Home Experts Advice Joint Family in Hindi: एकल परिवार में रहते हुए संयुक्त परिवार के...

Joint Family in Hindi: एकल परिवार में रहते हुए संयुक्त परिवार के मूल्यों का विकास कैसे करें

भारतीय संस्कृति में संयुक्त परिवार को प्रोत्साहन दिया गया है. हालांकि कई परिवार एकल व्यवस्था में रहने को मजबूर हैं. (Joint Family in Hindi)

भारतीय संस्कृति में हमेशा से ही संयुक्त परिवार (Joint Family in Hindi) की अवधारणा को प्रोत्साहन दिया गया है. हालांकि आज के दौर में तेजी से हो रहे शहरी विकास में एकल परिवार ही सामाजिक आदर्श के रूप में उभर रहा है. एकल परिवार में बच्चे एक छत के नीचे रहने वाले अपने चाचा, चाची और चचेरे भाई-बहनों के स्नेह को मिस करते हैं.

Joint Family in Hindi

अपने चारों तरफ परिवार से घिरे हुए बच्चे खुशहाल जीवन जीते हैं. कई सारे कारणों की वजह से लोग संयुक्त परिवार में रहना पसंद करते हैं. इनमें एक मुख्य वजह यह है कि संयुक्त परिवार मजबूत पारिवारिक बंधन को सुनिश्चित करता है. संयुक्त परिवार में रहने वाले बच्चे महत्वपूर्ण मूल्यों जैसे साझा करना, मिलना, बॉन्डिंग और समझना आदि को सीखते हैं. हालांकि कई परिवार वित्तिय और व्यावहारिक कारणों से एक एकल व्यवस्था में रहने को मजबूर हैं.

बच्चे को एकल परिवार में संयुक्त परिवार का लाभ ऐसे करें सुनिश्चित- Joint Family in Hindi

1. पूरे परिवार के साथ पिकनिक, सिनेमा और छुट्टियों योजनाएं बनाएं

जब आप अपने रिश्तेदारों जैसे चाचा-चाची और दादा-दादी के साथ पिकनिक, मूवी और छुट्टियों की योजना बनाते हैं तो इस दौरान अपने बच्चों को अपने पूरे परिवार से मिलाएं और उनके बारे में बताएं. इस तरह बच्चे अपनी पसंद और नापसंद से अवगत होते हैं.

2. अपने पूरे परिवार से अक्सर मिलते रहें

अपने परिवार के लोगों (Joint Family in Hindi) के लिए हमेशा ही अपने दरवाजे खुला रखिए. वे जब कभी स्कूल या कॉलेज की छुट्टियों के दौरान आपके शहर में आते हैं और आपसे मिलने जाते हैं तो उन्हें अपने यहां ठहरने के लिए बोलें. इससे बच्चे साथ में रहने के महत्व को समझेंगे. यह एक बेहतर तरीका है बच्चों में साथ में रहने के महत्व को विकसित करने का. कुछ दिनों तक उन लोगों के साथ रहने पर आपके बच्चे में संयुक्त परिवार में रहने वालों की तरह व्यवहार करने का ज्ञान होगा.  

इसे भी पढ़ें: संयुक्त परिवार में रहने के क्या फायदे हैं?

3. संपर्क में रहने के लिए तकनीक का उपयोग करेंJoint Family in Hindi

आज हम सब एक ऐसी दुनिया में जी रहे हैं जहां तकनीक ही सबकुछ तय करती है. हमारा परिवार नवीनतम तकनीकों जैसे फोन और टैबलेट के सहारे ‘वॉट्सऐप’ और ‘फेसबुक’ जैसे नेटवर्किंग एप्लीकेशंस के माध्यम से कहानियों और अनुभवों को साझा करके एक दूसरे से जुड़े रह सकते हैं. एक दूसरे से जुड़े रहने में यह माध्यम बहुत प्रभावी साबित होता है.

4. मूल्यों पर चर्चा करें

अपने एकल परिवार में आप उन मूल्यों पर चर्चा कीजिए जो आप अपने बच्चे में देखना चाहते हैं. यहां आपके बच्चे के लिए कुछ मूल्य बताए जा रहे हैं.

  • सम्मान

अपने बच्चों को सबसे पहले बड़ों का सम्मान करना सिखाना सबसे महत्वपूर्ण है. बच्चे को यह बताएं कि उसके सामने खड़ा व्यक्ति चाहे कोई भी हो अगर वो उम्र में बड़ा है तो उसका सम्मान जरूर करें. अपने बच्चे को यह भी सिखाएं कि दूसरे लोगों की राय का भी सम्मान करे.

  • साझा करना

आप चाहे संयुक्त परिवार (Joint Family in Hindi) में रहें या एकल परिवार में अपने बच्चे को चीजें साझा करने का ज्ञान जरूर दें, जैसे भोजन, कपड़े आदि. चीजें साझा करना जीवन का एक ऐसा मूल्य है जिसे सभी प्रकार के परिवारों के बच्चों को सीखना चाहिए.

  • मिलना-जुलना

बच्चे या बड़ों के साथ मिलना जुलना, बातचीत करना सीखना भी बच्चों का एक महत्वपूर्ण गुण है. आप चाहे तो सामाजिक स्तर पर अपने बच्चे में इन गुणों का विकास कर सकते हैं.

आज के समय में शहरी जीवन में संयुक्त परिवार में रहना व्यावहारिक रूप से संभव नहीं है. इसका एक मुख्य कारण यह है कि यहां रहने की जगह कम होती जा रही है, वहीं परिवार रोजगार और बेहतर जीवन की तलाश में शहरों और अन्य देशों में जा रहे हैं. हालांकि अभी भी इन सीमाओं के बावजूद आपके बच्चे में एक संयुक्त परिवार के मूल्यों को विकसित करना संभव है. अंत में यह है कि माता-पिता अपने बच्चे का पालन-पोषण कैसे करना पसंद करते हैं यानी संयुक्त परिवार के गुणों को देकर या फिर अपने आस-पास के वातावरण पर छोड़ देते हैं.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here