत ही बुरा प्रभाव पड़ा. या फिर यूं कहें कि यह क्षेत्र बर्बाद ही हो गया क्योंकि भूकंप से प्रभावित क्षेत्र पूरी तरह से कृषि प्रधान ही है.

कृषि के साथ-साथ पशुपालन, पर्यटन, उद्योग, व्यापार सबको इस भूकंप ने प्रभावित किया था. इस आपदा ने नेपाल के पूरे परिदृश्य को ही परिवर्तित करके रखा दिया. इसमें आजीविका का ही नुकसान सबसे अधिक हुआ है. भूकंप में हुए नुकसान का आर्थिक मूल्य सात बिलियन अमेरिकी डॉलर आंका गया था. यह आंकड़ा नेपाल के जीडीपी के एक तिहाई से अधिक है.

सबसे अधिक नुकसान अजीविका को हुआ था. इस आपदा ने 22 लाख 80 हजार परिवारों और 80 लाख लोगों की आजीविका को नष्ट किया है. इसकी वजह से 7 लाख से अधिक लोग गरीबी रेखा के नीचे चले गए. जबकि कार्य सक्षम 50 लाख से अधिक प्रभावित हुए हैं.

सामाजिक-सांस्कृतिक और भौगोलिक नुकसानों का आर्थिक मूल्य निर्धारित करना असंभव है. आर्थिक गतिविधियों में 284 करोड़ डॉलर का नुकसान हुआ है.

संविधान (Constitution):

अभी नेपाल में ‘नेपाल का संविधान 2015’ लागू है. नेपाल में कई वर्षों के राजनैतिक उथल-पुथल व हिंसात्मक संघर्षों के बाद 20 सितंबर 2015 में नया संविधान लागू हुआ था. इस संविधान ने नेपाल के अंतरिम संविधान-2007 की जगह ली थी.

नेपाल की एकजुटता के लिए चलाया जा रहा ऑनलाइन कैंपेन

देश प्रेम से परिपूर्ण रचना को राष्ट्रगान का नाम दिया गया है. यह ऐसा गान है जो देश के इतिहास, सभ्यता, संस्कृति व प्रजा के संघर्ष की व्याख्या करे. परंपरागत रूप से प्राप्त रचना या सरकारी स्वीकृति द्वारा प्राप्त रचना किसी भी देश की आन, बान व शान होती है. यह राष्ट्रगान लोगों को एकजुटता (Message of Solidarity) का संदेश देती है. राष्ट्रगीत से देश की गरीमा बनती है और हम सबका नैतिक कर्तव्य है कि हम इसकी गरिमा को बनाए रखें.

नेपाल आए दिन किसी न किसी परेशानियों से जूझता रहता है. इस कड़ी में नेपाल में लोगों के बीच एकजुटता (Message of Solidarity) एक जरूरी विषय है. नेपालियों में एकता का संदेश देने के लिए नेपाल आधारित कंपनी ‘मंगलम इंडस्ट्रीज’ की तरफ से एक अनोखी पहल की गई है. जिसके तहत ‘वॉयसेस ऑफ नेपाल’ अभियान चलाया जा रहा है. यह पहल राष्ट्रगान के माध्यम से लोगों में एकजुटता फैलाने के लिए है.

गणतंत्र दिवस से पहले होगा वीडियो रिलीज

28 मई को देश के गणतंत्र दिवस से पहले यह वैश्विक स्तर पर नेपाली मूल के लोगों के करीब जाने की भी कोशिश है. इस अभियान के तहत नेपालियों को अपना राष्ट्रगान गाकर एक मंच पर साझा (Message of Solidarity) करना है. एक माइक्रोसाइट (anthem.mangalamindustries.com) के माध्यम से मंगलम इंडस्ट्रीज उपयोगकर्ताओं को नेपाली राष्ट्रगान गाकर, उसे रिकार्ड कर व अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल पर शेयर करने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है.

इस मास्टर वीडियो का अनावरण गणतंत्र दिवस से पहले 26 मई को किया जाएगा. इस अनोखी पहल को लेकर मंगलम इंडस्ट्रीज के एमडी अभिनव चुरीवाल बेहद उत्साहित हैं. उन्हें पूरी उम्मीद है कि इस अभियान में नेपाली वर्ग के युवा से लेकर वयस्क तक इसमें हिस्सा लेंगे. #NationalAnthem #VoicesOfNepal

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here