Home Education परीक्षा के बाद दिमाग को रिफ्रेश करने के टिप्स – Utilize Study...

परीक्षा के बाद दिमाग को रिफ्रेश करने के टिप्स – Utilize Study Breaks

यहां जानें कि कैसे इन स्टडी ब्रेक्स को मजेदार और प्रोडक्टिव बना सकते हैं! How to utilize study breaks effectively

परीक्षा के दौरान विद्यार्थियों का डेली रूटीन बहुत ही व्यस्तता वाला होता है. इस समय बच्चे मनोरंजन के लिए भी थोड़ा-सा वक्त नहीं निकाल पाते क्योंकि सारा फोकस परीक्षा पर रखना होता है. किसी भी छात्र के लिए यह बहुत कीमती समय होता है. इस दौरान उनके लिए सबसे जरूरी सिर्फ पढ़ाई होती है. खासकर बोर्ड की परीक्षा को हर बच्चे को गंभीरता से लेनी चाहिए. आखिर परीक्षा पूरे साल की मेहनत को दर्शाते हैं. परीक्षा में मिलने वाले नंबर आगे पढ़े जाने वाले विषय और काफी हद तक बच्चे के भविष्य को भी प्रभावित करते हैं.

How to utilize study breaks effectively
How to utilize study breaks effectively

परीक्षा के खत्म होते ही (How to utilize study breaks effectively) विद्यार्थियों के ऊपर पढ़ने का कोई बोझ नहीं रहता. ऐसा तब तक रहता है, जब तक रिजल्ट ना आ जाए और नई कक्षा में एडमिशन ना हो जाए. बोर्ड परीक्षा के बाद इनकी जिंदगी मानों आजाद-सी लगने लगती है. परीक्षा के बाद मिलने वाली छुट्टियों में बच्चों को अपने रिजल्ट की चिंता नहीं करनी चाहिए. बल्कि उन्हें अपनी छुट्टियां इस तरह बितानी चाहिए कि उनकी शारीरिक और मानसिक थकावट पूरी तरह दूर हो जाए.

अक्सर देखा जाता है कि छुट्टियां शुरू होने पर तो बच्चों में उमंग रहता है. लेकिन धीरे-धीरे सप्ताह दो सप्ताह होने पर विद्यार्थियों का बोर होना शुरू हो जाता है. ऐसे में उन्हें कुछ ऐसी एक्टिविटी में शामिल होना चाहिए जिसमें वे व्यस्त रहने के साथ-साथ कुछ सीख भी सकें.

यहां जानें कि कैसे इन स्टडी ब्रेक्स को मजेदार और प्रोडक्टिव बना सकते हैं! (How to utilize study breaks effectively)

1. हॉबी को दें पर्याप्त समय

आजकल के बच्चों पर पढ़ाई का इतना दबाव रहता है कि वे अपनी शौक को पूरा करने का समय नहीं निकाल पाते. कविताएं व कहानियां लिखना, फोटोग्राफी, पेंटिंग, मार्शल आर्ट सीखना आदि शौक को पूरा करने के लिए परीक्षा के बाद की छुट्टियों से बेहतर और कोई समय नहीं हो सकता. अपनी हॉबी में व्यस्त रहने पर बच्चे अनचाही चिंताओं व तनाव से मुक्त रहते हैं. इससे बच्चे में क्रिएटिविटी और सकारात्मक सोच को बढ़ावा मिलता है. अपनी हॉबी को अगर आप गंभीरता से लेते हैं तो भविष्य में ये आपके लिए बेहतर करियर का भी निर्माण कर सकती है.

2. आउटडोर गेम्स से रहें चिंतामुक्त

दोस्तों के साथ खेलना किस बच्चे को पसंद नहीं आता. स्कूल हो या घर बच्चे अपने साथियों के साथ खेलने के लिए समय निकाल ही लेते हैं. क्यूंकि अपने दोस्तों के साथ खेलना उन्हें बहुत पसंद आता है. कई बार ऐसा देखा जाता है कि स्कूल व ट्यूशन की पढ़ीई की व्यस्तता के कारण उन्हें अपना पसंदीदा खेल खेलने का समय नहीं मिल पाता. परीक्षा की छुट्टिय़ों में आप अपने दोस्तों के साथ बाहर जाकर विभिन्न तरह के गेम्स में हिस्सा लें. इससे आपको बहुत खुशी मिलेगी. (How to utilize study breaks effectively)

बच्चे हो या बड़े गेम्स खेलने से हर किस्म के टेंशन व स्ट्रेस से मुक्ति में मदद मिलती है. खासकर आउटडोर गेम्स से आपको शारीरिक और मानसिक दोनों रूपों में तंदुरुस्त होने में मदद मिलेगी. खेलों में बेहतरीन करियर को देखते हुए माता-पिता भी अपने बच्चों को विभिन्न खेलों जैसे कि क्रिकेट, टेनिस, स्विमिंग, आदि में दाखिला दिलाते हैं.

3. अपनी इच्छाओं को पूरा करने का बेहतर समय

हर बच्चे के मन में किसी न किसी चीज को सीखने की इच्छा रहती है, लेकिन स्कूल ट्यूशन की व्यस्तता के कारण वो इसे सीखने के लिए वक्त नहीं दे पाते हैं. लेकिन परीक्षा की छुट्टियों में तो ना कोई होर्मवर्क की चिंता रहती है, ना कोई स्कूल या ट्यूशन जाने की टेंशन. अपनी शौक को पूरा करने के लिए यह वक्त एकदम परफेक्ट है.

यही वो समय है जिसमें आप अपने टैलेंट को निखार सकते हैं, चाहे आपको गाना पसंद हो, डांस पसंद हो या फिर नई भाषा सीखने की रुचि जैसे कुछ भी शौक हो सकते हैं. अपने किमती समय का सदुपयोग करने के लिए आप अपने बोर्ड परीक्षा के बाद की छुट्टियों में अपनी रुचि के अनुसार क्लासेस ज्वाइंन कर सकते हैं.

4. अपने लिए सही स्ट्रीम पर रिसर्च करेंHow to utilize study breaks effectively

10वीं और 12वीं दोनों की बोर्ड परीक्षाओं के बाद विद्यार्थियों को अपने करियर के नए पड़ाव की तरफ बढ़ना होता है. अपने बेहतर भविष्य के लिए बच्चे को सही स्ट्रीम का चयन करना पड़ता है. इसी के उपर बच्चे का भविष्य निर्भर करता है. इसलिए कभी भी स्ट्रीम चयन करने से पहले बच्चे को इस पर गंभीरता से रिसर्च करना चाहिए.

विभिन्न स्ट्रीम में पढ़े जाने वाले विषयों, उनका कठिनाई स्तर, उस स्ट्रीम से जुड़े क्षेत्र और उनमे रोजगार की संभावनाएं आदि तमाम पहलुओं पर गंभीर छानबीन करने के बाद ही किसी नतीजे पर आना चाहिए. इसके लिए बोर्ड परीक्षा की छुट्टियां बहुत ही लाभकारी होती है. इस संबंध में आप अपने सीनियर्स, टीचर्स व एक्सपर्ट काउंसलर्स से मिलकर राय ले सकते हैं. जिससे अपने अकादमिक करियर के अगले पड़ाव में कदम रखने से पहले आपके सामने एक सीधा व स्पष्ट राह हो.

5. शार्ट टर्म जॉब ओरिएंटेड कोर्स करें

अभी तो कई इंस्टिट्यूट ऐसे कोर्स करवाते हैं जिसका समय मात्र एक या दो महीने का ही होता है. इस तरह के कई सारे शार्ट टर्म कोर्स हैं जो भविष्य में कोई अच्छी जॉब पाने में आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकते हैं. ऐसे कोर्स आपकी क्षमता में वृद्धि लाते हुए आज के कम्पटीटिव युग में आपको दूसरों के मुकाबले आगे बढ़ने में मदद करते हैं.

कुछ अच्छे शोर्ट-टर्म कोर्स जैसे – शोर्ट हैण्ड कोर्स, वेब डिजाइनिंग, वेब प्रोग्रामिंग, बेसिक कोर्स इन कंप्यूटर एप्लीकेशन, कोर्स इन कंप्यूटर लैंग्वेज जैसे कि JavaScript, C, C++, आदि. ये सभी कोर्सेज आपके दिमाग को लर्निंग एक्टिविटी में व्यस्त रखते हुए इसकी काम करने की क्षमता में भी सुधर लाते हैं.

आप भी अपनी बोर्ड परीक्षा के बाद मिलने वाली छुट्टियों का कुछ इस तरह सदुपयोग कर कीजिए. इससे आप साल भर के स्टडी प्रेशर से तो मुक्त होंगे ही साथ ही अपने व्यक्तिगत गुणों को निखारने का भी यह सबसे बेहतर मौका है.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here