Home Pregnancy जानिए प्रेगनेंसी के दौरान कितना सोना है नुकसानदेह!

जानिए प्रेगनेंसी के दौरान कितना सोना है नुकसानदेह!

गर्भवती महिला व गर्भस्थ शिशु के बेहतर स्वास्थ्य के लिए जरूरी है माँ का आठ घंटे की पर्याप्त नींद लेना. सही नींद नहीं लेने की वजह से माँ के साथ-साथ बच्चे के शरीर पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है.

किसी भी महिला के लिए प्रेगनेंसी मतलब उसकी जिंदगी का सबसे खुशी का पल होता है. किसी का पहली बार मां बनना ईश्वर के अनमोल तोहफे से कम नहीं होता है. जिंदगी के इस सुखद अनुभव से गुजरते हुए आपको कई किस्म के नए-नए अनुभवों का सामना करना पड़ता है. प्रेग्नेंसी के दौरान आपके लिए क्या करना सही है और क्या करना गलत इसकी जानकारी रखना आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

सही गलत का ध्यान रखते हुए अगर आपकी दिनचर्या बीते तो यह गर्भ में पल रहे शिशु के साथ-साथ आपके स्वास्थ्य के लिए भी काफी फायदेमंद होगा. गर्भावस्था (Pregnancy) के दौरान शरीर में हार्मोनल बदलाव होते रहते हैं जिसकी वजह से शरीर में भी कई तरह के बदलाव देखने को मिलते हैं. सभी महिलाओं में यह बदलाव समान हो, ऐसा नहीं है.

sleep during pregnancy
source: momjunction

इसका एक उदाहरण यह है कि प्रेगनेंसी के दौरान किसी को अधिक नींद आती है तो किसी को बिल्कुल नहीं आती. अब समस्या यह है कि गर्भावस्था के दौरान ना तो अत्यधिक नींद आना सही है और ना ही कम क्योंकि दोनों ही आपके लिए हानिकारक हो सकते है. गर्भावस्था के दौरान शरीर को जितना आराम देना जरूरी है उतना ही एक्टिव रहना भी. रिसर्च की मानें तो पर्याप्त नींद नहीं लेना शरीर पर नेगेटिव प्रभाव डालता है. इसलिए आपको कम और अधिक सोने से शरीर पर पड़ने वाले प्रभाव की जानकारी रखना अनिवार्य है अन्यथा आपको भी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है.

आइए आपको बतातें हैं कि गर्भावस्था में अधिक या कम सोने से क्या-क्या नुकसान हो सकते हैः

sleeping during pregnancy period
source: tinystep

ज्यादा सोने के नुकसानः

गर्भावस्था के दौरान ज्यादा सोना आपके लिए हानिकारक साबित हो सकता है. अधिक सोने की वजह से आपमें वजन का बढ़ना, आलस्य, हर वक्त थकान महसूस होना जैसी कई समस्याएं हो सकती है.

1. वजन बढ़नाः

जैसे-जैसे महीना बढ़ता जाता है वैसे ही गर्भवती महिलाओं के वजन में भी वृद्धि होना शुरू हो जाता है. ऐसी परिस्थिति में अगर आप ज्यादा सोती है तो शरीर में कैलोरी बर्न होना कम हो जाता है. जिस वजह से शरीर में वसा जमने से चर्बी बढ़ने लगती है और प्रेगनेंसी के दौरान आपका वजन तेजी से बढ़ने लगता है. जिसके परिणामस्वरूप गर्भावस्था (Pregnancy) के दौरान हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं.

2. बॉडी में दर्दः

अधिक सोने से पूरे शरीर में दर्द की समस्या शुरू हो सकती है. खासकर पीठ में तेज दर्द की वजह से आपका उठना, बैठना पर कुछ काम करने में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है.

एक महिला के लिए मां बनना ईश्वर का सबसे अनमोल तोहफा है. पहली बार
मां बनने की खुशी तो मानों उसके लिए जन्नत मिलने के बराबर है.

3. थकानः

गर्भावस्था के दौरान अगर आप अधिक सोती हैं तो इससे आप हमेशा थका थका सा महसूस करती हैं. अगर आप प्रेंगनेंसी के दौरान ऐक्टिव रहती हैं तो आपको अपना फिटनेस बरकरार रखने में पर्याप्त मदद मिल जाती है.

4. आलस्यः

गर्भावस्था (Pregnancy) में अत्यधिक सोने से भी आपके अंदर आलस्य की वृद्धि होगी. आलस्य की वजह से आपका सिर्फ सोने का मन करेगा और किसी भी काम को करने में आपकी रुचि नहीं रहेगी.

5. तनावः

अधिक सोने वाले इंसान का दिमाग बहुत जल्दी प्रभावित होता है. यानी छोटी-छोटी बातों को लेकर वह हमेशा टेंशन महसूस करने लगता है. ठीक ऐसा ही गर्भवती महिलाओं के साथ भी होता है. आप भी अगर ज्यादा सोएंगी तो आपके साथ-साथ आपके बच्चे के लिए भी तनाव नुकसान पहुंचा सकता है.

6. असंतुलित ब्लड शुगर लेवलः

प्रेगनेंसी के दौरान ब्लड शुगर संबंधी परेशानी से बचने के लिए आपको अधिक सोने से बचना चाहिए. इस दौरान शरीर में ब्लड शुगर लेवल असंतुलित होना शुरू हो जाता है. जिस कारण टाइप 2 शुगर का खतरा बना रहता है.

less sleep during pregnancy
source: medicalnewstoday

कम सोने के नुकसानः

आपके लिए जिस तरह अधिक सोना नुकसानदेह है उसी तरह कम सोना भी काफी नुकसान पहुंचा सकता है. गर्भावस्था (Pregnancy) के दौरान अधिक सोना अपके लिए कई तरह की परेशानियों का कारण बन सकती है.

1. स्वास्थ्य की समस्याः

अगर आप गर्भावस्था में कम सोती हैं तो आपके लिए स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती है. इन समस्याओं में मुख्य रूप से ब्लड प्रेशर, शुगर समेत और भी कई समस्याएं हो सकती है.

2. चिड़चिड़ापनः

प्रेगनेंसी के दौरान अगर आप कम नींद लेती हैं तो आपको चिड़चिड़ापन महसूस होने लगता है. मूड में परिवर्तन की वजह से आपको गुस्सा भी अधिक आएगा और किसी भी काम में आपका मना नहीं लगेगा. इसके सिवा आपको और भी कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ सकता है.

3. मस्तिष्क पर प्रभावः

मशीन की तरह ही दिमाग में भी अधिक काम करने से थकावट महसूस होती है. इसलिए दिमाग को बेहतर तरीके से काम करने के लिए उसे पर्याप्त आराम की भी जरूरत होती है. गर्भावस्था (Pregnancy) में अगर आप पर्याप्त नींद नहीं लेती हैं तो आपके दिमाग पर इसका बुरा असर पड़ता है. जिस कारण आपको तनाव की समस्या से जूझना पड़ सकता है.

4. शरीर में दर्दः

नींद कम लेने के कारण आपको उठने-बैठने में तो परेशानी होगी ही साथ ही पीठ, सिर व जोड़ों के दर्द की समस्या का सामना करना पड़ सकता है.

5. कमजोरीः

आप अगर खुद को एनरजेटिक रखना चाहती हैं तो जरूरी है कि आप पर्याप्त नींद लें. भरपूर नींद नहीं लेने पर आप शरीर में कमजोरी व थकान महसूस करेंगी.

necessary sleep during pregnancy
source: babycenter

कितना सोना है जरूरीः

आम आदमी की तरह आपको भी आठ घंटे की भरपूर नींद लेनी चाहिए. इसके बावजूद अगर आपको थकान महसूस हो तो फिर आप दिन में भी एक घंटे सो सकती हैं. ऐसे करने से आप एनरजेटिक रहेंगी और बेहतर महसूस करेंगी. पर्याप्त नींद लेने से आप खुद स्वस्थ रखने के साथ-साथ प्रेगनेंसी के दौरान ऐक्टिव रहने में भी मदद मिलेगी.

सोते समय रखें ध्यानः

गर्भावस्था के दौरान अगर आप एक पोजीशन में सोती हैं तो शरीर में ब्लड सर्कुलेशन सही नहीं रहता. कोशिश यह भी करें कि ज्यादा समय तक सीधे होकर ना सोएं बल्कि करवट लेकर सोएं. लगातार एक ही तरफ नहीं बल्कि करवट बदलते रहना चाहिए. प्रेगनेंसी के दौरान बाईं ओर करवट लेकर सोने को सबसे बेहतर पोजीशन कहा जाता है.

यहां हमसे आपसे गर्भावस्था में सोने से जुड़ी कुछ खास जानकारियां साझा की है. जसमें प्रेगनेंसी के दौरान अधिक या कम सोना दोनों ही सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है. इस सुझाव को पढ़कर अगर आप सोने से संबंधी आदतों में सुधार कर जरूरत के अनुरूप नींद लेती हैं तो यह आपके व शिशु दोनों के लिए लाभदायक साबित होगा. ‘योदादी’ के साथ अपने अनुभव को कमेंट कर जरूर शेयर करें. #प्रेगनेंसीकेयर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here