Home Pregnancy प्रेग्नेंट होने के शुरुआती 10 महत्वपूर्ण लक्षण

प्रेग्नेंट होने के शुरुआती 10 महत्वपूर्ण लक्षण

गर्भावस्था के लक्षणों को जानने की उत्सुकता को हर महिला के अंदर होती है. आपके शरीरिक लक्षणों से ही आपके गर्भावस्था का पता चल सकता है. Early Symptoms of Pregnancy

गर्भवस्था हर महिला के लिए उत्सुकता भरा समय होता है. गर्भवती है कि नहीं यह जानने के लिए वह बेताब रहती है. कभी-कभी गर्भावस्था का एहसास हो जाता है. कितनी बार कई सप्ताह तक आपको इस बदलाव का एहसास नहीं होता. यहां गर्भावस्था के 10 प्रमुख लक्षण
(Early Symptoms of Pregnancy) दिये जा रहे हैं. जिसकी सहायता से आपको अपने गर्भवती होने का एहसास हो.

early-symptoms-of-pregnancy

1. खाने की पसंद बदलना – Early Symptoms of Pregnancy

गर्भावस्था के दौरान किसी विशेष भोजन की लालसा ज्यादा रहती है. वहीं कुछ भोजन आपको पसंद नहीं भी आए. आपकी सूंघने की अनुभूति में भी बदलाव आ सकता है. कुछ महिलाओं में यह बहुत जल्दी या शुरूआती दिनों में महसूस होता है.

कभी-कभी पीरियड मिस होने से पहले भी यह लक्षण (Early Symptoms of Pregnancy) दिखने लगते हैं. हालांकि सिर्फ इस पर विश्वास करना ठीक नहीं. यह आपके शरीर में किसी विशेष पोषक तत्व की कमी का भी लक्षण हो सकता है.

सूंघने की अनुभूति में बदलाव भी इसके लक्षणों में शामिल है. यह आप खुद महसूस कर सकती हैं. खाना बनाने से लेकर खाने तक खुद को संवेदनशील महसूस करती हैं. कुछ चीजों के गंध से आपकी भूख भी कम हो सकती है.

2. शरीर का उच्च बेसल तापमान

गर्भावस्था के दौरान शरीर का तापमान लगातार बढ़ा हुआ रहता है. अगर आप रोजाना अपने तापमान पर नजर रखती हैं तो यह बदलाव आपको स्वयं समझ आएगा.

3. थकान – Early Symptoms of Pregnancy

गर्भावस्था के शुरुआती दौर से ही आपको शरीर में थकान महसूस होना शुरू हो जाएगा. ऐसे में आपको अधिक से अधिक सोने, लेटने और बैठने का मन कर सकता है. यह सब आपके गर्भावस्था के हार्मोन के कारण होता है. थकान गर्भावस्था का सामान्य लक्षण (Pregnancy Symptoms) है.

4. मिचली व उल्टी आना

गर्भावस्था में मिचली व उल्टी आना शुरुआती लक्षण है. लेकिन हर किसी को इस समस्या का सामना नहीं करना पड़ता. यानी सभी को मिचली या उल्टी नहीं आती. सुबह की मिचली गर्भावस्था के छठे हफ्ते में शुरू होती है.

कई बार यह चौथे सप्ताह में भी शुरू होती है. इसमें आपको उल्टी हो यह जरूरी नहीं. कई बार मात्र मिचली का ही एहसास होता है उल्टियां नहीं आती. यह दिन-रात कभी भी हो सकती है.

5. पीरियड मिस होना

पीरियड मिस होना गर्भावस्था के निश्चित संकेतों में से एक हैं. अगर आपका पीरियड हमेशा नियमित रहता है, कभी अगर यह सही वक्त पर नहीं हो तो आपको प्रेगनेंसी की जांच करनी चाहिए. इस जांच का परिणाम हमेशा सकारात्मक ही मिलता है.

लेकिन जिन लोगों का पीरियड हमेशा ही अनियमित रहता है, उन्हें तो इसके मिस होने का एहसास ही नहीं होता. क्योंकि ऐसी महिलाएं तो हर महीने ही इसकी तारीख तो लेकर संशय में रहती हैं. इस दौरान मिचली आना, संवेदनशील स्तन व थोड़ी-थोड़ी देर पर टॉयलेट आने से भी आपको गर्भवती होने का संकेत मिल सकता है.

6. संवेदनशील स्तन Early Symptoms of Pregnancy

जब आप गर्भवती होती हैं तो गर्भावस्था के छठे सप्ताह से आपके स्तन बहुत ज्यादा संवेदनशील होने लगते हैं. पहली तिमाही में संवेदनशीलता सामान्य है. यह लक्षण (Pregnancy Symptoms) गर्भधारण करने के एक सप्ताह के अंदर ही पता चलने लगता है. गर्भावस्था बढ़ने के साथ-साथ यह संवेदनशीलता कम होने लगती है. चिकित्सक की मानें तो गर्भावस्था के हॉर्मोन स्तनों में रक्त आपूर्ति को बढ़ाते हैं.

7. मानसिक परिवर्तन

प्रेगनेंसी के दौरान किसी भी महिला के शरीर में हॉर्मोन स्तर तेजी से बढ़ना शुरू हो जाता है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि इस दौरान आपके खून में ईस्ट्रोजन और प्रोजेस्टीरोन की मात्रा बढ़ जाती है. बढ़ा हुआ हॉर्मोन का स्तर ही आपको मानसिक रूप से प्रभावित करता है.

इसमें ऐसा होता है कि इंसान खुद को सामान्य से ज्यादा ही चिंतित महसूस करता है. लेकिन यह सब एक दायरे तक होता है. अगर आप खुद को बहुत ज्यादा परेशान महसूस करें, या बहुत तेज गुस्सा आए तो फिर यह चितां का विषय है. तब तो आपको इस बारे में चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए.

8. पेट फूलना – Early Symptoms of Pregnancy

पेट का फूलना भी गर्भवती होने के प्रमुख लक्षणों (Pregnancy Symptoms) में शामिल है. रोजाना पहनने वाले कपड़े आपको कमर के पास सामान्य से तंग लगने शुरू हो जाते हैं. इसका यह मतलब नहीं है कि आपका गर्भाशय बढ़ बल्कि हॉर्मोन परिवर्तन के कारण यह फूलापन महसूस होता है. गर्भवती होने के शुरू के दिनों में शरीर प्रोजेस्टीरोन उत्पन्न करता है.

यह जठरांत्र पथ समेत समस्त शरीर की मांसपेशियों के सौम्य उत्तकों को शिथिल कर देता है. इस शिथिलता की वजह से आपकी पाचन प्रक्रिया धीमी हो जाती है. इसकी वजह से पेट में फुलाव, गैस व असहज महसूस होता है. ज्यादा खाना खाने के बाद यह स्थिति अधिक दिखाई देती है.

9. थोड़ी-थोड़ी देर पर टॉयलेट आना

गर्भवती होने के छठे सप्ताह से महसूस होता है कि आपको सामान्य से ज्यादा टॉयलेट आ रहा है. गर्भावस्था में शरीर में रक्त की अधिक मात्रा, हॉर्मोनल परिवर्तन की वजह से ऐसा होता है.

10. बदहजमी की समस्या

प्रेगनेंसी के छठे सप्ताह में पाचन संबंधी समस्याएं होती है. जिसमें सीने में दर्द गैस्ट्रिक एसिडिटी मुख्य कारण हैं. शरीर में होने वाले हार्मोनल परिवर्तन के कारण ही ये समस्याएं होती है.

आप गर्भवती हैं या नहीं इसके कई सारे लक्षण हैं. जिसे देखकर आपको खुद ही प्रेगनेंसी की जांच कर सकती हैं. हालांकि यहां बताए गए लक्षण सभी महिलाओं में समान हो यह जरूरी नहीं है.

क्या आप भी अपने गर्भवती होने का पता लगाना चाहती हैं? तो इस आलेख को ध्यान से पढेंगे तो आपको इस जांच में मदद मिलेगी. अगर आपको यह लेख पसंद आए तो कृप्या ‘योदादी’ के साथ कमेंट कर शेयर जरूर करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here