Home Calture रक्षाबंधन के टॉप 10 सदाबहार गाने – Raksha Bandhan Special Songs

रक्षाबंधन के टॉप 10 सदाबहार गाने – Raksha Bandhan Special Songs

रक्षाबंधन के टॉप 10 सदाबहार गाने - Raksha Bandhan Special Songs जिससे आप अपने रक्षाबंधन पर्व को खुशगवार और यादगार बना सकते हैं!

भारतीय संस्कृति में त्योहारों का महत्व बहुत ज्यादा है. यहां आए दिन कोई न कोई त्योहार मनाया जाता है. त्योहार ही वह माध्यम है जो हमारे रिश्तों के बीच के प्रेम को बनाए रखता है. हम कहीं भी रहते हैं लेकिन जब भी कोई त्योहार का मौसम आए तो हम तमाम बाधाओं को भूलकर भी किसी तरह अपनों के पास पहुंच ही जाते हैं. परिवार के साथ त्योहार मनाने से रिश्तों में ऊर्जा भर जाती है. एक ऐसा ही त्योहार रक्षाबंधन जो भाई-बहन के प्यार के प्रतीक के रूप में मनाया जाता है.

पारिवारिक रिश्ते और फिल्मों का संबंध शुरुआत के दिनों से ही बहुत गहरा रहा है. क्यूंकि बॉलीवुड में हर रिश्ते और त्योहारों पर तमाम किस्म की फिल्में बनीं हैं. इनमें भाई-बहन के रिश्तों पर कई सारी फिल्में बनी हैं और इनके गानों का हमारे उपर इतना गहरा प्रभाव पड़ा है कि हर त्योहार और खुशी के मौके पर हम इसे बिना गुनगुनाए नहीं रह सकते.

रक्षाबंधन स्पेशल गाने – Raksha Bandhan Special Songs

Raksha Bandhan Special Songs

आइए हम आपको रक्षाबंधन के 10 सदाबहार गानों से रूबरू कराते हैं. इन गीतों से आप भी अपने रक्षाबंधन पर्व को खुशगवार कर यादगार बनाइए:

1. भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना… (फिल्म-छोटी बहन)

भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना

भैया मेरे, छोटी बहन को न भुलाना

देखो ये नाता निभाना, निभाना

भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना

ये दिन ये त्योहार खुशी का, पावन जैसे नीर नदी का

भाई के उजले माथे पे, बहन लगाए मंगल टीका

झूमे ये सावन सुहाना, सुहाना

भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना

बांध के हमने रेशम डोरी, तुम से वो उम्मीद है जोड़ी

नाज़ुक है जो दाँत के जैसे, पर जीवन भर जाए न तोड़ी

जाने ये सारा ज़माना, ज़माना

भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना

शायद वो सावन भी आए, जो बहना का रंग न लाए

बहन पराए देश बसी हो, अगर वो तुम तक पहुँच न पाए

याद का दीपक जलाना, जलाना

भैया मेरे, राखी के बंधन को निभाना

2. मेरे भैया मेरे चंदा मेरे अनमोल रतन… (फिल्म-काजल)

मेरे भैया मेरे चंदा

मेरे अनमोल रतन

तेरे बदले मैं ज़माने की

कोई चीज़ न लूं

तेरी सांसों की कसम खाके, हवा चलती है

तेरे चहरे की खलक पाके, बहार आती है

एक पल भी मेरी नज़रों से तू जो ओझल हो

हर तरफ़ मेरी नज़र तुझको पुकार आती है

मेरे भैया मेरे चंदा

मेरे अनमोल रतन

तेरे बदले मैं ज़माने की

कोई चीज़ न लूं

तेरे चेहरे की महकती हुई लड़ियों के लिए

अनगिनत फूल उम्मीदों के चुने हैं मैंने

वो भी दिन आएं कि उन ख़्वाबों के ताबीर मिलें

तेरे ख़ातिर जो हसीं ख़्वाब बुने हैं मैंने

मेरे भैया मेरे चंदा

मेरे अनमोल रतन

तेरे बदले मैं ज़माने की

कोई चीज़ न लूं

3. चंदा रे मेरे भईया…(फिल्म-चंबल की कसम)

चंदा रे मेरे भईया से कहना

बहना याद करे

चंदा रे मेरे भईया…

क्या बतलाऊं कैसा है वो

बिलकुल तेरे जैसा है वो

तू उसको पहचान ही लेगा

देखेगा तो जान ही लेगा

तू सारे संसार में चमके

हर बस्ती हर गांव में दमके

कहना अब घर वापस आ जा

तू है घर का गहना

बहना याद करे

चंदा रे…

राखी के धागे सब लाएं

कहना अब न राह दिखाएं

मां के नाम की कसमें देना

भेंट मेरी के रसमें देना

पूछना उस रूठे भाई से

भूल हुई क्या मां-जाई से

बहन पराया धन है कहना

उस संग सदा नहीं रहना

बहना याद करे

चंदा रे मेरे भईया…

4. बहना ने भाई की कलाई से प्यार बांधा है… (फिल्म-रेशम की डोरी)

बहना ने भाई की कलाई से

बहना ने भाई की कलाई से प्यार बांधा है

प्यार के दो तार से, संसार बांधा है

रेशम की डोरी से…

रेशम की डोरी से संसार बांधा है

सुंदरता में जो कन्हैया है

ममता में यशोदा मैया है

वो और नहीं दूजा कोई

वो तो मेरा राजा भैया है

बहना ने भाई…

मेरा फूल है तू, तल्वार है तू

मेरी लाज का पहरेदार है तू

मैं अकेली कहां इस दुनिया में

मेरा सारा संसार है तू

बहना ने भाई…

हमें दूर भले किस्मत कर दे

अपने मन से न जुदा करना

सावन के पावन दिन भैया

बहना को याद किया करना

बहना ने भाई…

5. ये राखी बंधन है ऐसा…(फिल्म-बेईमान)

ये राखी बंधन है ऐसा…

ये राखी बंधन है ऐसा…

जैसे चंदा और किरण का

जैसे बदरी और पवन का

जैसे धरती और गगन का

ये राखी बंधन है ऐसा…

दुनिया की जितनी बहनें हैं

उन सबकी श्रद्धा है इसमें

है धरम करम भैया का ये

बहना की रक्षा इसमें है

जैसे सुभद्रा और किशन का

जैसे बदरी और पवन का

जैसे धरती और गगन का

ये राखी बंधन…

आज खुशी के दिन भाई के

भर-भर आए नैना

कदर बहन की उनसे पूछो

जिनकी नहीं है बहना

मोल नहीं कोई इस बंधन का

जैसे बदरी और पवन का

जैसे धरती और गगन का

ये राखी बंधन है ऐसा…

6. फूलों का तारों का, सबका कहना है… (फिल्म-हरे रामा हरे कृष्णा)

फूलों का तारों का, सबका कहना है

एक हज़ारों में मेरी बहना है

सारी, उमर, हमें संग रहना है

फूलों …

ये न जाना दुनिया ने तू है क्यूँ उदास,

तेरी प्यासी आँखों में प्यार की है प्यास,

आ मेरे पास आ, कह जो कहना है, एक हज़ारों …

भोली-भाली जापानी गुड़िया जैसी तू,

प्यारी-प्यारी जादू की पुड़िया जैसी तू,

डैडी का मम्मी का, सब का कहना है, एक हज़ारों …

जब से मेरी आँखों से हो गई तू दूर

तब से सारे जीवन के सपने हैं चूर

आँखों में नींद ना, मन में चैना है, एक हज़ारों …

देखो हम तुम दोनो हैं एक डाली के फूल

मैं न भूला तू कैसे मुझको गई भूल

आ मेरे पास आ, कह जो कहना है, एक हज़ारों …

जीवन के दुखों से, यूँ डरते नहीं हैं

ऐसे बचके सच से गुज़रते नहीं हैं

सुख की है चाह तो, दुख भी सहना है, एक हज़ारों…

7. हम बहनों के लिए, मेरे भैया, आता है एक दिन…(फिल्म-अंजाना)

हम बहनों के लिए मेरे भैया

आता है एक दिन साल में -2

आज के दिन मैं जहाँ भी रहूँ

चले आना वहाँ हर हाल में -2

हम बहनों के लिए मेरे भैया

आता है एक दिन साल में -2

(कितने दिन और कितनी रैनें

 इस आँगन में रहना है मैंने)  -2

परदेसी होती हैं बहनें

बाबुल जाने भेज दे मेरी

डोली कब ससुराल में

चले आना वहाँ हर हाल में

हम बहनों के लिए मेरे भैया

आता है एक दिन साल में -2

आज के दिन मैं जहाँ भी रहूँ

चले आना वहाँ हर हाल में -2

8. अब के बरस भेज भैया को बाबुल… (फिल्म-बंदिनी)

अब के बरस भेज भैया को बाबुल

सावन ने लीजो बुलाय रे

लौटेंगी जब मेरे बचपन की सखियाँ

दीजो सदेशा भियाय रे

अब के बरस भेज भयको बाबुल

अम्बुवा टेल फिर से झूले पड़ेंगे

रिमझिम पड़ेंगी फुहारें

लौटेंगी फिर तेरे आंगन में बाबुल

सावन की थड़ी बहारे

छलके नयन मोरा कसके रे जियरा

बचपन की जब याद आए रे

अब के बरस भेज भयको बाबुल

बैरन जवानी ने छीने खिलौने

और मेरी गुड़िया चुराई

बाबुल की मै तेरे नाजों की पाली

फिर क्यों हुई मैं पराई

बीते रे जग कोई चिठिया न पाती

न कोई नैहर से आये

अब के बरस भेज भयको बाबुल

सावन ने लीजो बुलाय रे

लौटेंगी जब मेरे बचपन की सखियाँ

दीजो सदेशा भियाय रे

अब के बरस भेज भयको बाबुल.

9. रंग-बिरंगी राखी लेके आई बहना…(फिल्म-अनपढ़)

रंग-बिरंगी राखी लेके आई बहना

ओ राखी बँधवा ले मेरे वीर -२

कोरस: रँग-बिरंगी राखी … मेरे वीर

मैं न चाँदी, न सोने के नार माँगूँ

कोरस: मैं न चाँदी, न भैया सोने के नार माँगूँ

अपने भैया का थोड़ा सा प्यार माँगूँ

थोड़ा सा प्यार माँगूँ

इस राखी में प्यार छुपा ले लाई बहना

कोरस: राखी बँधवाले मेरे वीर

नीले अम्बर से तारे उतार लाऊँ

कोरस: नीले अम्बर से भैया तारे उतार लाऊँ

या मैं  चँदा की किरणों के हार लाऊँ

किरणों के हार लाऊँ

प्यार के बदले बन ले लहराई बहना

कोरस: राखी बँधवाले मेरे वीर

कभी भैया ये बहना न पास होगी

कोरस: कभी भैया ये तेरी बहना न पास होगी

कहीं पर्देस बैठी उदास होगी, बहना उदास होगी

मिलने की आस होगी

जाने कब बिछड़ जाएं भाई-बहना

कोरस: राखी बँधवाले मेरे वीर

10. मेरे भैया मेरे चंदा मेरे अनमोल रतन… (फिल्म-काजल)

मेरे भैया मेरे चंदा

मेरे अनमोल रतन

तेरे बदले मैं ज़माने की

कोई चीज़ न लूं

तेरी सांसों की कसम खाके, हवा चलती है

तेरे चहरे की खलक पाके, बहार आती है

एक पल भी मेरी नज़रों से तू जो ओझल हो

हर तरफ़ मेरी नज़र तुझको पुकार आती है

मेरे भैया मेरे चंदा

मेरे अनमोल रतन

तेरे बदले मैं ज़माने की

कोई चीज़ न लूं

तेरे चेहरे की महकती हुई लड़ियों के लिए

अनगिनत फूल उम्मीदों के चुने हैं मैंने

वो भी दिन आएं कि उन ख़्वाबों के ताबीर मिलें

तेरे ख़ातिर जो हसीं ख़्वाब बुने हैं मैंने

मेरे भैया मेरे चंदा

मेरे अनमोल रतन

तेरे बदले मैं ज़माने की

कोई चीज़ न लूं

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here