Home Health Care WORLD BLOOD DONOR DAY: आपका रक्तदान ऐसे बचा सकता है किसी की...

WORLD BLOOD DONOR DAY: आपका रक्तदान ऐसे बचा सकता है किसी की जिंदगी!

रक्तदान से आपके साथ कई और जिंदगियों को बचाया जा सकता है. डिजिटल युग में व्यक्ति चाहे कितनी भी तरक्की कर ले लेकिन जब कोई मुसीबत में हो तो आज भी कोई रक्त देने को तैयार नहीं होता. World Blood Donor Day

191
0

रक्त का हर बूंद कीमती है. इस रक्त का संबंध जिंदगी और मौत के साथ होता है. खून की कमी की वजह से किसी की जान चली जाती है. इसके विपरीत किसी के परोपकारी कार्य रक्तदान से किसी को नई जिंदगी भी मिल जाती है.

इसीलिए रक्तदान (World Blood Donor Day) को जीवन दान कहा जाता है. रक्तदान से आपके साथ कई और जिंदगियों को बचाया जा सकता है. डिजिटल युग में व्यक्ति चाहे कितनी भी तरक्की कर ले लेकिन जब कोई मुसीबत में हो तो आज भी कोई रक्त देने को तैयार नहीं होता.

blood-donation

रक्तदान के प्रति जागरूकता की कोशिशों के बावजूद भी समय पड़ने पर पीड़ित व्यक्ति को रक्त खरीदना पड़ता है. हालांकि खरीदने के लिए भी हर वक्त रक्त उपलब्ध हो ऐसा जरूरी नहीं है.

रक्त के अभाव में मौत (Death in the Absence of Blood):

कितनी बार देखा जाता है कि रक्त के अभाव में लोगों की मौत हो जाती है. इसकी एक वजह यह भी है कि रक्तदान के प्रति लोगों में जितनी जागरूकता होनी चाहिए उतनी ही नहीं है. इंडिया में अब तक केंद्रीयकृत ब्लड बैंक की स्थापना नहीं हुई है.

>> क्या आपके बच्चे को भी है एनीमिया, ऐसे करें उपचार!

ताकि देश में कहीं भी रक्त की जरूरत पड़े तो उसे पूरा किया जा सके. तकनीकि उन्नति के बाद निजी तौर पर वेबसाइट्स के माध्यम से रक्त बैंक व रक्तदाताओं की सूची बनाने का कार्य जारी है. इसमें धीरे-धीरे सफलता हाथ लग रही है. यह ध्यान में रखना जरूरी है कि रक्त से आपके सिवा अन्य किसी की जिंदगी भी बचाई जा सकती है.

आओ बचाएं जान, मिलकर करें रक्तदान

गलतफहमी (Wrong Perception):

यह ध्यान में रखना जरूरी है कि रक्त से आपके सिवा अन्य किसी की जिंदगी भी बचाई जा सकती है. हालांकि लोगों की आज भी गलतफहमी है कि रक्तदान (World Blood Donor Day) करने से कमजोरी आती है.

दान में दिए गए रक्त की भरपाई होने में भी लंबा वक्त लगता है. लोगों की यह भी धारणा है कि अगर वे नियमित रूप से रक्त दान करते हैं तो उनके शरीर में रोग प्रतिरोधन क्षमता कम हो जाती है.

जिससे उनके बीमार होने की संभावनाएं अधिक रहती है. अब सवाल है कि अगर लोगों के मन में इसी तरह का भय व्याप्त रहता है तो क्या कभी भी रक्त की कमी को पूरी की जा सकती है? लोगों के मन में व्याप्त भ्रम को दूर करने के लिए ही विश्व रक्तदान दिवस का पालन किया जाता है. रक्तदान के प्रति जागरूकता फैलाकर लोगों को इसके प्रति प्रोत्साहित किया जाता है.

>> इन उपायों को अपनाकर स्वाइन फ्लू से रहें सुरक्षित!

रक्तदान दिवस की शुरूआत –

इस दिन की शुरूआत 14 जून 1997 में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की तरफ से की गई थी. इस दिवस का मुख्य उद्देश्य सुरक्षित रक्त उत्पादों की आवश्यकता के बारे में जागरूकता फैलाना है. साथ ही जीवन रक्षक रक्त का मुफ्त में दान करने के प्रति लोगों को प्रोत्साहित करना भी है.

इसका मूल उद्देश्य यह था कि रक्त की आवश्यकता होने पर रुपये देने की जरूरत नहीं पड़े.

विश्व रक्तदान दिवस (World Blood Donor Day) को शुरू करने का विश्व स्वास्थ्य संगठन का लक्ष्य था कि दुनिया के 124 देश अपने यहां स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा दे.

विश्व के करीब 49 देशों ने ही इस पर अमल किया है.

blood-banks

रक्तदान का इतिहास (History of Blood Donation):

ब्लड ग्रुपिंग सिस्टम ए, बी, ओ के आविष्कारक महान वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टाईन का जन्म 14 जून 1868 को हुआ था. इन्होंने ही मानव रक्त में उपस्थित एग्ल्युटिनिन की मौजूदगी के आधार पर रक्त कणों का ए, बी ओ समूह में वर्गीकरण किया था.

उनके इस वर्गीकरण का चिकित्सा विज्ञान में अहम योगदान रहा. इस खोज के लिए उन्हें वर्ष 1930 में नोबेल पुरस्कार दिया गया था. उनकी इसी खोज की वजह से आज इतनी बड़ी संख्या में रक्तदान किया जाता है. जिससे लाखों लोगों को नया जीवन मिलता है.

कौन कर सकता है रक्तदान (Who can Donate Blood):

  • एक स्वस्थ व्यक्ति जिनकी उम्र 18 से 65 वर्ष तक व वजन 45 किलोग्राम हो वह रक्तदान कर सकते हैं.

प्रमुख तथ्य (Key Facts):

  • ब्लड मुख्य रूप से 8 प्रकार के होते हैं. जिसमें ए, बी, एबी और ओ ग्रुप के नेगेटिव व पॉजिटिव रक्त ग्रुप हैं.
  • शरीर में लाल रक्तकण ऑक्सीजन का वाहक है. यह शरीर के विभिन्न हिस्सों व धमनियों में ऑक्सीजन का प्रवाह करता है.
  • लाल रक्तकण को ब्लड बैंक में 42 दिनों तक सुरक्षित रख सकते हैं.
  • रक्त में मौजूद प्लेटलेट खून का थक्का बनाने का काम करती है. यही कटने-फटने पर रक्त बहाव को रोकते हैं.
  • जब आप रक्तदान करते हैं तो रक्त की 13 किस्म की जांच होती है. जिनमें कई संक्रामक बीमारियां भी शामिल हैं.

फायदे (Benefits):

  • कोई व्यक्ति अगर नियमित रक्तदान (World Blood Donor Day) करता है तो वह व्यक्ति हाई कॉलेसट्रोल, दिल की बीमारी, हिमोग्लोबिन की कमी व मोटापा जैसी बीमारियों से दूर रहता है. रक्तदान इंसान को आंतरिक रूप से भी स्वस्थ रखता है. नियमित ब्लड दान करने से इंसान स्वस्थ रहता है.
  • 1 रक्तदाता 4 जिंदगियों को बचाने में समर्थ होता है. रक्तदान के एक महीने बाद ही फिर से नया रक्त बन जाता है. सिर्फ इतना ही नहीं नियमित रक्तदान करने से यूरिक एसिड व कोलेस्ट्रोल की मात्रा पर नियंत्रण रहता है. रक्तदान करने पर पुराना रक्त शरीर से बाहर निकलता है. इसके बाद शरीर में नए खून का संचार शुरू होता है. शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का भी निर्माण शुरू हो जाता है.
  • रक्तदान करने से शरीर में किसी तरह की कमी नहीं आती. एक स्वस्थ इंसान हर तीसरे महीने रक्तदान कर सकता है.

विश्व रक्तदान दिवस का उद्देश्य (Purpose of World Blood Donation Day):

रक्त की कमी को वैश्विक स्तर पर पूरा करने के उद्देश्य से ही विश्व रक्तदान दिवस का पालन किया जाता है. लोगों में फैली जागरूकता के आधार पर प्रति वर्ष लाखो लोगों को नई जिंदगी मिलती है.

>> बच्चों को लेकर घबराएं नहीं, बाल रोग विशेषज्ञ हैं ना!

इंडिया में रक्तदान की स्थिति –

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार भारत में वार्षिक एक करोड़ यूनिट रक्त की जरूरत पड़ती है लेकिन मात्र 75 लाख यूनिट रक्त ही उपलब्ध हो पाता है. करीब 25 लाख यूनिट रक्त के अभाव में हर साल सैकड़ों मरीजों की जान चली जाती है.

मनुष्य के शरीर में रक्त बनने की प्रक्रिया हमेशा चलती रहती है. इसमें किसी तरह के नुकसान का कोई भय नहीं रहता. रक्तदान बहुत ही कल्याणकारी कार्य है. जब कभी भी किसी को मौका मिले उसे रक्तदान में अपना योगदान करना चाहिए.

‘रक्तदान जीवनदान’ है. यह कथन बिल्कुल सही है. अगर आपके इस कल्याणकारी कार्य से कसी की जान बच जाए तो इससे बड़ा परोपकार और क्या हो सकता है. हर स्वस्थ व्यक्ति को इस नेक कार्य में अपना योगदान देना चाहिए. आपने कभी रक्तदान (World Blood Donor Day) किया है? अगर नहीं किया तो अब से अवश्य करें. इस नेक काम में अपनी भागीदारी दें व अपने इस नए अनुभव को ‘योदादी’ के साथ कमेंट कर जरूर शेयर करें. #WorldBloodDonorDay

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here