Home Education CAREER IN SCIENCE: सिर्फ डॉक्टर-इंजीनियर नहीं, व्यापक है साइंस का दायरा!

CAREER IN SCIENCE: सिर्फ डॉक्टर-इंजीनियर नहीं, व्यापक है साइंस का दायरा!

सिर्फ डॉक्टर व इंजीनियर ही नहीं बल्कि साइंस का दायरा बहुत व्यापक है. इस फिल्ड में बहुत सारी संभावनाएं हैं.

पिछले कई वर्षों से साइंस (Career In Science) के प्रति विद्यार्थियों का झुकाव काफी बढ़ा है. ज्यादा संख्या में छात्र साइंस स्ट्रीम में ही अपना करियर बनाने पर जोड़ देते हैं. इसका एकमात्र कारण यही है कि इस क्षेत्र में संभावनाएं काफी है. यह विद्यार्थियों को रोचक व आकर्षक अवसर प्रदान करता है.

इसका क्षेत्र बहुत व्यापक है. इसे व्यापक कहने का मतलब है कि इसके दायरे में पूरा ब्राह्मांड आता है. साइंस के अंतर्गत वे सभी चीजें शामिल हैं जिन्हें महसूस किया जा सकता है, स्पर्श कर सकते हैं, देख व सुन भी सकते हैं.

Career-In-Science

हालांकि कई बार देखा जाता है कि साइंस (Career In Science) से 12वीं पास करने के बाद अक्सर विद्यार्थी डॉक्टर या इंजीनियर ही बनना चाहते हैं. इससे अलावा कुछ ऐसे छात्र जिन्हें इन दोनों में से कुछ नहीं बनना पर इसके लिए उन्हें कोई तीसरा विकल्प नजर नहीं आता. इस कंफ्यूजन में वे गलत विकल्प का चयन कर लेते हैं.

जिसका खामियाजा भी उन्हें भुगतना पड़ता है. साइंस स्ट्रीम बड़ा होने के कारण इसमें विकल्प भी बहुत सारे हैं. साइंस में बहुत सारे कोर्स हैं, जिन्हें करने के बाद अच्छी नौकरी हासिल की जा सकती है.

हालांकि छात्र से लेकर अभिभावक तक की धारणा मात्र डॉक्टर व इंजीनियर तक ही टिकी रह जाती है. इसलिए उन्हें दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. जबकि साइंस फिल्ड में ढ़ेरों करियर ऑप्शन हैं. मैं आपको साइंस स्ट्रीम से जुड़े कई ऐसे ऑपशंस बताने जा रहे है जिसकी सहायता से आपको 12वीं के बाद अपने मनपसंद विषय का चयन करने में मदद मिलेगी.

12वीं के बाद साइंस में करियर विकल्प –

career-option

1. एस्ट्रो फिजिक्स – Career In Science

एस्ट्रो फिजिक्स में 12वीं के बाद कई सारे कोर्स हैं. इसमें 3 से 4 व 5 वर्षों का डिग्री कोर्स उपलब्ध है. इस फिल्ड में डॉक्टरेट करने के बाद इसरो व नासा जैसे रिसर्च ऑर्गनाइजेशन के साथ जुड़ा जा सकता है. ब्रह्मांड के रहस्य सुलझाने व सितारों और गैलैक्सी में रुचि रखने वालों के लिए यह सबसे बेहतर फिल्ड है.

2. एनवायर्नमेंट साइंस – Career In Science

पर्यावरण में दिलचस्पी रखने वालों के लिए एनवायर्नमेंट साइंस में करियर के बेहतर विकल्प हो सकते हैं. इस फिल्ड के तहत इकोलॉजी, डिजास्टर मैनेजमेंट, वाइल्ड लाइफ मैनेजमेंट व पर्यावरण नियंत्रण जैसे विषयों की पढ़ाई होती है.

वातावरण में जारी परिवर्तन के कारण इस फिल्ड में पेशेवरों की काफी डिमांड है. इसके अलावा पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाली स्वयं सेवी संस्थाओं व यूएनओ के कई प्रोजेक्ट इस फिल्ड में काम कर रहे हैं. जिस वजह से इस फिल्ड में रोजगार के अवसर बढ़ रहे हैं.

>> आर्ट्स में भी है बेहतर करियर विकल्प!

3. स्पेस साइंस – Career In Science

स्पेस साइंस विज्ञान में सबसे बड़ा फिल्ड है. इसमें 3 वर्ष की बीएससी, 4 वर्ष का बीटेक डिग्री के सिवा पीएचडी तक के कोर्स किए जा सकते हैं. इस फिल्ड में सालाना लाखों पेशेवरों की जरूरत पड़ती है. स्पेस साइंस में कॉस्मोलॉजी, स्टेलर साइंस, प्लैनेटरी साइंस, एस्ट्रोनॉमी जैसे कई फिल्ड हैं.

4. डेयरी साइंस – Career In Science

डेयरी प्रोडक्शन के क्षेत्र में भी करियर की बहुत सारी संभावनाएं हैं. डेयरी प्रोडक्शन में इंडिया विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है. डेयरी प्रोडक्ट की मांग में वृद्धि के कारण इस क्षेत्र में नौकरी के कई सारे अवसर बढ़ रहे हैं.

इस फिल्ड में मिल्क प्रोडक्शन, प्रोसेसिंग, पैकेजिंग, स्टोरेज व डिस्ट्रीब्यूशन के बारे में बताया जाता है. इस फिल्ड में करियर आजमाने के लिए साइंस से 12वीं पास होने के बाद 4 वर्षिय डिग्री प्रोग्राम या फिर 2 वर्षिय डिप्लोमा कोर्स भी कर सकते हैं.

इसके बाद कई बायोटेक और नैनोटेक कंपनी में नौकरी कर सकते हैं. इसी फिल्ड में एमएससी या एमटेक भी किया जा सकता है. आने वाले दिनों में इस फिल्ड में करीब लाखों प्रोफेशनल की जरूरत पड़ने की संभावना है.

engineering

5. बीई/बीटेक – Career In Science

बैचलर इन इंजीनियरिंग (बीई) व बैचलर इन टेक्नोलॉजी यह कोर्स चार वर्षों का होता है. इन दोनों कोर्स में डिग्री लेने के लिए विद्यार्थियों को 12वीं फिजिक्स, केमेस्ट्री व गणित से करना आवश्यक होता है.

इस कोर्स के माध्यम से आप कंप्यूटर साइंस, इंजीनियरिंग, मैकेनिकल इंजीनियरिंग, सिविल इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार इंजीनियरिंग व इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग कर सकते हैं.

6. बैचलर ऑफ साइंस – Career In Science

साइंस स्ट्रीम (Career In Science) से 12वीं पास करने वाले बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री ले सकते हैं. इसकी अवधि तीन वर्ष की होती है.

>> 12वीं के बाद कॉमर्स विषय में करियर ऑप्शन्स!

7. नैनो टेक्नोलॉजी – Career In Science

विज्ञान (Career In Science) के क्षेत्र में नैनो टेक्नोलॉजी एक उभरता हुआ विकल्प के रूप में तैयार हो रहा है. इस फिल्ड में करियर आजमाने के लिए 12वीं पास करने के बाद इस फिल्ड में बीएससी या बीटेक कर सकते हैं.

8. बैचलर इन कंप्यूटर एप्लीकेशन – Career In Science

यह कोर्स साइंस स्ट्रीम की पढ़ाई गणित से करने वालों के लिए है. इस कोर्स को करने के बाद आप नेटवर्किंग हार्डवेयर और सुरक्षा, मोबाइल ऐप डेवलपमेंट, प्रोग्रामिंग, क्लाउड कंप्यूटिंग व गेम डिजाइन में अपना करियर बना सकते हैं.

9. बैचलर ऑफ मेडिसीन व बैचलर ऑफ सर्जरी (एमबीबीएस) – Career In Science

प्रमाणित चिकित्सक बनने के लिए एमबीबीएस की डिग्री ली जाती है. इस डिग्री को प्राप्त करने लिए पीसीएमबी या पीसीएम विषयों के साथ 60 फीसद अंक के साथ 12वीं उत्तीर्ण करना होता है. किसी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए उम्मीदवारों को प्रवेश परीक्षा में भाग लेना होता है.

career options

10. बीएससी नर्सिंग – Career In Science

यह 2 वर्ष का डिग्री कोर्स होता है. इस कोर्स को करने के लिए साइंस स्ट्रीम में 12वीं 50 फीसद अंकों के साथ पास करना होता है.

11. बैचलर इन फार्मेसी (बीफार्मा) – Career In Science

चार वर्षिय इस कोर्स के लिए विद्यार्थियों को 12वीं पीसीएम या पीसीएमबी विषयों में 50 फीसद अंकों के साथ पास करना होता है. इसमें दाखिले के लिए पहले प्रवेश परीक्षा को पास करना होता है. उसके बाद ही बीफार्मा कोर्स के लिए एडमिशन दिया जाता है.

कुल मिलाकर यह कह सकते हैं कि साइंस (Career In Science) मतलब सिर्फ डॉक्टर या इंजीनियर ही नहीं बल्कि इसमें बहुत सारे विकल्प हैं. इस आलेख को पढ़कर साइंस फिल्ड से जुड़े तमाम जानकारियों को विस्तृत रूप में साझा किया जा रहा है. इसे पढ़ने के बाद भी अगर आप किसी दुविधा में हैं तो अपने विचार ‘योदादी’ के साथ कमेंट कर जरूर शेयर करें. #CareerInScience

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here