Home Culture Muharram Festival in Hindi: क्यों मनाया जाता है मुहर्रम, जानें इसका...

Muharram Festival in Hindi: क्यों मनाया जाता है मुहर्रम, जानें इसका इतिहास

मुहर्रम यानी मातम मनाने और धर्म की रक्षा करने वाले हजरत इमाम हुसैन की शहादत को याद करने का दिन है. (Muharram Festival in Hindi)

इस वर्ष मुहर्रम 19 या 20 अगस्त को मनाया जाएगा. मुहर्रम (Muharram Festival in Hindi) के दिन से इस्लाम धर्म के नए साल की शुरुआत होती है. जबकि 10वें मुहर्रम को हजरत इमाम हुसैन की याद में मुस्लिम संप्रदाय के लोग मातम मनाते हैं. मान्यता है कि इस महीने की 10 तारीख को इमाम हुसैन की शहादत हुई थी, इसलिए इस दिन को रोज-ए-आशुरा भी कहा जाता है. मुहर्रम के दिन जुलूस निकालकर हुसैन की शहादत को याद किया जाता है. इसके अलावा 10वें मुहर्रम पर रोजा रखने की भी परंपरा है.

Muharram Festival in Hindi

मुहर्रम का महीना इस्‍लामी साल का पहला महीना होता है और इसे हिजरी भी कहा जाता है. इसी महीने से इस्‍लाम धर्म के नए साल की शुरुआत होती है. मुहर्रम के दिन मुस्लिम संप्रदाय के लोग सड़कों पर जुलूस भी निकालते हैं. इस दिन अधर्म पर धर्म की जीत का प्रतीक होता है.

क्‍यों मनाया जाता है मुहर्रम? Muharram Festival in Hindi

इस्लाम धर्म के अनुसार इराक में यजीद नाम का जालिम बादशाह इंसानियत का दुश्मन था, यजीद खुद को खलीफा मानता था. हालांकि उसको अल्लाह पर बिल्कुल भी भरोसा नहीं था औऱ वो चाहता था कि हजरत इमाम हुसैन उसके खेमें में शामिल हो जाएं लेकिन हुसैन को ये बिल्कुल भी मंजूर नहीं था इसलिए उन्होंने यजीद के खिाफ युद्ध छेड़ दिया. पैगंबर-ए-इस्लाम हजरत मोहम्मद के नवासे हजरत इमाम हुसैन को परिवार औऱ दोस्तों के साथ कर्बला में शहीद कर दिया गया था. जिस महीने हुसैन औऱ उनके परिवार को शहीद किया गाय था वह महीना मुहर्रम का ही महीना था.

इसे भी पढ़ें: सावन सोमवारी व्रत का महत्व, पूजा विधी और पौराणिक कथा

मुहर्रम का महत्व

इस्लाम धर्म में मुहर्रम (Muharram Festival in Hindi) का बहुत महत्व है. यह मातम मनाने और धर्म की रक्षा करने वाले हजरत इमाम हुसैन की शहादत को याद करने का दिन है. मुहर्रम के महीने में मुसलमान शोक मनाते हैं और अपनी खुशी का त्याद करते हैं. इस्लाम धर्म की मान्यता के अनुसार बादशाह यजीद ने अपनी सत्ता कायम करने के लिए हुसैन और उनके परिवार वालों पर जुल्म किया और 10 मुहर्रम को उन्हें बेदर्दी से मौत के घाट उतार दिया था. हुसैन का सिर्फ एक ही मकसद था खुद को मिटाकर भी इस्लान और इंसानियत को हमेशा जिंदा रखना. यह ऐसा धर्म युद्ध था जो इतिहास के पन्‍नों पर हमेशा-हमेशा के लिए दर्ज हो गया.

कैसे मनाया जाता है मुहर्रम – Muharram Festival in Hindi

मुहर्रम का त्योहार खुशियों का त्‍योहार नहीं बल्‍कि मातम और आंसू बहाने का महीना है. 10 मुहर्रम (Muharram Festival in Hindi) के दिन शिया समुदाय के लोग काले कपड़े पहनकर हुसैन और उनके परिवार की शहादत को याद करते हैं. हुसैन की शहादत को याद करते हुए इस दिन सड़कों पर जुलूस निकालकर मातम मनाया जाता है. मुहर्रम की 9 और 10 तारीख को मुसलमान रोजा रखते हैं और साथ ही मस्जिदों-घरों में इबादत भी करते हैं. जबकि सुन्‍नी समुदाय के लोग मुहर्रम के महीने में 10 दिन तक रोजा रखते हैं. माना जाता है कि मुहर्रम के एक रोजे का फल 30 रोजों के बराबर मिलता है.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here