Home Education …ताकि खुश होकर स्कूल जाए आपका बच्चा!

…ताकि खुश होकर स्कूल जाए आपका बच्चा!

किसी भी बच्चे के लिए स्कूल जाने की शुरूआत मुश्किल हो सकती है. पहली बार स्कूल जाने में हर बच्चे को डर लगता है क्योंकि उनके लिए यह दुनिया पूरी तरह से नई होती है. अगर आप कुछ तरीकों को अपनाएंगे तो आपका बच्चा निश्चित ही खुशी-खुशी स्कूल जाने को तैयार रहेगा.

बच्चे का स्कूल जाने से मना करना एक आम बात है. अक्सर देखा जाता है कि जब बच्चों के स्कूल जाने की बात आती है तो वे रोना-धोना शुरू कर देते हैं. इसके लिए उनके पास कई तरह की बहानेबाजी भी रहती है. बच्चे की रोजाना की इस हड़कत से अभिभावकों को परेशानी होती है. क्या आपका बच्चा भी स्कूल नहीं जाना चाहता? वह भी इसी तरह आपको रोजाना परेशान करता है.

आप कुछ तरीके अपनाकर इस समस्या का समाधान कर सकते हैं. ताकि आपका बच्चा भी खुशी-खुशी स्कूल जाने को तैयार रहेः

source: mycity4kids

स्कूल जाने से क्यों डरते हैं बच्चे?

किसी भी बच्चे के लिए स्कूल जाने की शुरूआत मुश्किल हो सकती है. पहली बार स्कूल जाने में हर बच्चे को डर लगता है क्योंकि उनके लिए यह दुनिया पूरी तरह से नई होती है. वहां उन्हें नए-नए लोगों से मुलाकात होती है. उन्हें घरवालों से काफी समय तक दूर रहना पड़ता है. ऐसे में उनका घबराना स्वाभाविक सी बात है. कभी-कभी तो बड़े बच्चे भी स्कूल जाना नहीं चाहते और तरह-तरह की बहानेबाजी भी करते हैं. या फिर बच्चा सुबह उठने से नींद खराब होने के भय से भी स्कूल जाने में आनाकानी करता है. हालांकि इससे अभिभावकों के सामने समस्या उत्पन्न होती है.

जैसे –

1. जब बच्चा पहली बार स्कूल जा रहा हो तो उसके स्कूल की सारी शॉपिंग बच्चे के साथ ही करें. जब आप उसके साथ उसका स्कूल बैग, जूते, किताब, कॉपियां खरीदेंगे तो उसे देखने पर बच्चा उत्साहित होगा. जब आप उसे बताएंगे कि यह तमाम नई-नई चीजें लेकर बच्चा नए स्कूल में जाएगा. तो उसके अंदर स्कूल जाने के प्रति उत्साह और बढ़ेगा.

2. बच्चे के नए स्कूल में जाने की जानकारियां उसे रोचक अंदाज में दें. जैसे उसे बताएं कि अब वह स्कूल में जाने वाला है. वहां उसके बहुत सारे नए साथी बनेंगे. अच्छे-अच्छे शिक्षक मिलेंगे जो उसे बहुत प्यार से पढ़ाएंगे.

3. अगर बच्चे को स्कूल बस से जाना है तो उसे रोचक अंदाज में बताएं. यही कि स्कूल बस में उसके और भी बहुत सारे साथी रहेंगे, जिनके साथ वह मस्ती करते हुए स्कूल जाएगा.

4. पहली बार स्कूल जाने की तैयारियों में एक महत्वपूर्ण बात यह है कि आप बच्चे से उसका अनुभव पूछ लें. जैसे नए स्कूल के बारे में वह क्या सोच रहा है? स्कूल के प्रति उसका धारणा क्या है? क्या वह स्कूल जाने के लिए उत्साहित है? या फिर वह स्कूल जाने को लेकर टेंशन में तो नहीं है.

source: patrika

और भी कुछ कारण यहां दिए गए हैं-

5. स्कूल जाने के प्रति बच्चे में उत्साह बढ़ाएं. बच्चे को बताएं कि नए स्कूल में नए दोस्तों के साथ उसे नया-नया गेम खेलने के मौका मिलेगा. पढ़ाई के साथ वह दोस्तों के साथ स्कूल के मैदान में खूब मस्ती भी करेगा.

6. बच्चे का मनोबल बढ़ाने के लिए उसे कुछ जरूरी बात समझाएं. जैसे उसकी कक्षा में पढ़ने वाले हर बच्चे का ही पहला दिन है. तो हर बच्चे ही नर्वस होंगे. पर इसमें भयभीत होने वाली कोई बात नहीं है क्योंकि स्कूल के पहले दिन हर किसी का अनुभव ऐसा ही होता है.

7. अगर संभव हो सके तो क्लास शुरू होने से पहले बच्चे को लेकर स्कूल जाएं. उसे पूरा स्कूल घुमाएं, क्लास रूम व स्कूल में स्थित खेल का मैदान भी दिखाएं. संभव हो तो उसका स्कूल के कुछ बच्चों के साथ परिचय करवा दें. इससे बच्चे का मनोबल बढ़ेगा और वह स्कूल जाने के लिए उत्साहित रहेगा.

8. अगर आपके घर के निकट भी कोई परिचित बच्चा हो जो उसी स्कूल में पढ़ाई करता हो तो कोशिश करें कि स्कूल की शुरुआत करने से पहले उसका अपने बच्चे के साथ परिचय करवा दें. पहले अगर कोई जाना-पहचाना स्कूल में मिलेगा तो भी बच्चे का मनोबल बढ़ेगा.

source: blogspot

यह भी देखें-

9. बच्चे को यह भरोसा दें कि आप हर संभव उसके साथ हैं. पहले उसे समझाएं की उसका स्कूल बहुत बढ़ियां है. यहां उसे किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी. फिर भी अगर कोई दिक्कत होती है तो वह घर में जरूर बताए. ताकि समस्या का समाधान करना संभव हो पाएगा.

10. बच्चे का कोई भाई-बहन अगर उस स्कूल में पढ़ता हो तो बच्चे को समझाएं कि वह स्कूल में अकेला नहीं रहेगा. उसके साथ भाई-बहन व बहुत सारे अच्छे मित्र भी रहेंगे. तो भी बच्चा खुशी-खुशी स्कूल जाने को तैयार रहेगा.

11. बच्चे के स्कूल से घर लौटने पर उसके दिन भर की गतिविधियों के बारे में जरूर जानकारी हासिल करें. उससे यह पूछे कि उसने पूरे दिन स्कूल में क्या किया? क्या पढ़ाई की? कितने दोस्त बनाए? उसे स्कूल में किसी तरह की परेशानी तो नहीं है?

12. अगर बच्चे की तरफ से स्कूल के खिलाफ कोई शिकायत मिलती है तो उसे कभी नजरअंदाज ना करें. बल्कि आप स्कूल प्रबंधन के साथ संपर्क स्थापित करें. बच्चे द्वारा की गई शिकायत की पड़ताल कर इसके समाधान की कोशिश करें.

Read also: बच्चों को अंगूठा चूसने की आदत छुड़ाएं?

कुछ और आवश्यक बातें-

13. अगर आपको बच्चे द्वारा स्कूल में किसी तरह की परेशानी की शिकायत मिल रही है. इसके बावजूद अगर आप उसके समाधान की कोशिश नहीं करेंगे. ऐसे में आपका बच्चा स्कूल में डरा-डरा सा रहने लगेगा. जिसका असर उसके दिमागी विकास पर पड़ेगा.

14. बच्चे को हमेशा यह अहसास दिलाएं कि आप हर वक्त उसके साथ है. उसे किसी परेशानी में भयभीत होने की कोई जरूरत नहीं है. बल्कि उसे खुलकर अपनी बातें साझा करने की सलाह दें. ऐसे में उसका मनोबल बढ़ेगा और स्कूल जाने के लिए कोई बहानेबाजी भी नहीं करेगा.

हंसी-खुशी बच्चा अगर स्कूल जाता है तो वह ध्यान से पढ़ाई कर सकता है. अगर बेमन से स्कूल गया तो इससे उसकी पढ़ाई बाधित होगी साथ ही यह उसके बेहतर भविष्य के लिए ठीक नहीं होगा. क्या आप हमारे इस विचार से सहमत हैं? ‘योदादी’ के साथ अपने अनुभव को कमेंट कर जरूर शेयर करें. #हैप्पीचाइल्ड

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here