Home Health Care लता मंगेशकर को हुआ निमोनिया, जानिए इसके लक्षण व बचाव!

लता मंगेशकर को हुआ निमोनिया, जानिए इसके लक्षण व बचाव!

बॉलीबुड की जानी मानी गायिका व भारत रत्न लता मंगेशकर के फेफड़े में संक्रमण व निमोनिया की शिकायत है. जिस कारण उनकी हालत नाजुक बनी है. Pneumonia Symptoms

स्वर कोकिला व भारत रत्न लता मंगेशकर की हालत अब भी नाजुक बनी हुई है. डॉक्टर्स उनकी स्थिति अब भी खतरे से बाहर नहीं बता रहे हैं. 90 वर्षीय लता मंगेशकर को फेफड़ों में इंफेक्शन के अलावा निमोनिया (Pneumonia Symptoms) की भी शिकायत हो गई है. अस्पताल के अनुसार उनकी स्थिति की गंभीरता को देखते हुए पिछले दो दिनों से लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर ही रखा गया है.

Lata Mangeshkar

उनकी सेहत को लेकर पूरा देश चिंतित है. हर कोई उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना कर रहे हैं. गत 11 नवंबर को लता मंगेशकर को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी. जिसके बाद उन्हें मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती किया गया था. स्थिति नाजुक होने पर उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है.

इलाज के बाद उनकी हालत में धीरे-धीरे सुधार तो आ रहा है लेकिन स्थिति अब भी गंभीर ही बनी हुई है. मेडिकल जांच में उनके फेफड़ों में इंफेक्शन की जानकारी मिली थी. बाद में पता चला कि उन्हें निमोनिया (Pneumonia Symptoms) भी है. इलाज कर रहे डॉक्टरों के अनुसार उन्हें निमोनिया हो गया है और उनका लेफ्ट वेंट्रिक्युलर भी फेल हो गया है.

उनकी स्थिति नाजुक है लेकिन इलाज के बाद हालत में थोड़ा सुधार दिख रहा है. ‘डॉक्टरों के अनुसार लेफ्ट वेंट्रिकल दिल के ठीक तरह से काम करने के लिए अहम है और अभी उनकी जो स्थिति है, उसमें उनके दिल के दाएं हिस्से को उतनी ही मात्रा का खून पंप करने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ रही है.

हर कोई कर रहा स्वस्थ होने की कामना –

हालांकि अस्पताल की तरफ से लता मंगेशकर की स्थिति के बारे में ज्यादा विस्तृत जानकारी नहीं दी जा रही है. दूसरी तरफ उनके परिवार वालों का कहना है कि उनकी स्थिति पहले से बेहतर हो रही है और बहुत जल्द ही अस्पताल से डिस्चार्ज कर दी जाएंगी. गत 28 सितंबर को उनका 90वां जन्मदिन था और उस दिन वह बिल्कुल फिट थी. लेकिन 11 नवंबर को अचानक ही उन्हें सांस लेने में दिक्कत आने लगी थी.

फिल्म जगत से लेकर राजनीति जगत के लोग भी उनके जल्द से जल्द ठीक होने की कामना कर रहे हैं. फेमस सैंड आर्टिस्ट सुदर्शन पटनायक ने बालू पर लता मंगेशकर की तस्वीर बनाकर उनकी सलामती की दुआ मांगी है. पूर्व भारतीय कप्तान और बीसीसीआई के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने ट्वीट किया है कि लता जी आप जल्द रिकवर करें… वह भारतीय मुकुट का गहना हैं.

आईपीएल चेयरमैन व कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने भी ट्वीट कर लिखा है ‘लता मंगेशकर जी के परिवार के सदस्यों से बात की. अब वह बेहतर हैं, लेकिन अब भी हॉस्पिटल में हैं. हम उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना करते हैं. इनके अलावा गायक बाबुल सुप्रीयो, अदनान सामी, अभिनेत्री पूनम ढिंल्लो, अभिनेत्री हेमा मालिनी, शबाना आजमी और कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिघंवी ने भी लता मंगेशकर के जल्द स्वस्थ होने की दुआएं मांगी है.

क्या है निमोनियां? (Pneumonia Symptoms)

निमोनिया (Pneumonia Symptoms) को लंग्स इंफेक्शन भी कहा जा सकता है. यह फेफड़ों से जुड़ा एक प्रकार का संक्रमण है. इस संक्रमण में पीड़ित व्यक्ति के फेफड़ों में सूजन आ जाती है. कभी-कभी इसमें पानी भर जाता है या फिर मवाद या बलगम भी भर जाता है. ऐसे में मरीज क सांस लेने में दिक्कतें आती है. आमतौर यह बीमारी एक से तीन सप्ताह के अंदर ठीक हो जाती है. लेकिन कई बार यह जानलेवा भी साबित होती है.

निमोनिया के कारण-

1. निमोनिया बैक्टीरिया वायरस के कारण होता है. सांस लेते समय हवा में मौजूद बैक्टीरिया आपके शरीर में प्रवेश कर जाता है. इसके संक्रमण से ही निमोनिया की शिकायत होती है.

2. निमोनिया स्पर्श के माध्यम से भी फैलने वाली बीमारी है. रोगी द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली किसी वस्तु को छूने या इस्तेमाल करने से एक स्वास्थ्य व्यक्ति भी बीमार पड़ सकता है.

इसे भी पढ़ें: 75 फीसदी लिवर खराब होने पर भी अमिताभ कैसे रहते हैं फिट!

3. छींकने व खांसने के माध्यम से भी यह बीमारी अन्य लोगों में स्थानांतरित हो जाती है.

4. किसी संक्रमण के मामले में शरीर रोगाणुओं को पैदा करने वाले संक्रमण पर हमला करने के लिए वाइट ब्लड सेल्स को भेजता है. यही बात निमोनिया में भी होती है और इन्हीं वाइट ब्लड सेल्स के हमले से हमारे लंग्स में स्थित वायु की थैली में सूजन आ जाती है.

lata mangeshkar

लक्षण – Pneumonia Symptoms

1. कफ से साथ खांसी, छींक, बुखार, पसीना आना व ठंड लगना आदि.

2. सांस लेते वक्त सीने में दर्द की समस्या होना. इसके अलावा भूख में कमी, सिरदर्द, मतली व थकान रहना भी इसके लक्षणों में शामिल है.

3. निमोनिया के कुछ आयु-विशेष लक्षण भी हो सकते हैं. 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में, इसके कारण सीने में घरघराहट और तेज सांस लेने आदि की परेशानी हो सकती है.

4. वहीं वयस्कों में, इसके लक्षण मामूली होते हैं और कुछ दिनों में ठीक हो जाते हैं. वहीं ज्यादा होने पर उनका शरीर ठंडा पड़ने लगता है और सांस लेने में परेशानी होने लगती है.

इलाज –Pneumonia Symptoms

निमोनिया (Pneumonia Symptoms) के इलाज के लिए चिकित्सक द्वारा उपचार तय किया जाता है. बैक्टीरिया की वजह से होने वाले निमोनिया का आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं से इलाज किया जाता है. वायरल प्रकार के निमोनिया में एंटीवायरल दवा का सुझाव दिया जाता है. वहीं फंगल प्रकार का उपचार एंटी-फंगल दवाओं द्वारा किया जाता है.

वहीं विशेषज्ञों का कहना है कि निमोनिया को ठीक करने के लिए लंग्स के गाढ़े बलगम को पतला करके बाहर निकालने की जरूरत होती है. इसके लिए डॉक्टर कई बार गर्म तरल पदार्थों का सेवन करने का सुझाव देते हैं. चूंकि इससे सांस लेने में कठिनाई होती है, इसलिए मरीज को तब तक वेंटिलेटर पर रखा जा सकता है जब तक कि सांस सामान्य न हो जाए. #Lata Mangeshkar

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here