Home Health Care चेहरे को बदसूरत बना सकता है स्मार्ट फोन, रहें सावधान!

चेहरे को बदसूरत बना सकता है स्मार्ट फोन, रहें सावधान!

मोबाइल फोन का लापरवाही से इस्तेमाल करने वाले लोगों में चेहरे पर जख्म के मामले में वृद्धि हो रही है. Smartphone is harmful

स्मार्ट फोन ने आज लोगों की जिंदगी तो आसान कर दी है लेकिन इसका लापरवाही से इस्तेमाल करना कई तरह की मुश्किलों को जन्म दे रहा है. स्मार्टफोन (Smartphone is harmful) की लापरवाही लोगों को हॉस्पिटल तक पहुंचा रही है. कई लोग चेहरे पर जख्म के साथ तो कई शरीर के अन्य अंगों में गंभीर चोटों के साथ हॉस्पिटल पहुंच रहे हैं.

smart phone

इनमें से ज्यादातर केस सेल्फ हार्मिंग वाले हैं. यानी जब किसी व्यक्ति को मोबाइल फोन का उपयोग करते समय चोट लग जाती है. पिछले अगस्त महीने में दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) द्वारा एक रिपोर्ट जारी की गई थी. जिसमें कहा गया था कि स्मार्ट फोन की वजह से बच्चों के दांत टूट रहे हैं.

इस अस्पताल में 9-10 वर्ष की उम्र के ऐसे बच्चे एडमिट हुए हैं जिनके दांत स्मार्टफोन (Smartphone is harmful) के मुंह पर गिरने की वजह से टूटे हैं. दांत टूटन के अलावा मुंह पर स्मार्ट फोन गिरने से होंठ कटने का मामला भी प्रकाश में आया था. एक स्मार्ट फोन की वजन 170 ग्राम से 250 ग्राम तक का होता है. तो ऐसे में इसके चेहरे पर गिरने से अस्पताल में भर्ती करा सकता है.

स्मार्ट फोन से चेहरे में चोट लगने के मामले में वृद्धि (Smartphone is harmful)

हाल ही में एक रिपोर्ट सामने आई है जिसमें कहा गया है कि दुनियाभर में लोगों का चेहरा स्मार्टफोन (Smartphone is harmful) की वजह से खराब हो रहा है. इसकी जानकारी प्लास्टिक सर्जन डॉ. बोरिस ने दी. उन्होंने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि स्मार्टफोन के कारण युवाओं के चेहरे पर चोट लगने के मामले में रोजाना बढ़ोत्तरी हो रही है.

कुछ दिनों पहले डॉ. के पास एक ऐसा मामला आया है, जिसमें एक महिला के हाथ से मोबाइल (Smartphone is harmful) फिसलकर उसके नाक पर गिरी और उसके नाक की हड्डी क्रैक हो गई. फोन चेहरे पर गिरने से नाक, दांत टूटने के अलावा फोन फेंक कर मारने की वजह से भी चेहरे पर चोट लगने का मामला सामने आता है.

चलने के दौरान लगती है चोट (Smartphone is harmful)

डॉ के मुताबिक बहुत सारे ऐसे मामले सामने आए हैं जिसमें वॉकिंग के दौरान फोन पर व्यस्त रहने के कारण लोग या तो गिर जाते हैं या फिर किसी खंभे से टकरा जाते हैं. फोन पर मैसेज करने के दौरान लोगों को सामने की तरफ कोई ध्यान नहीं होता है. वो बस अपनी धून में आगे बढ़ते रहते हैं. लेकिन ऐसे में लोगों को सावधान रहने की जरूरत है. इसे गंभीरता से नहीं लेने पर यह आदत गंभीर समस्या का कारण बन सकती है.

इसे भी पढ़ें : ज्यादा इस्तेमाल किया मोबाइल फोन तो सिर पर उगेंगे ‘सींग’

यूनाइटेड स्टेट के अस्पतालों के इमरजेंसी में माइनर और मेजर इंजरी के ऐसे मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है. इन मामलों में मरीज मोबाइल (Smartphone is harmful) फोन से जख्मी है. डॉ बोरिस कहते हैं कि वह गत 20 वर्षों से ओपीडी देख रहे हैं. जिससे पता चलता है कि मोबाइल फोन से चोट लगने वाले ज्यादातर मामलों में लोगों को अपने ही मोबाइल फोन से चोट लगी है.

smart phone

सिर्फ यूएस में ही सलाना 76 हजार स्मार्ट फोन से जख्मी (Smartphone is harmful)

विशेषज्ञों के अनुसार अकेले यूएस में ही एक साल में करीब 76 हजार लोग मोबाइल फोन का असुरक्षित या गैर जिम्मेदाराना तरीके से उपयोग करते हुए जख्मी होते हैं. डेटा यूएस कंज्यूमर प्रोडक्ट सेफ्टी कमीशन के डेटाबेस के अनुसार इस तरह चोट खानेवाले लोगों में अधिकांशतः लोगों की उम्र 13 से 29 वर्ष के बीच होती है.

ध्यान रखने वाली बात है कि चोटिल होने वाले लोगों को मोबाइल पर बात करते समय ड्राइविंग करना, मैसेज टाइप करते समय वॉक करना और किसी के द्वारा मोबाइल फेंककर हिट करने के मामले बहुत ज्यादा हैं. इसलिए जरूरी है कि लोग मोबाइल का उपयोग करते समय लापरवाही ना बरतें. क्योंकि मोबाइल फोन के प्रति बरती गई लापरवाही लोगों को अस्पताल पहुंचा सकती है. #SmartPhone

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here