Home Health Care Tingling In Hands And Feet : हाथ-पैर में होने वाली झनझनाहट...

Tingling In Hands And Feet : हाथ-पैर में होने वाली झनझनाहट को दूर करने के घरेलू उपाय

हाथों- पैरों में झनझनाहट होना एक आम समस्या है लेकिन लापरवाही बरतने पर यह आगे चलकर गंभीर रूप ले सकती है। (Tingling In The Hands And Feet)

हाथ-पैर में झनझनाहट (Tingling In Hands And Feet) की समस्या यानी पैरेस्थेसिया होना. जब व्यक्ति को अपने हाथ-पैरों में पिन जैसी चुभन प्रतीत हो तो उस स्थिति को हाथ-पैरों में चुभन कहा जाता है. इस समस्या के दौरान व्यक्ति के हाथ-पैर या शरीर का एक हिस्सा सुन्न पड़ जाता है. इसकी वजह से कई बार असामान्य सी स्थिति उत्पन्न हो जाती है. यह समस्या सबसे अधिक हाथ, बांह, तलवे और उंगलियों में देखी जाती है. हालांकि शुरुआत के दिनों में इस समस्या को कुछ घरेलू उपायों की मदद से रोका जा सकता है.

Tingling In Hands And Feet

हाथ-पैर में होने वाली झनझनाहट को रोकने के घरेलू उपाय- Tingling In Hands And Feet

1. मालिश से मिलेगा फायदा

हाथ-पैरों में मालिश करने से व्यक्ति के शरीर का रक्त संचार अच्छा रहता है. इससे ना सिर्फ शरीर सुडौल रहता है बल्कि हड्डियों में भी ताकत आती है। आप भी अगर हाथ पैर में होने वाली झुनझुनाहट की समस्या से परेशान हैं तो आप मालिश के सहारे इस परेशानी को दूर कर सकत हैं. मालिश के लिए सरसों और नारियल का तेल इस्तेमाल कर सकते हैं. एक बात ध्यान रहे कि मालिश हमेशा ऊपर से नीचे की तरफ ही करें.

2. व्यायाम भी होगा फायदेमंद

हाथ पैर में होने वाली झनझनाहट को दूर करने के लिए आप व्यायाम की सहारा ले सकते हैं. व्यायाम करने से रक्त संचार बेहतर होने के साथ-साथ कोशिकाएं भी दुरुस्त रहेंगी. अब सवाल है कि कौन सा व्यायाम इसमें उपयोगी साबित होगा. तो पहले स्ट्रैचिंग से इसकी शुरुआत करें और इसके बाद रोजाना आधे घंटे एरोबिक्स करना लाभदायक साबित होगा.

3. हल्दी भी है कारगर

हल्दी में एंटीइन्फ्लेमेटरी गुण के अलावा करक्यूमिन और सूजनरोधी गुण भी मौजूद रहते हैं. यह न केवल ब्लड सर्कुलेशन को दुरुस्त करता है बल्कि सुन्न पड़ी जगह पर ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ाता है. यदि आप इस समस्या से जूझ रहे हैं तो फिर सप्ताह में 4-5 दिन हल्दी के दूध का सेवन करें. याद रहे कि अगर आप गर्मी के दिनों में हल्दी का दूध ले रहे हैं तो पहले हल्दी की सही मात्रा जान लें. क्योंकि हल्दी की तासीर गर्म होती है इसलिए सही मात्रा जानने के बाद ही उसका सेवन करना ठीक रहता है.

4. सेंधा नमक भी है लाभकारी

सेंधा नमक मांसपेशियों को तो आराम देता ही है, इसके अंदर पाए जाने वाले एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण सूजन दूर करने के साथ-साथ हाथ पैर की झनझनाहट (Tingling In Hands And Feet) में भी आराम पहुंचाता है. इस उपचार के लिए आप नहाने के पानी में सेंधा नमक डालकर स्नान कर सकते हैं. इसके अलावा आप प्रभावित जगह को सेंधा नमक मिले पानी से भरे टब में भिगोकर रखें. आधे घंटे बाद सादे पानी से साफ कर लें. ऐसा करने से मांसपेशियों के साथ-साथ नसों को भी आराम मिलेगा.

इसे भी पढ़ें: बच्चे और व्यस्कों में पीलिया के कारण, लक्षण व उपचार

5. लेवेंडर का तेल भी है मददगार

लेवेंडर का तेल भी इस समस्या से निजात दिलाने में आपकी मदद कर सकती है. अगर आपको झनझनाहट की समस्या है तो प्रभावित स्थान पर लेवेंडर के तेल से मसाज करें तो इस समस्या में राहत मिलेगी. यह तेल मसाज करने पर झनझनाहट को कम कर मांसपेशियों को राहत पहुंचाती है.

6. बादाम के तेल का उपयोग

बादाम के तेल में एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं. यह रक्त वाहिकाओं की सूजन को कर करते हैं और हाथ पैर की झनझनाहट में भी राहत पहुंचाते हैं. ऐसे में आप प्रभावित क्षेत्र पर बादाम का तेल लगाकर कुछ देर मसाज करें. आप चाहें तो बादाम के तेल में लेवेंडर या नारियल का तेल मिलाकर भी मसाज कर सकते हैं. इस प्रक्रिया से भी झनझनाहट में राहत मिल सकती है.

7. दालचीनी के तेल का करें उपयोग

दालचीनी का तेल भी झनझनाहट (Tingling In Hands And Feet) की समस्या को दूर करने में कारगर साबित हो सकता है. यह रक्त संचार को बेहतर करके के अलावा सुन्न पड़े स्थान पर ऑक्सीजन पहुंचाने का काम करता है. यहां तक की दालचीनी को मसाले के रूप में इस्तेमाल करने पर भी वह रक्त संचार में सुधार लाता है. इससे झनझनाहट की परेशानी भी दूर होती है. इसके लिए आप प्रभावित स्थान पर दालचीनी का तेल लगाकर हल्के हाथों से मसाज करें.

शरीर में झनझनाहट या सुन्नपर का कारणTingling In Hands And Feet

  1. – एक ही स्थिति में लंबे समय तक बैठे रहना या खड़े रहना.
  2. – हर्निएटेड डिस्क (नसों पर दबाव पड़ने की समस्या) के कारण.
  3. – नसों में किसी प्रकार की चोट के कारण.
  4. – रीढ़ की हड्डी की नस पर दबाव के कारण.
  5. – ट्यूमर या संक्रमण के कारण पेरिफेरल तंत्रिकाओं पर दबाव पड़ना.
  6. – गठिया की समस्या होने पर.
  7. – हर्पीस जोस्टर यानी द्रव्य से भरे फोरे होने पर.
  8. – शरीर में विटामिन बी या फोलेट की कमी होने पर.
  9. – शराब का सेवन, धूम्रपान करना या फिर किमोथेरेपी के कारण नसों को क्षति पहुंचने पर.
  10. – कीड़े-मकोड़ों को काटने पर.
  11. – किसी खास किस्म की दवाई की वजह से.
  12. – सी फूड में पाए जाने वाले किसी विषाक्त तत्व के कारण.
  13. – नसों में सूजन की वजह से अंग में ठीक तरह से खून न पहुंचना.
  14. – किसी प्रकार का जन्म दोष भी हो सकता है कारण.
  15. – शरीर में पोटेशियम, कैल्सियम और सोडियम की असंतुलित मात्रा के कारण.

कुछ मेडिकल कंडीशन भी हो सकता है कारण

  • कार्पल टनल सिंड्रोम
  • डायबिटीज
  • माइग्रेन
  • मिर्गी
  • मल्टीपल स्क्लेरोसिस
  • थाइराइड
  • स्ट्रोक

हाथों-पैरों की झनझनाहट में कब लेनी चाहिए डॉक्टर की सलाह?

  • शरीर में झनझनाहट के साथ-साथ कमजोरी का एहसास होना और हिलने-डुलने में परेशानी का सामना करना.
  • हाथ-पैर के मूवमेंट पर कंट्रोल नहीं कर पाना.
  • बेहोशी की स्थिति उत्पन्न होना.
  • सिर, गर्दन या बैक में चोट लगने के बाद से झुनझुनाहट का एहसास होना.
  • हाथ-पैर, उंगलियों और गले में दर्द होने पर.
  • मल या मूत्र त्याग पर नियंत्रण न होना.
  • शरीर में रैशेज निकलना.
  • मांसपेशियों में ऐंठन महसूस होना या सिर चक्कर देना.
  • चलने पर झुनझुनी बढ़ जाना.
  • बोलने, चलने और देखने में कठिनाई होना.

हाथों-पैरों की झनझनाहट को दूर करने के लिए डाइट का रखें ध्यान- Tingling In Hands And Feet

शरीर में कुछ पोषक तत्वों की कमी के कारण भी झुनझुनाहट की समस्या उत्पन्न हो सकती है. ऐस में आप अपने आहार में पौष्टिक तत्वों को शामिल करके इस समस्या से बचाव कर सकते हैं. जैसे-

1. विटामिन बी – विटामिन बी पोषक तत्व तंत्रिका तंत्र के लिए बहुत जरूरी है. ऐसे में विटामिन बी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे केला, अंडा, मटर व मीट आदि का सेवन करना चाहिए.

2. विटामिन सी – विटामिन सी नसों में किसी प्रकार के चोट से होने वाली क्षति के उपचार में सहायक हो सकता है. ऐसे में खाने में विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ जैसे –पालक, आलू, ब्रोकली या स्ट्रॉबेरी आदि को शामिल करना ठीक रहेगा.

3. डेयरी प्रोडक्ट्स – शरीर के पोषक तत्वों की कमी को दूर करने के लिए के लिए डेयरी उत्पाद जैसे – दूध, दही, पनीर का सेवन करना चाहिए. ये सभी चीजें शरीर के लिए जरूरी खाद्य पदार्थों में से एक है. ये तमाम प्रोडक्ट कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों की श्रेणी में आते हैं और कैल्शियम की कमी के कारण भी हाथ-पैरों में झुनझुनी की समस्या हो सकती है. इसलिए इनका सेवन लाभकारी साबित हो सकता है.

हाथों-पैरों की झनझनाहट से बचने के उपाय

  • काम के दौरान बीच-बीच में ब्रेक लेते रहना.
  • डाइट में पौष्टिक आहार को जरूर शामिल करना.
  • अधिक समय तक एक ही मुद्रा में बैठने या खड़े रहने से बचें.
  • शराब या धूम्रपान से दूरी बनाए रखें.
  • रात को सोते वक्त बीच-बीच में अपना पोजीशन बदलते रहें.
  • बांह और गले से संबंधित स्ट्रेचिंग व्यायाम करें.
  • गर्दन, बांह और बैक को आराम मिलने वाले योग करें.
  • खुद को आराम जरूर दें.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here