Home Education बच्चों की हैंडराइटिंग सुधारने के आसान और प्रभावी तरीके

बच्चों की हैंडराइटिंग सुधारने के आसान और प्रभावी तरीके

आपको भी अगर अपने बच्चे की लिखावट सुधारनी है तो कुछ बातों का ख्याल रखें. बच्चों की हैंडराइटिंग सुधारने के आसान और प्रभावी तरीके - Tips to Improve Handwriting in Hindi

तकनीक के इस युग में बच्चे की पढ़ाई भी आधुनिक हो रही है. कंप्यूटर के इस युग ने ना केवल बच्चों की हैंडराइटिंग खराब की है बल्कि लिखने के प्रति उनकी दिलचस्पी भी कम हो गई है. हैंडराइटिंग सुधारने पर ना तो बच्चे का ध्यान रहता है और ना ही शिक्षक ही इस पर ध्यान देते हैं. पहले के लोगों की धारणा थी कि बच्चे की लिखावट (Tips to Improve Handwriting in Hindi) जितनी अच्छी होगा बच्चा पढ़ाई में भी उतना ही अच्छा होगा.

जबकि अभी के आधुनिक युग में सिर्फ मोबाइल और कंप्यूटर पर लिखने को ही मॉडर्न माना जाता है. और हाथों की लिखावट पर कोई ध्यान नहीं दिया जाता, जिस कारण बच्चों की लिखावट खराब हो रही है. लेकिन सच्चाई है कि भविष्य में आगे बढ़ने के लिए अच्छी हैंडराइटिंग का होना आवश्यक है. आप भी अगर अपने बच्चे की खराब हैंडराइटिंग से परेशान हैं तो आइ जानते हैं अच्छी हैंडराइटिंग की आवश्यकता और उसे सुधारने के तरीकों के बारे में.

tips-to-improve-handwriting-in-hindi

क्यों जरूरी है अच्छी लिखावट – Tips to Improve Handwriting in Hindi

आमतौर पर देखा जाता है कि बच्चे अपनी लिखावट पर ध्यान नहीं देते क्यूंकि उन्हें लगता है कि पढ़ाई में अच्छे प्रदर्शन के लिए खूबसूरत हैंडराइटिंग जरूरी नहीं है. लेकिन इसकी सच्चाई बच्चे को तब पता चलती है जब परीक्षा में तमाम प्रश्नों के सही उत्तर लिखने के बाद भी गंदी हैंडराइटिंग के कारण उसे कम नंबर मिलते हैं. इसका कारण है कि गंदी लिखावट की वजह से शिक्षक पेपर्स सही से पढ़ ही नहीं पाते और उन्हें कम नंबर देते हैं. इसलिए लिखावट हमेशा सुंदर और स्पष्ट होना आवश्यक है. आपको भी अगर अपने बच्चे की लिखावट सुधारनी है तो कुछ बातों का ख्याल रखें.

स्टडी टेबल की ऊंचाई

बच्चे के स्टडी टेबल की उंचाई इतनी हो कि वह वह आराम से कोहनियां टिका कर लिख सके. साथ ही कुर्सी ऐसी रखें, जस पर बैठने के बाद बच्चे का पैर जमीन पर सटा रहे.

पेंसिल को कैसे पकड़ें

अच्छी लिखावट के लिए बच्चे को पेंसिल पकड़ने का सही तरीका बताएं. अगर पेंसिल पकड़ने का तरीका गलत होगा तो बच्चे को लिखने में कठिनाई होगी, जिससे लिखावट खराब होगी. उसे पेंसिल अंगूठे और दूसरी उंगली के बीच रखकर पेंसिल के उपरी भाग को पकड़कर लिखना सिखाएं. ऐसे पेंसिल पकड़ने पर बच्चे को लिखने में आसानी होगी.

पहला अध्यायTips to Improve Handwriting in Hindi

छोटे बच्चे को लिखना सिखाने के लिए डेस्कटॉप व्हाइट बोर्ड व मार्कर का इस्तेमाल करना सही रहता है. लिखकर बच्चे को बताएं कि लेटर कैसे शुरू किया जा सकता है. बच्चे को इन लेटर्स को कॉपा करने को बोलें. बच्चा जब बोर्ड पर लिखना सीख जाए तब फिर उसे पेपर पर लाइन के बीच में लिखना सिखाएं. इसी प्रैक्टिस के दौरान उसकी हैंडराइटिंग पर ध्यान रखें. जब बच्चा अच्छा लिख रहा हो तो उसकी लिखावट की तारीफ करना मत भूलें. इससे वह और अच्छी हैंडराइटिंग में लिखने की कोशिश करेगा.

लिखने का स्टाइल

आप अगर बच्चे को विभिन्न तरह की स्टाइल में लिखना सिखाना चाहते हैं तो बच्चे के सामने सी स्टाइल का मॉडल रखें. इसके लिए कॉपी के हर पन्ने पर एक-एक अल्फाबेट लिख दें और बच्चे को उस पर प्रैक्टिस करने को बोलें.

प्रोजेक्ट का लें सहारा

1. बच्चे को फैंसी पेपर पर कविता लिखने को बोलें और फिर उसे दीवार पर लटकाएं.

2. बच्चे को अपने साथी को पत्र लेखने के लिए बोलें.

3. विभिन्न तरह के कार्ड बनाने के लिए प्रोत्साहित करें.

4. ड्राइंग बनाकर उसका शीर्षक लिखने को बोलें.

5. उसे कोई भी कविता कॉपी करने के लिए बोलें.

धीरे-धीरे लिखना

बच्चे को सिखाएं कि वह किसी भी शब्द को लिखते समय जल्दबाजी ना करे बल्कि धीरे-धीरे लिखे. क्यूंकि जल्दबाजी में लिखने पर बच्चे का लिखावट खराब हो जाएगी.

चमकीले पेंसिल का इस्तेमाल करें

बच्चों को लिखना सिखाने के लिए बोरिंग नहीं बल्कि चमकीले पेंसिल का इस्तेमाल करें. बच्चे की लिखावट सुधारने की प्रैक्टिस के समय उसे हमेशा स्केच पेन या फिर गिल्टर पेन का इस्तेमाल करने दें. ऐसे पेन देखने में आकर्षित होते हैं इसलिए बच्चे इससे लिखने को प्रेरित होते हैं. इससे प्रैक्टिस करते हुए बच्चे को बोरिंग महसूस नहीं होता है.

अक्षरों की बनावट का रखें ध्यान

बच्चा जब भी कोई अक्षर लिख रहा हो तो उसे उस अक्षर की बनावट (Tips to Improve Handwriting in Hindi) का ध्यान रखने के लिए बताएं। जैसे अक्षर की लंबाई या चौड़ाई बहुत ज्यादा नहीं रखे.

नए शब्दों का इस्तेमाल

बच्चों की हैंड राइटिंग सुधारने के लिए आप अगर उन्हें सुलेख लिखने की आदत डलवा रहे हैं तो ध्यान रखें कि हर दिन सुलेख में उन्हें अलग-अलग शब्दों को लिखने के लिए दें. बार-बार एक ही शब्द लिखकर बच्चा बोर हो सकता है और ऐसे में उसका ध्यान राइटिंग सुधारने से हट सकता है.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here