Sukha Rog in Hindi: रहें सावधान, बच्चों में बढ़ रहे हैं सूखा रोग के मामले

    इन दिनों सूखा रोग के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. यह बीमारी 2 से 14 साल की उम्र के बच्चों में देखी जाती है. (Sukha Rog in Hindi)

    कोरोना वायरस के खतरों के बीच ही इन दिनों सूखा रोग (Sukha Rog in Hindi) के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. यह बयान दिल्ली स्थित इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर द्वारा जारी किया गया है. इस बयान में बताया गया है कि दिल्ली में पिछले साल से ही रिकेट्स यानी सूखा रोग के मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ रही है. इंडियन स्पाइनल इंजरी सेंटर (आईएसआईसी) के अनुसार अस्पताल में हर महीने लगभग 12 मामले सूखा रोग के आ रहे हैं.

    Sukha Rog in Hindi

    सूखा रोग हड्डियों से जुड़ी एक बीमारी है जो शरीर में विटामिन डी की कमी से होती है. यह बीमारी मुख्य रूप से 2 से 14 साल की उम्र के बच्चों में देखी जाती है. इस रोग में बच्चों की हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, जिस कारण हड्डियों या जोड़ों में दर्द समेत कई तरह की गंभीर समस्याओं के होने की आशंका बनी रहती है.  

    आइए बच्चों में होने वाले इस सूखा रोग के लक्षण, कारण और उपचार के बारे में विस्तार से जानते हैं. (Sukha Rog in Hindi)

    सूखा रोग क्या है?

    सूखा रोग बच्चों में होने वाली एक गंभीर बीमारी से, जो शरीर में विटामिन डी, कैल्शियम और फॉसफोरस की कमी से होती है. इसके अलावा इस बीमारी के अनुवांशिक कारण भी हो सकते हैं. विटामिन डी भोजन के माध्यम से शरीर में कैल्शियम और फॉस्फोरस को अवशोषित करने में मदद करता है. शरीर में विटामिन डी की कमी होने से इन तत्वों की भी कमी हो जाती है. विटामिन डी, कैल्शियम और फॉस्फोरस की कमी से बच्चों की हड्डियां कमजोर होती हैं जिस कारण उनमें सूखा रोग हो जाता है.

    इसे भी पढ़ें: बच्चे और व्यस्कों में पीलिया के कारण, लक्षण व उपचार

    अगर सूखा रोग (Sukha Rog in Hindi) सिर्फ विटामिन डी की कमी के कारण होता है तो वह आसानी से ठीक हो जाता है लेकिन आनुवांशिक कारणों या शरीर की किसी अन्य समस्या से कारण होने वाले इस रोग की समस्या में इलाज की प्रक्रिया लंबी हो सकती है. यह रोग ज्यादातर बच्चों में होता है लेकिन इसका उचित इलाज न होने पर वयस्कों में भी इसके लक्षण बने रहते हैं. इस रोग की समस्या गंभीर होने पर मरीजों को सर्जरी की भी आवश्यकता पड़ सकती है.

    कई बार तो यह बीमारी लंबे समय से घर के अंदर रहने के कारण भी हो सकती है. जिन बच्चों के शरीर पर सूर्य की किरणें सही से नहीं पड़ती हैं उनमें विटामिन डी की कमी का खतरा बना रहता है और इस कारण उनमें सूखा हो सकता है. कुछ मामलों में कुपोषण के कारण भी बच्चों में इस बीमारी की समस्या सामने आई है.

    सूखा रोग के कारणSukha Rog in Hindi

    नवजात बच्चे को सही पोषण मां के दूध से ही मिलता है लेकिन बच्चा जब 6 महीने का हो जाता है तो उसे कॉम्प्लीमेंट्री फीडिंग की जरूरत होती है. उचित पोषण नहीं मिलने पर उनके शरीर में विटामिन डी की कमी हो जाती है, जिस कारण भोजन से कैल्शियम और फॉस्फोरस का अवशोषण सही तरीके से नहीं हो पाता. यही कारण है कि बच्चों की हड्डियां कमजोर होती हैं और उन्हें सूखा रोग की समस्या होती है.

    बच्चे के शरीर में विटामिन डी की कमी, कुपोषण के अलावा सूखा रोग के कई अन्य कारण भी हैं. आइये जानते हैं सूखा रोग की समस्या के प्रमुख कारणों के बारे में-

    • शरीर में विटामिन डी, कैल्शियम और फॉस्फोरस की कमी.
    • सूरज की रोशनी का नहीं पड़ना.
    • सीलिएक डिजीज के कारण.
    • किडनी से जुड़ी समस्याओं के कारण.
    • वायु प्रदूषण के उच्च स्तर वाले स्थान पर रहना.
    • आनुवांशिक कारण.
    • शरीर में मेटाबोलिज्म से जुड़ी समस्या.

    सूखा रोग के जोखिम

    • कई बच्चों में जन्म के समय से ही सूखा रोग का जोखिम रहता है. बच्चों में इस रोग होने के प्रमुख जोखिम कारक इस प्रकार से हैं.
    • डार्क स्किन की वजह से बच्चों में इसका खतरा बढ़ जाता है. ऐसी स्किन वाले बच्चों में मेलेनिन के कारण सूरज की रोशनी से विटामिन डी का उत्पादन कम होता है. जिस कारण विटामिन डी की कमी होती है और सूखा रोग का खतरा बढ़ जाता है.
    • गर्भावस्था के दौरान मां के शरीर में विटामिन डी की कमी होने पर बच्चों में सूखा रोग का जोखिम बढ़ जाता है. कई बार जन्म से ही बच्चों में सूखा रोग की समस्या देखी जाती है या फिर जन्म के कुछ समय बाद बच्चे इस गंभीर समस्या का शिकार हो जाते हैं.
    • प्रीमैच्योर डिलीवरी में भी बच्चों में सूखा रोग का खतरा बढ़ता है.
    • खराब पोषण के कारण भी बच्चों में यह रोग होता है.
    • एचआईवी संक्रमण के इलाज में इस्तेमाल की जाने वाली एंटीरेट्रोवायरल और अन्य दवाओं के सेवन की वजह से भी बच्चों में सूखा रोग का जोखिम बढ़ जाता है.
    • कम धूप वाले स्थान में रहने वाले बच्चे में भी इसकी संभावना बनी रहती है.

    सूखा रोग के लक्षण

    1. हड्डियों में कमजोरी होना.

    2. कोहनी और कलाई के चौड़े जोड़.

    3. दिव्यांगता की समस्या.

    4. पैरों और रीढ़ की हड्डियों में दर्द.

    5. मांसपेशियों का कमजोर हो जाना.

    6. ब्रेस्टबोन प्रोजेक्शन.

    7. हड्डियों का टेढ़ापन.

    8. बच्चों के विकास में समस्या.

    9. हड्डियों का आसानी से टूट जाना.

    सूखा रोग का इलाज

    इस बीमारी (Sukha Rog in Hindi) से ग्रसित बच्चों के इलाज के लिए चिकित्सक शरीर में कैल्शियम, फॉस्फोरस और विटामिन डी की मात्रा बढ़ाने के लिए दवाएं देते हैं. साथ ही सूरज की रोशनी के संपर्क को बढ़ाने की सलाह भी दी जाती है. बच्चों के डाइट में विटामिन डी समेत कैल्शियम और फॉस्फोरस की मात्रा का विशेष ध्यान रखना जरूरी होता है. सामान्य तौर पर इस बीमारी को कुछ दवाओं के सेवन और डाइट से ठीक किया जा सकता है. जिन बच्चों में गंभीर समस्याएं होती हैं उन्हें इलाज के साथ-साथ सर्जरी की भी जरूरत पड़ सकती है.

    सूखा रोग से बचाव

    • बच्चों के खानपान का विशेष ध्यान रखा जाना.
    • गर्भवती महिलाओं को विटामिन डी की कमी होने पर नियमित रूप से विटामिन डी, कैल्शियम और फॉस्फोरस की खुराक का सेवन करवाना.
    • बच्चे को रोजाना कम से कम 10 से 15  मिनट तक धूप के संपर्क में रहना.

    (योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here