Home Education Encourage Child’s Talent in Hindi: तो फिर ऐसे टीवी पर दिखेंगे आपके...

Encourage Child’s Talent in Hindi: तो फिर ऐसे टीवी पर दिखेंगे आपके बच्चे

आपका बच्चा अगर एक्टिंग करता है तो उसे प्रोत्साहित करें, ताकि भविष्य में वह बेहतर प्रदर्शन कर सके. (Encourage Child's Talent in Hindi)

हर बच्चे की अपनी अलग-अलग प्रतिभाएं (Encourage Child’s Talent in Hindi) होती है. कोई बच्चा पढ़ाई में अच्छा होता है तो कोई खेलकूद में. लेकिन हर माता-पिता यही चाहते हैं कि उनका बच्चा पढ़ाई में बेहतर प्रदर्शन करें. बात तो सही है कि बच्चे का शिक्षित होना जरूरी है लेकिन अगर आपके बच्चे का मन भी पढ़ाई में नहीं लग रहा है तो इसमें टेंशन लेने की जरूरत नहीं है. क्योंकि अब वो जमाना गया, अब बच्चे खेल-कूद व एक्टिंग में भी खूब नाम रोशन कर रहे हैं.

Encourage Child's Talent in Hindi

आपका बच्चा भी अगर एक्टिंग करता है, तो ये अच्छी बात है और आप उसे प्रोत्साहित करें. कई बाल कलाकार ऐसे हैं जो एक्टिंग से ही खूब नाम व पैसा कमा रहे हैं. इसलिए अगर आपके बच्चे को भी एक्टिंग पसंद है, तो जरूरी है कि आप अपने बच्चे का उत्साह बढ़ाएं और उसकी एक्टिंग स्किल को निखारने में उसकी हर संभव मदद करें. ताकि भविष्य में आपका बच्चा फिल्म थियेटर में बेहतर प्रदर्शन कर सके.

अपने बच्चे की प्रतिभा को निखारने के लिए आजमाएं ये टिप्सEncourage Child’s Talent in Hindi

1. गर्मी की छुट्टियों व अन्य वेकेशन में भी आप अपने बच्चे को एक्टिंग की क्लास में भर्ती करा सकते हैं. आप बच्चे को कोई थियेटर भी ज्वाइन करा सकते हैं.

2. जब भी फुर्सत मिले आप अपने बच्चे की एक्टिंग (Encourage Child’s Talent in Hindi) का छोटा -छोटा विडियो खुद ही मोबाइल पर बनाते रहें. रोजाना ऐसा करने से बच्चे की झिझक दूर हो जाएगी.

3. बच्चे को स्कूल में होने वाले कार्यक्रमों में पार्टिसिपेट करने के लिए प्रोत्साहित करें.

इसे भी पढ़ें: व्यक्तित्व के विकास में सहायक होती है नाट्य कला!

4. आप बच्चे को किसी खास विषय पर वीडियो दिखाएं, किसी खास कैरेक्टर पर फोकस कराएं. फिर बच्चे से कहें कि वह उस कैरेक्टर की नकल करके दिखाए. ऐसा करने पर भी बच्चे की एक्टिंग स्किल में निखार आएगा.

5. समय-समय पर अपने बच्चे को मशहूर बाल कलाकारों के बारे में बताते रहें व उनकी सफलता को दिखाते हुए उसे प्रेरित करने की कोशिश करें.

6. एक और जरूरी बात वो ये कि आप अपने बच्चे के हुनर को पहचानें. यानी अगर बच्चा सिंगिंग में अच्छा है, तो उसे उसी क्षेत्र में भेजें. उस पर जबरदस्ती एक्टिंग का बोझ मत डालें. अगर बच्चे में डांस का टैलेंट है तो उसके लिए डांस ही बेहतर होगा और एक्टिंग वाले बच्चे को सिंगिंग में न धकेलें.

कहां-कहां है स्कोपEncourage Child’s Talent in Hindi

बच्चा अगर टैलेंटेड है तो उसे फिल्म के साथ-साथ टीवी सीरियल्स में भी काम मिल सकता है. कई विज्ञापन भी ऐसे होते हैं जिनमें बाल कलाकारों को ही लिया जाता है. यानि बच्चा विज्ञापनों में भी काम कर सकता है. इसके अलावा विभिन्न टीवी चैनलों पर हमेशा बच्चों के लिए सिंगिंग, डांसिंग व एक्टिंग के रियलिटी शो आते रहते हैं. अगर बच्चे में हुनर है तो वह इनमें पार्टिसिपेट करके भी नाम कमा सकता है.

इन बाल कलाकारों को मिली पहचान

आज के दौर में बेस्ट अभिनेताओं में शामिल आमिर खान ने बाल कलाकार (Encourage Child’s Talent in Hindi) के तौर पर अपना डेब्यू 1973 में फिल्म यादों की बारात से किया था. फिल्म में आमिर ने तारिक बचपन का रोल किया था. इसके बाद उन्होंने केतन मेहता की फिल्म होली में भी बाल कलाकार के रूप में काम किया था. वहीं मशहूर अभिनेता रितिक रोशन ने भी बाल कलाकार के रूप में ही हिंदी फिल्मों में अपना सफर शुरू किया था. इन्होंने भगवान दादा और आपके दीवाने में हाथ आजमाया था.

संजय दत्त ने 1972 में आई रेशमा व शेरा फिल्म में बाल कलाकार के रूप में एक्टिंग की थी. इसके अलावा महेश भट्ट की 1999 में आई संघर्ष फिल्म में आलिया भट्ट ने बाल कलाकार के रूप में अभिनय किया था. और अभी के दौर में दर्शील सफारी, अमन सिद्दकी, आयशा कपूर, जैसे कई नाम एक्टिंग में शोहरत बटोर रहे हैं.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here