Home Education ऑनलाइन क्लास के फायदे और नुकसान क्या हैं?

ऑनलाइन क्लास के फायदे और नुकसान क्या हैं?

ऑनलाइन क्लास की बात करें तो एक तरफ तो ये बच्चों के लिए फायदेमंद है तो दूसरी तरफ इसके नुकसान भी हैं. ऑनलाइन क्लास के फायदे और नुकसान - Advantages and disadvantages of online classes

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बच्चों की कई महीनों से ऑनलाइन क्लास जारी हैं. ताकि लॉकडाउन की वजह से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित ना हो. बच्चे घर पर अपने मम्मी-पापा के मोबाइल, डेस्कटॉप या लैपटॉप से पढ़ाई कर रहे हैं. वैसे ऑनलाइन क्लास (Advantages and disadvantages of online classes) ने देश में शिक्षा के क्षेत्र में एक नया रास्ता खोल दिया है और भविष्य में इसके विस्तार होने की पूरी संभावना है. ज्यादातर बच्चे भी ऑनलाइन क्लास का खूब आनंद ले रहे हैं.

advantages-and-disadvantages-of-online-classes

वहीं, स्कूल भी इसे आगे ले जाने की सोच रहे हैं. ऑनलाइन क्लास में शिक्षक बच्चों को प्रोजेक्ट तो दे ही रहे हैं, साथ ही उन्हें रचनात्मक कार्यों के साथ भी जोड़ा जा रहा है. लेकिन हर चीज के अच्छे और बुरे दो पहलू होते हैं. इस ऑनलाइन क्लास की बात करें तो एक तरफ तो ये बच्चों के लिए फायदेमंद है तो दूसरी तरफ इसके नुकसान भी हैं.

ऑनलाइन क्लास के फायदे और नुकसान – Advantages and disadvantages of online classes

ऑनलाइन क्लास के फायदे?

1. घर में पढ़ाई होने से एक सबसे बढ़िया फायदा है कि बच्चों का स्कूल-कॉलेज में आने-जाने के समय की बचत होती है. इस बचे हुए समय में बच्चे अपनी रूचि के अनुसार एक्सट्रा करिकुलर एक्टिविटी भी कर पाते हैं.

2. चूकि बच्चे स्कूल नहीं जाते हैं और घर से ही पढ़ाई करते हैं इसलिए उन्हें किसी तरह की थकान महसूस नहीं होती है.

3. बच्चे घर में अपने मूड के हिसाब से पढ़ाई कर सकते हैं. जब बच्चे का मन करे तभी वे अपने समयानुसार क्लास को डाउनलोड करके देख सकते हैं.

4. घर में बच्चे हमेशा माता-पिता के सामने रहते हैं इसलिए सुरक्षा की दृष्टि से यह बहुत ही फायदेमंद है. माता-पिता को यह भी पता चल पाता है कि उनके बच्चे को पढ़ाई में क्या दिक्कतें आ रही है. (Advantages and disadvantages of online classes)

काफी सुविधाजनक है यह क्लास

5. यह क्लास काफी सुविधाजनक है और इससे ज्यादा सुविधाजनक कोई और माध्यम हो भी नहीं सकता. इसके द्वारा बच्चे घर बैठे, बिना स्कूल जाए पढ़ सकते हैं. जहां मन करे वहां बैठकर पढ़ सकते हैं. गर्मियों के मौसम में बच्चों को इससे काफी आराम मिल रहा है जिससे वो अपनी एनर्जी का अच्छे से इस्तेमाल कर सकते हैं.

6. वीडियो चैट से क्लास करते हुए बच्चे तकनीकि तौर पर निपुण हो रहे हैं. यही कारण है कि आज के तकरीबन सभी बच्चों को गैजेट की अच्छी-खासी जानकारी है. बच्चों में ऑनलाइन से जुड़ी नई-नई चीजें जानने की ललक बढ़ रही है. इस क्ला‍सेस से बच्चों ने तकनीक के इस्तेमाल का नया तरीका सीख लिया है. टीचरों ने भी ऑनलाइन क्लासेस से पढ़ाने का नया तरीका सीखा है और बच्चों को पढ़ाने और पढ़ाई के प्रति रूचि बढ़ाने के नए रास्ते भी ढूंढें हैं.

7. इसमें अभिभावकों के जेब का बोझ थोड़ा कम हुआ है जैसे ट्रेवलिंग में खर्च होने वाले पैसों की पूरी बचत हो रही है. इसलिए अब पेरेंट्स अपने बच्चों के लिए ऑनलाइन कोर्स के बारे में भी सोच रहे हैं. अब वे बच्चों को मंहगे कोचिंग सेंटर नहीं भेजना चाहते. सिर्फ माता-पिता ही नहीं बल्कि कई राज्य सरकारें भी इस पर विचार कर रही हैं.

8. माता-पिता अब ये समझ चुके हैं कि सिर्फ पढ़ाई के लिए नहीं बल्कि दूसरे एक्टिविटीस के लिए भी इंटरनेट का सहारा लिया जा सकता है, जैसे- म्यूसजिक, डांस, पेंटिग आदि.

ऑनलाइन क्लास के क्या हैं नुकसान?

1. पढ़ाई के लिए बच्चों को स्कूल का माहौल मिलना बहुत जरूरी है. विद्यार्थियों को जैसा परिवेश स्कूल, कॉलेज और कोचिंग सेंटर में मिलता है वैसा ऑनलाइन क्लास में नहीं मिल पाता. जब बच्चे एक दूसरे से मिलते हैं तो हर दिन उन्हें कुछ न कुछ नया सीखने को मिलता है. इस तरह सभी बच्चे एक दूसरे से ज्ञान भी अर्जन करते हैं. लेकिन ऑनलाइन में अकेले पढ़ाई करने में बच्चे कई बार बोर भी हो जाते हैं.

2. ऑनलाइन क्लासेस में बच्चों का शिक्षकों के साथ इंटरेक्ट नहीं हो पाता है.

3. घर से ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान एक साथ बहुत सारे बच्चे शिक्षक को मैसेज करके प्रश्न पूछा करते हैं. ऐसे में कई बार हो सकता है कि शिक्षक आपका मैसेज ना पढ़ पाए.

आंखों पर पड़ता है बुरा असर

4. इस क्लासेस में मोबाइल फोन, टैबलेट और लैपटॉप का इस्तेमाल ज्यादा बढ़ जाता है. इस स्क्रीन की वजह से बच्चों की आंखों पर बुरा असर पड़ने की संभावना बढ़ जाती है.

5. वैसे तो सुरक्षा की दृष्टि से हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा मोबाइल फोन का कम से कम इस्तेमाल करे. लेकिन ऑनलाइन क्लासेस में बच्चों को हमेशा मोबाइल फोन ही इस्तेमाल करना पड़ा रहा है. (Advantages and disadvantages of online classes)

6. लंबे समय तक मोबाइल फोन का इस्तेमाल करने से मोबाइल गर्म हो जाता है, जिससे दुर्घटना की आशंका बढ़ जाती है.

7. बच्चे मोबाइल फोन का गलत इस्तेमाल भी कर सकते हैं. जैसे गेम खेलने समेत ऑनलाइन कई ऐसी जानकारियों को जानना जिसकी कभी उनको आवश्यकता नहीं है. इसलिए माता-पिता को ध्यान रखना चाहिए कि वे अपने बच्चों को मोबाइल देने के बाद भूल ना जाए, बल्कि बीच-बीच में उसे चेक करते रहें.

8. ऑनलाइन क्लासेस नेटवर्क संबंधी समस्याओं से भी बच्चों को परेशानी होती है.

9. ऑनलाइन क्लास में साइंस और सोशल साइंस के प्रैक्टिकल कराना संभव नहीं हो पा रहा.

– – – – –

Feature Image: Unsplash

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here