Home Experts Advice रहें सावधान: भारत में भी पांव पसार रहा खतरनाक कोरोना वायरस

रहें सावधान: भारत में भी पांव पसार रहा खतरनाक कोरोना वायरस

चीन में तेज गति से फैल रहे कोरोना वायरस ने भारत में भी पांव फैलाना शुरू कर दिया है. इस जानलेवा बीमारी के प्रति सतर्कता बहुत जरूरी है. Corona Virus in China

पिछले कुछ दिनों से चीन में कोरोना वायरस (Corona Virus in China) से दहशत का माहौल है. इस वायरस के प्रकोप से चीन में अब तक लगभग 80 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं संक्रमित लोगों की संख्या करीब 2,744 तक पहुंची है. संक्रमित लोगों में से 324 की हालत गंभीर बनी हुई है जबकि इलाज के बाद 49 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. इस दौरान इस वायरस के 5,794 संदिग्ध मामले में प्रकाश में आए हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आने वाले करीब 23,500 लोगों की जांच की गई है.

corona virus in china

लगभग 30 हजार से ज्यादा लोगों को निगरानी में रखा गया है. चीन के 34 में से 25 प्रांतीय खंडों में स्वास्थ्य का उच्चतम आपातकाल घोषित किया गया है. सिर्फ चीन ही नहीं बल्कि भारत समेत अन्य देशों में भी इस वायरस ने पांव पसारना शुरू कर दिया है. जैसे थाईलैंड, ऑस्ट्रेलिया, ताईवान, सिंगापुर, मलेशिया, जापान, दक्षिण कोरिया, अमेरिका, वियतनाम व नेपाल में भी इस वायरस की पुष्टि हुई है.

अगर भारत की बात करें तो यहां हाल ही में कोरोना वायरस (Corona Virus in China) का खुलासा हुआ है. जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र में 5 लोगों में इस वायरस के लक्षण मिले हैं. इन मरीजों को स्पेशल वार्ड में डॉक्टरों की विशेष निगरानी में रखा गया है. इन 5 मरीजों में से 2 मरीज हाल ही में चीन से भारत लौटे हैं. भारत आते ही उनमें कोल्ड के लक्षण दिखने पर उन्हें तुरंत ही चिंचपोकली के कस्तूरबा हॉस्पिटल में एडमिड किया गया. जबकि बिहार के पटना में भी इसके एक मरीज की जानकारी मिली है.

भारत में कोरोना का खतरा ज्यादा-

चीन भारत का पड़ोसी देश है, तो ऐसे में भारत में इस वायरस का खतरा बहुत ज्यादा है. इससे बचाव के लिए भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से भी एजवाइजरी जारी की गई है. बीजिंग में भारतीय दूतावास की तरफ से भी हेल्पलाइन नंबर (8618612083629 और 8618612083617) जारी किया गया है. नंबर डायल करने से पहले प्लस लगाना होगा. महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप अवाटे का कहना है कि भारत में कोरोना वायरस के प्रकोप को रोकने के लिए 18 जनवरी से मुंबई एयरपोर्ट पर अन्य संक्रमित देशों से लौट रहे लोगों की जांच की जा रही है.

भारत में कोरोना वायरस (Corona Virus in China) के फैलने से रोकने के लिए हम सभी को सतर्क रहने की भी आवश्यकता है. तो इसके लिए सबसे पहले कोरोना वायरस के लक्षणों व उससे बचाव को जानना जरूरी है.

सबसे पहले लक्षणों को जानें –

1. हमेशा सिरदर्द रहना.

2. छींक आना व नाक बहना.

3. खांसी व गले में दर्द की समस्या.

4. हमेशा बुखार रहना.

5. थकान व बीमार-बामीर महसूस करना.

6. फेफड़े में सूजन व निमोनिया की शिकायत.

7. सांस फूलना व डायरिया.

इस तरह के लक्षणों को बिल्कुल भी हल्के में मत लें, बल्कि तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें. क्योंकि जरा सी लापरवाही आपको बड़ी मुसीबत में डाल सकती है. कोरोना वायरस नए किस्म का नोवेल कोरोना वायरस है और इसके बारे में वैज्ञानिकों को भी ठीक तरह से जानकारी नहीं है.

ऐसे बरतें सावधानी- Corona Virus in China

1. बाहर निकलते समय मास्क जरूर पहनें.

2. घर पर हों या बाहर खांसते या छींकते वक्त रुमाल का व्यवहार करमा मत भूलें.

3. हैंड सैनिटाइजर की इस्तेमाल करें.

4. सर्दी-जुकाम, बुखार या फिर किसी तरह के इंफेक्शन वाले व्यक्ति से दूरी बना कर रखें.

5. अगर आप चीन की यात्रा से लौटे हैं तो अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें.

Corona Virus in china

6. इंफेक्शन के लक्षण नजर आते ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

7. चीन के अलावा अन्य इंफेक्टेड देशों की यात्रा व यात्रा के बाद कोरोना वायरस के लक्षण नजर आने पर चिकित्सक को दिखाएं.

8. सुरक्षा के मद्देनजर एयरपोर्ट हेल्थ अथॉरिटी से संपर्क करें.

9. बाहर का खाना खाने स दूर रहें.

10. ज्यादा जरूरत नहीं होने पर लोगों के साथ हाथ मिलाने से बचें. लेकिन हाथ मिलाने के बाद उसे अच्छे से धो लें.

11. जानवरों के संपर्क से दूर रहने का प्रयास करें.

12. सरकारी एडवाइजरी का पालन करें.

क्या है कोरोना वायरस? Corona Virus in China

वर्ष 1937 में इस खतरनाक वायरस (Corona Virus in China) की पहचान पक्षियों में फैले संक्रामक ब्रोंकाइटिस वायरस से हुई थी. वैज्ञानिकों ने लगभग 70 वर्षों से पाया कि कोरोना वायरस चूहे, बिल्ली, कुत्ते, घोड़े, सुअर व कैटल्स को भी संक्रमित कर सकता है. चीन ने सबसे पहले 31 दिसंबर 2019 को वल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) को नोवेल कोरोना वायरस की जानकारी दी थी.

इसे भी पढ़ें: बच्चों के लिए कितना खतरनाक है चांदीपुरा वायरस?

इस वायसर के कई मामले वुहान में सामने आए थे. इसके बाद ही इसका नाम (2019-nCoV) दिया गया. सार्स व मार्स इंफेक्शन की फैमिली से संबंधित होने की वजह से यह वायरस ज्यादा खतरनाक हो जाता है. सार्स नामक कोरोना वायरस काफी खतरनाक होता है और वर्ष 2002 में इससे चीन में 8,098 लोग संक्रमित हुए थे. जिसमें से 774 लोगों की मौत हो गई थी. यह वायरस 15-30 फीसद तक कॉमन कोल्ड के लिए जिम्मेदार है.

गंभीरता को जानें –

इस वायरस से संक्रमित लोगों में सर्दी-जुकाम एक आम लक्षण है. लेकिन ध्यान रखें लापरवाही करने पर मरीज की मौत तक हो सकती है. यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबर्ग के प्रोफेसर मार्क वूलहाउस कहते हैं कि कोरोना वायरस को देखने के बाद हमने इसके बारे में यह जानने की कोशिश की कि इसका असर इतना खतरनाक क्यूं है.

कितनी तेजी से फैलता है यह वायरस- Corona Virus in China

चीन के अधिकारियों का कहना है कि मरीजों की देखभाल करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों में भी कोरोना वायरस (Corona Virus in China) के संक्रमण फैल रहे हैं. यह वायरस सबसे पहले मरीज के फेफड़े को प्रभावित करता है. इससे संक्रमित मरीज को खांसी की समस्या सबसे पहले शुरू होती है. चीन के वुहान से शुरू होने वाला यह संक्रमण इसके बाकी शहरों के अलावा अन्य देशों में भी फैल रहा है. आशंका यह भी जताई जा रही है कि नए साल पर चीन घुमने आए लोगों के साथ अलग-अलग देशों में लाखों लोगों तक पहुंच चुका होगा. #CoronaVirus

क्या है 'कोरोना वायरस'?

चीन में तेज गति से फैल रहे कोरोना वायरस ने भारत में भी पांव फैलाना शुरू कर दिया है. इस जानलेवा बीमारी के प्रति सतर्कता बहुत जरूरी है.पूरा लेख यहां पढ़ें: https://bit.ly/2ue8Tzc

Posted by Yodadi on Sunday, 2 February 2020

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here