Home Trending पूंछ के साथ पैदा हुआ बच्चा, डॉक्टरों ने बताई ये वजह

पूंछ के साथ पैदा हुआ बच्चा, डॉक्टरों ने बताई ये वजह

ग्रेटर नोएडा के दनकौर स्थित प्राइमरी हेल्थ सेंटर में बच्चा पूंछ जैसे अंग के साथ पैदा हुआ जो सबको हैरान कर गया.

राजधानी दिल्ली से लगे ग्रेटर नोएडा की इस अजीब घटना ने सबका ध्यान अपनी ओर खींचा है. अमूमन बच्चे के जन्म के समय उसके स्वास्थ्य को लेकर सब चिंता में रहते हैं. डॉक्टर जब बच्चे को चेक करते हैं, तभी जाकर घर के लोग तसल्ली करते हैं कि मामला ठीक है. लेकिन ग्रेटर नोएडा में जब इस बच्चे ने जन्म लिया तो डॉक्टर भी एक बार चौंक गए.

बच्चा पूंछ जैसे अंग के साथ पैदा हुआ था जो सबको हैरान कर गया.

गौरतलब है कि ग्रेटर नोएडा के दनकौर स्थित प्राइमरी हेल्थ सेंटर में महिला ने इस बच्चे को जन्म दिया. जब इस बच्चे का जन्म हुआ तो अस्पताल में भी गहमागहमी की स्थिति हो गई. अस्पताल के स्टाफ लोग भी इसे देखने आने लगे. आखिर ऐसे अंग के साथ किसी बच्चे का जन्म लेना विरल घटना ही तो है.

उसी समय से जैसे ही लोगों में इसके चर्चे शुरू हुए, परिजनों के साथ ही दूर-दूर से लोग बच्चे को देखने आने लगे. हालांकि बच्चा पूरी तरह से स्वस्थ था और देखने आने वालों की वजह से उसे कोई परेशानी ना हो, जच्चा-बच्चा को उसके घर भेज दिया गया है.

डॉक्टर का कहना है,

ये एक जन्मजात विसंगति का केस है जो कि किसी ना किसी रूप में दो प्रतिशत बच्चों को रहता है. सब कुछ ठीक रहा तो विशेषज्ञों की टीम को दिखा कर बच्चे के इस अंग को हटा दिया जाएगा. कंजेनाइटल एनॉमली (congenital anomaly) के कारण बच्चे की पूंछ निकल आई है.

कंजेनाइटल एनॉमली (congenital anomaly) क्या होता है?

विशेषज्ञों की मानें तो कंजेनाइटल एनॉमली (congenital anomaly) एक तरीके का सैक्रोकोक्सिजिएल टेराटोमा (sacrococcygeal teratoma) अर्थात ट्यूमर का ही एक रूप होता है जो कि मां पेट में ही हो जाता है. बताया जाता है कि ये टेलबोन (tailbone) या बेबी कोक्सिस (baby coccyx) से बढ़ता है.

जरूर पढ़ें: नानी की कोख से नातिन का जन्म, जानिए कैसे हुआ ये चमत्कार!

जानकारी हो कि बच्चे की अल्ट्रासाउंड रिपोर्ट एकदम सामान्य ही थी. हालांकि शुरू में दो जननांग होने की अफवाह उड़ी थी जिस पर डॉक्टर ने साफ़ किया कि ये जननांग नहीं बल्कि मांस का टुकड़ा मात्र है. कुछ दिनों बाद इसे चिकित्सीय देखरेख में शरीर से अलग कर दिया जाएगा. ऐसे हालात में माता-पिता व परिजनों को किसी प्रकार की चिंता नहीं करनी चाहिए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here