Home Experts Advice Symbol of depression in hindi: शरीर के ये संकेत बताते हैं कि...

Symbol of depression in hindi: शरीर के ये संकेत बताते हैं कि आप डिप्रेशन में हैं

डिप्रेशन शब्द सुनने में तो सामान्य सा लगता है लेकिन असल में यह बहुत ही भयानक है, यह एक अंधेरे कुएं की तरह है. (Symbol of depression in hindi)

डिप्रेशन शब्द सुनने में तो बहुत सामान्य सा लगता है लेकिन असल में यह बहुत ही भयानक है. इस बीमारी (Symbol of depression in hindi) का सामना करने वाले व्यक्ति को ही पता है कि इसमें कितना अकेलापन है. या फिर यह भी कह सकते हैं कि यह एक अंधेरे कुएं की तरह है. डिप्रेशन एक किस्म की मानसिक बीमारी है, जिसमें व्यक्ति को मानसिक पीड़ा होती है.

Symbol of depression in hindi

यह इतनी घातक बीमारी है जो इंसान की हर खुशी, हर उम्मीद को उससे छीन लेता है. लेकिन अफसोस की बात है कि डिप्रेशन (Symbol of depression in hindi) से पीड़ित व्यक्ति के बारे में उसके आसपास के लोगों को पता नहीं चलता. इस मानसिक बीमारी से बाहर निकलना भी काफी मुश्किल होता है. इसलिए लोगों को लगता है कि वे अब इससे उबर ही नहीं सकेंगे और धीरे-धीरे स्थिति गंभीर रूप धारण कर लेती है. हालांकि ये सच्चाई है कि डिप्रेशन से बाहर आने में वक्त लगेगा लेकिन आप इससे उबरेंगे जरूर.

वहीं डिप्रेशन पर किए गए शोध में खुलासा हुआ है कि मानसिक अवसाद शारीरिक दर्द के रूप में उभर कर सामने आ सकता है. लेकिन आप डिप्रेशन के शारीरिक संकेतों को समझ नहीं पाते हैं. लेकिन ध्यान देने वाली बात है कि आपके मन में होने वाले बदलाव का कनेक्शन आपके शरीर के साथ है और आप इसे बखूबी समझ सकते हैं.

डिप्रेशन में व्यक्ति के शरीर के अंदर दिखने वाले प्रारंभिक संकेतों को यहां जानते हैंSymbol of depression in hindi

1. हमेशा थकान महसूस करना

अगर आप मानसिक अवसाद में है तो थकान एक सामान्य लक्षण है. अवसाद में घिरा व्यक्ति सुबह के वक्त सुस्त महसूस करता है. वह ज्यादा से ज्यादा समय टीवी देखना और बिस्तर पर ही रहना पसंद करता है. यानी आपकी थकान की वजह अवसाद हो सकता है. अब जरूरत है कि आप अवसाद से होने वाले थकान को रोजाना के थकान से अलग करके समझें. जैसे

  • उदासीनता
  • एकाग्रता में कमी आना
  • चिड़चिड़ापन महसूस करना

2. हमेशा सिर दर्द रहना

सिरदर्द तो वैसे बहुत ही आम समस्या है और हर किसी को ये दिक्कत आती रहती है. अवसाद के कारण होने वाला सिरदर्द माइग्रेन के सिरदर्द से बिल्कुल अलग है. अवसाद वाला दर्द आपकी दिनचर्या को बुरी तरह प्रभावित करता है. राष्ट्रीय सिरदर्द फाउंडेशन का कहना है कि यह ‘तनाव सिरदर्द’ है. अवसाद वाले सिरदर्द में भौहों के पास सर का अनुभव होता है. यह हमेशा महसूस होने वाला दर्द है और नींद में भी ये आपके सिर में झल्लाहट महसूस कराएगी. यानी अवसाद की वजह से होने वाला सिरदर्द आपको गंभीर रूप से बीमार बना सकती है.

3. आंखों की रोशनी कमजोर होना

अगर आपको हमेशा हर चीज धुंधली दिखाई दे रही है तो यह भी अवसाद के कारणों में ही आता है. डिप्रेशन में रहने वाले लोगों पर किए गए शोध में पता चला कि इस तरह के लोगों को दुनिया धूमिल और ग्रे ही दिखती है. साल 2010 में जर्मनी में एक अध्ययन किया गया था जिसमें खुलासा हुआ था कि मानसिक चिंता भी व्यक्ति की दृष्टि कमजोर कर सकती है. इस रिसर्च में उदास रहने वाले 80 लोगों को शामिल किया गया था. शोध में इन सभी को सफेद और काले रंग में अंतर देखने में दिक्कत आई थी.

4. दर्द सहिष्णुता में कमी

आपने महसूस भी किया होगा कि आपकी नसों में आग लगी हुई है. लेकिन इस दर्द का कारण क्या है यह आप नहीं जान पाते हैं. साल 2015 में हुए एक अध्ययन में उदास रहने वाले लोगों के बीच संबंध दिखाया गया है और इनके दर्द सहिष्णुता में लगातार कमी आई थी. वहीं 2010 में हुए अध्ययन में जानकारी मिली थी कि उदास रहने वाले लोगों पर दर्द ज्यादा प्रभाव डालता है.

5. मांसपेशियों में दर्द

सुबह सोकर उठने के वक्त आप खुद को स्वस्थ महसूस करते हैं. लेकिन स्कूल डेस्क पर बैठने या फिर काम पर जाने से आपकी मांसपेशियों में दर्द होना शुरू हो जाता है. इस दर्द का कारण अवसाद हो सकता है. वर्ष 2017 में एक शोध किया गया था जिसमें 1013 कनाडाई विश्वविद्यालय के छात्रों के स्त्रोत को पीठ दर्द के बीच सीधा संबंध पाया गया था. मनोचिकित्सकों का कहना है कि भावनात्मक मामलों में इस तरह के दर्द होते हैं.

कैसे रहें डिप्रेशन से दूर?

1. अपने आप को व्यस्त रखें

डिप्रेशन जैसी गंभीर समस्या से उबरने के लिए अपने आप को हमेशा व्यस्त रखना सीखें. यानी आप खुद को व्यस्त रखने का तरीका ढ़ूंढ़े. अक्सर देखा जाता है कि अवसाद ग्रस्त व्यक्ति निराशावादी हो जाता है. उसके मन में हताशा की भावना घर कर जाती है. इसलिए सबसे जरूरी है कि आप इन बातों को खुद से उपर हावी ना होने दें. अगर आप पूरे दिन अपने आप को व्यस्त रखेंगे तो रातों को नींद जल्दी आएगी, जिससे आप तनाव मुक्त रहेंगे.

2. सकारात्मक दोस्त बनाएं

अगर आप डिप्रेशन (Symbol of depression in hindi) में हैं तो आपके आस-पास सकारात्मक विचारों वाला कोई व्यक्ति जरूर होना चाहिए. चाहे वो व्यक्ति आपका कोई साथी हो या फिर आपके परिवार के सदस्य ही क्यूं ना हो. चूकि डिप्रेशन एक गंभीर समस्या है इसलिए आप उक्त व्यक्ति के साथ खुल कर बातें करें. इस मुश्किल दौर से निकालने के लिए वे जरूर आपकी मदद करेंगे और आपके अंदर सकारात्मक उर्जा का संचार करेंगे.

3. कॉमेडी फिल्में देखें

अकेला-अकेला महसूस होने पर तुरंत ही आप टीवी या मोबाइल ऑन करके कुछ फनी देखने की आदत डाले. आप किसी कॉमेडी फिल्म ही देख लें. इससे आपको रिफ्रेश महसूस होगा और आपको चिंता मुक्त होने में आसानी होगी. थोड़ी देर के लिए आप भूल जाएं कि आपकी जिंदगी में क्या परेशानी है. इसलिए खुद को खुश रखने का प्रयास करें.

4. डॉगी के साथ खेलें Symbol of depression in hindi

अगर आपके घर में डॉगी है तो डिप्रेशन में रहने पर आप उसके साथ खेलकर समय बीताएं. आप डॉगी को गले लगाएं और उसे लेकर बाहर घूमने चले जाएं. इससे आपको तनाव मुक्त होने में मदद मिलेगी.

इसे भी पढ़ें: लॉकडाउन में एंग्जाइटी का शिकार हुई अदिती राव हैदरी, जानिए कैसे निकली इससे बाहर

5. खुद पर भरोसा रखें

माना जाता है कि अवसादग्रस्त इंसान अपनी अच्छायों और ताकत को भूल जाता है. इसलिए हमेशा अपने बारे में, अपनी अच्छाइयों के बारे में ही सोचें, अपनी उपलब्धियों के बारे में सोचें जिससे आपको अपने उपर गर्व महसूस हुआ होगा. चाहे खुद को गर्वान्वित करने काम आपके जीवन के किसी भी क्षेत्र से जुड़ा ही क्यूं ना हो. बचपन के मीठे यादगार पल भी आपके चेहरे पर खुशी बिखेर सकते हैं.

6. कुछ पसंदीदा भोजन करें

आमतौर पर देखा जाता है कि अवसादग्रस्त लोगों की भूख प्यास खत्म हो जाती है. वे बस हमेशा चिंता में ही डूबे रहते हैं. खाना-पानी छोड़ देना इस रोग का इलाज नहीं है, इसलिए ऐसा करें चिंता मुक्त होने के लिए आप हमेशा अपना पसंदीदा भोजन ही खाएं, मानसिक संतुष्टि मिलेगी.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here