Home Education 5-8 वर्ष के बच्चों के लिए कुछ मजेदार टंग ट्विस्टर- Tongue Twister...

5-8 वर्ष के बच्चों के लिए कुछ मजेदार टंग ट्विस्टर- Tongue Twister for Children

हंसी मजाक वाले टंग ट्विस्टर को जब आप किसी ग्रुप में बैठकर बोलते या सुनते हैं तो खूब मजा आता है. (Tongue Twister for Children in Hindi)

टंग ट्विस्टर (Tongue Twister for Children in Hindi) बहुत मजेदार होता है और इसे एक ही शब्द के उल्टे पुल्टे प्रयोग द्वारा बनाया जाता है. इसमें एक जैसी ध्वनि वाले शब्दों का रिपीटिशन होता है. सामान्य तौर पर इसका प्रयोग हंसी मजाक के लिए किया जाता है. जब इसे किसी ग्रुप में बैठकर बोला या सुना जाता है खूब मजा आता है. इसे जब भी व्यक्ति बोलता है तो उसे सुनने में बहुत मजा आता है.

इसे जल्दी में बोलने से मुंह से गलत शब्द निकलने की सम्भावना काफी रहती है. और बोलने वाला व्यक्ति मजाक का पात्र बन जाता है. टंग ट्विस्टर बोलने में बच्चों को बहुत मजा आता है. इसका प्रचलन पीढ़ियों से चला आ रहा है. टंग ट्विस्टर (Tongue Twister for Children in Hindi) बोलने के और भी फायदे हैं. यह बच्चों को मजेदार शब्दों को सिखने में तो मदद करती ही है. यह बच्चों के भाषा विकास और उनकी शब्दावली को भी मजबूत करता है.

बच्चों के लिए क्यों है फायदेमंद– (Tongue Twister for Children in Hindi)

बच्चों में बोली और कल्पना का विकसित होना बहुत जल्दी शुरू हो जाता है. टंग ट्विस्टर ((Tongue Twister for Children in Hindi)) बच्चों के बोलने के लिए आवश्यक मांसपेशियों को खींचने में मदद करते हैं. जिससे उन्हें स्पष्ट उच्चारण और बोली के पैटर्न को विकसित करने में सहायता होती है. बच्चों को अकेले में नहीं बल्कि ग्रुप में इसे बोलने दें. ग्रुप में बोलने पर मजा दोगुना हो जाता।

यहां आपके बच्चे के लिए कुछ रोचक टंग ट्विस्टर की सूची दी गई है. इसे बच्चों के साथ बोलकर आप भी आनंद ले सकते हैं– (Tongue Twister for Children in Hindi)

  • कच्चा पापड़, पक्का पापड़
  • पीतल के पतीले में पपीता पीला पीला
  • ऊंट ऊंचा, ऊंट की पीठ ऊंची, ऊंची पूंछ ऊंट की
  • डबल बबल गम बबल डबल
  • दूबे दुबई में डूब गया
  • समझ समझ के समझ को समझो, समझ समझना भी एक समझ है.

समझ समझ के जो न समझे, मेरे समझ में वो ना समझ है.

इसे भी पढ़ें: बच्चे किस उम्र में बोलना सीखते हैं?

  • मत हँस हँस मत, मत फंस फंस मत
  • लपक बबुलिया लपक, अब ना लपकबे त लपकबे कब
  • पके पेड़ पर पका पपीता, पका पेड़ या पका पपीता
  • जो हंसेगा वो फंसेगा, जो फंसेगा वो हंसेगा
  • जो जो को खोजो, खोजो जोजो को। जो जोजो को ना खोजे, तो खो जाए जोजो.
  • टूट टूट कर कूट कूट कर
  • नीली रेल लाल रेल, नीली रेल लाल रेल
  • कच्ची रोटी खाके रोती, रोटी खाके कच्ची रोती
  • काला कबूतर, सफेद तरबूज, काला तरबूज, सफेद कबूतर
  • चाचा के चौड़े चबूतरे पर चील ने चूहे को चोंच से चबा डाला.
  • चंदा चमके चम चम, चीखे चौकन्ना चोर,
    चींटी चाटे चीनी, चटोरी चीनी खोर.
  • शनिवार को सही समय पर शहद सही पहुँचाना,
    शाम समय पर शहद न पहुँचा तो साल भर शर्माना.
  • डाली डाली पे नजर डाली, किसी ने अच्छी डाली, किसी ने बुरी डाली
    जिस डाली पर मैंने नजर डाली, वो डाली किसी ने तोड़ डाली.
  • चार कचरी कच्चे चाचा,
    चार कचरी पक्के.
    पक्की कचरी कच्चे चाचा,
    कच्ची कचरी पक्के!
  • लपक बबुलिया लपक, अब ना लपकबे त लपकबे कब.

टंग ट्विस्टर…

  • तोला राम ताला तोल के तेल में तुल गया,
    तुला हुआ तोला ताले के तले हुए तेल में तला गया.
  • कच्चा कद्दू, पक्का कद्दू.
  • खड़क सिंह के खड़कने से खड़कती हैं खिड़कियां
    खिड़कियों के खड़कने से खड़कता है खड़क सिंह.
  • जो जो को खोजो खोजो जोजो को
    जो जोजो को ना खोजो तो खो जाए जोजो.
  • ले नियम दे नियम दे नियम ले नियम.
  • कच्ची रोटी खाके रोती, रोटी खाके कच्ची रोती.
  • चार चोर चार छाते में चार अचार चाटे
    चाट-चाट कर चार छाता चोर चुराकर भागे.
  • चांदनी रात में चार चुड़ैल चुर्की पकड़ कर चुटुर चुटुर चना चबाये.
  • शनिवार को सही समय पर शहद सही पहुंचाना
    शाम समय पर शहद न पहुंचा साल भर शर्माना.
  • तेंदुलकर प्रभाकर गावस्कर वेंगसरकर, वेंगसरकर गावस्कर प्रभाकर तेंदुलकर.
  • कच्चा कचरा पक्का कचरा
  • काला कबूतर सफेद तरबूज
    काला तरबूज सफेद कबूतर.
  • तोला राम ताला तोड़ कर तेल में तुल गया,
    तुला हुआ तोला तले के तले हुए तेल में तल गया.

टंग ट्विस्टर…

  • फालसे का फासला
  • साडी को साडी से लपेटा बेटा।
  • नदी किनारे किराने की दुकान
  • नीली रेल लाल रेल नीली रेल लाल रेल
  • चंदु के चाचा ने चंदु की चाची को, चांदनी चौक में, चांदनी रात में, चांदी के चम्मच से चटनी चटाई.
  • नंदु के नाना ने नंदु की नानी को नंद नगर मे नागिन दिखाई.
  • डाली डाली पे नज़र डाली, किसी ने अच्छी डाली, किसी ने बुरी डाली, जिस डाली पर मैने नज़र डाली वो डाली किसी ने तोड़ डाली.
  • आचार का कचरा ,कचरे के डिब्बे मेँ. कचरे के डिब्बे मेँ आचार का कचरा.
  • चार कचरी कच्चे चाचा, चार कचरी पक्के,
    पक्की कचरी पक्के चाचा, कच्ची कचरी पक्के.
  • चंदा चमके चम चम, चीखे चौकन्ना चोर,
    चिटी चाटे चीनी, चकोरी चीनी खोर.
  • चार नयी नवेली दुल्हन, दुल्हन नयी नवेली चार!
  • मदन मोहन मालविया मद्रास में मछली मारते-मारते मरे.
  • लाला गोपे गोपाल गोपंग्गम दास.

(योदादी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here