Home Health Care Pinkathon: महिलाएं फिट तो परिवार व समाज भी फिट!

Pinkathon: महिलाएं फिट तो परिवार व समाज भी फिट!

महिलाओं को उनके स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से आयोजित पिंकाथॉन भारत में महिलाओं की सबसे बड़ी दौड़ है.

उत्तम स्वास्थ्य ही सुखी जीवन का मूलमंत्र रहा है. याद रखें कि आपके भविष्य निर्माण में अपकी स्वास्थ्य का भी अहम योगदान होता है. अगर शरीर स्वस्थ है तो आपका काम सुचारू रूप से चलता रहता है. पर अस्वस्थ शरीर में परिस्थितियां विपरीत होती है. मानव शरीर भी एक यंत्र की तरह ही है. मशीन की ही भांति इसका भी उचित रखरखाव जरूरी है. सीधी सी बात है अगर आप अपने स्वास्थ्य की तरफ ध्यान नहीं देंगे तो शरीर सही ढ़ंग से काम नहीं करेगा.

Pinkathon in Kolkata

स्वास्थ्य ठीक नहीं होने पर आपको लक्ष्य प्राप्ति में कठिनाई होगी. इसलिए रोजाना के तमाम कार्यों के साथ-साथ अपने शरीर का भी ख्याल रखना बेहद जरूरी है. स्वस्थ शरीर के लिए संतुलित भोजन के साथ-साथ सही व्यायाम भी करना चाहिए. कसरत करने से शरीर चुस्त-दुरुस्त रहता है. अपकी उन्नति, अवनति में शरीर अहम भूमिका अदा करता है. स्वस्थ रहने का एक साधन खुद को व्यवस्थित रखना भी है. स्वयं को व्यवस्थित रखने के लिए आप मोबाइल, डिजिटल डायरी और कंप्यूटर का भी सहारा ले सकते हैं. व्यस्त जीवनचर्या में से भी आपको खुद की सेहत के लिए समय निकालना अत्यंत आवश्यक है.

वर्तमान परिस्थितियां

पहले की तुलना में आज लोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता काफी बढ़ी है. पर जहां तक महिलाओं का सवाल है तो यहां परिस्थियों में काफी परिवर्तन जरूरी है. देखा जाता है कि अधिक संख्या में पुरुष वर्ग अपनी सेहत को लेकर जागरूक रहते हैं. इसके विपरीत ऐसी महिलाओं की संख्या बहुत कम है जो खुद की सेहत को लेकर सक्रिय है. शरीर अगर स्वस्थ रहता है तो इंसान को मानसिक शांति मिलती है. अगर आप दिमागी तौर पर शांत रहते हैं तो आपकी दिनचर्या अच्छी बितती है. आपके कार्यों का रिजल्ट भी बेहतर होता है. महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से विभिन्न संगठनों की तरफ से कार्यक्रम किए जाते हैं.

महिलाओं की सबसे बड़ी दौड़ पिंकाथॉन –

Pinkathon in Kolkata

महिलाओं को सशक्त बनाने, उनमें स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता फैलाने के उद्देश्य से विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौके पर 7 अप्रैल को कोलकाता में पिंकाथॉन (pinkathon in Kolkata) का आयोजन किया गया. इस कार्यक्रम का मूल उद्देश्य ब्रेस्ट कैंसर व महिलाओं के अन्य स्वास्थ्य संबंधी विषयों के प्रति जागरुकता फैलाना भी है. पिछले दो वर्षों की भांति इस बार भी दौड़ में अद्भुत परिणाम देखने को मिला. महानगर में आयोजित पिंकाथॉन के तीसरे संस्करण में करीब 3,500 महिलाओं ने हिस्सा लिया. दौड़ की शुरुआत कलकत्ता रेंजर्स क्लब से हुई थी.

तीन श्रेणियों में विभाजित इस दौड़ में 10 किलोमीटर रन, 5 किलोमीटर रन व 3 किलोमीटर रन शामिल थे। यह भारत में महिलाओं की सबसे बड़ी दौड़ है. देश की 8 शहरों में इस दौड़ का आयोजन किया जाता है. जिसमें कोलकाता समेत हैदराबाद, बेंगलुरु, मुंबई, पुणे, गोहाटी, दिल्ली, चेन्नई भी शामिल है. पिंकाथॉन (pinkathon in Kolkata) की शुरुआत वर्ष 2012 में मुंबई से हुई थी. उसके बाद बेंगलुरु फिर दिल्ली होते हुए आज यह दौड़ देश के 8 शहरों तक पहुंच चुका है.

बजाज इलेक्ट्रिकल्स पिंकाथॉन कोलकाता का आयोजन कलर्स की तरफ से किया गया. पिंकाथॉन (pinkathon in Kolkata) के संस्थापक मिलिंद सोमन हैं. मिलिंद भारतीय अभिनेता, मॉडल, फिल्म निर्माता व फिटनेस प्रोत्साहक भी हैं. इनका कहना है कि पिकांथॉन बेहतर स्वास्थ्य के लिए सिर्फ महिलाओं की दौड़ है.

Pinkathon in Kolkata

पिंकाथॉन (pinkathon in Kolkata) के माध्यम से हम महिलाओं के स्वास्थ्य उत्सव मना रहे हैं. यह दौड़ सिर्फ उन महिलाओं के लिए नहीं है जो खेल में रुचि रखती हैं. बल्कि इसमें हर वर्ग की महिलाएं हिस्सा लेती हैं. पिंकाथॉन मुख्य रूप से उन महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए है जो कभी दौड़ में हिस्सा नहीं लेती. उनके लिए यह जानना महत्वपूर्ण है कि स्वस्थ शरीर के लिए दौड़ना जरूरी है.

रहें सतर्क –

महिला अगर अपने स्वास्थ्य को लेकर सावधान रहती है. रूटीन के अनुसार खुद के स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहती है. तो उनके बच्चे भी घर से ही स्वास्थ्य को लेकर जागरूक हो जाते हैं. इसी तरह अगर हर महिला स्वास्थ्य को लेकर जागरूक रहे तो उनके बच्चे का स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा. घर की महिला अगर फिट है तो पूरा परिवार और समाज भी फिट रहता है. सीधे तौर पर कह सकते हैं कि स्वस्थ बच्चे से स्वस्थ भविष्य का निर्माण होता है. निरोग शरीर ही बेहतर कल का निर्माण करती है.

अगर किसी महिला का लाइफ स्टाइल स्वस्थ है तो पूरा परिवार, समाज व देश भी स्वस्थ होगा. इसके लिए महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति विशेष सगज रहना जरूरी है. अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहना अपना सम्मान करना है. स्वस्थ रहना कौन नहीं चाहता. आप भी जरूर अपने स्वास्थ्य को लेकर जागरूक रहें. जागरुकता ही स्वस्थ्य रहने का बेहतर साधन है. इस आलेख के माध्यम से भी आपको काफी सहायता मिल सकती है. आप अगर हमारे विचार से सहमत हैं तो ‘योदादी’ के साथ अपने अनुभव को कमेंट कर जरूर शेयर करें. #pinkathoninKolkata

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here