Home Health Care आपका बच्चा भी मिट्टी या चॉक खाता है तो यूं दूर...

आपका बच्चा भी मिट्टी या चॉक खाता है तो यूं दूर करें बुरी आदतें

आपके बच्चे को अगर मिट्टी या चॉक खाने की बुरी लत है तो उसे तुरंत इस आदत को छुड़ाएं. इन चीजों को खाने से बच्चे के पेट में इंफेक्शन या पथरी की भी संभावना रहती है.

हर माता-पिता चाहते हैं कि उनका बच्चा स्वस्थ रहे. बच्चे को स्वस्थ रखने के लिए वे तरह-तरह के उपाय भी अपनाते हैं. स्वस्थ शरीर ही सबसे कीमती धन है. माता-पिता होने के नाते आपका कर्तव्य भी है कि बच्चे के स्वास्थ्य का ख्याल रखें. बच्चे तो नादान होते हैं. उन्हें सही-गलत की कोई जानकारी नहीं होती.

रोजाना की दिनचर्या में आपने ध्यान दिया होगा कि बच्चे को जो भी चीजें हाथ लग रही है उसे वह सीधे मुंह में ही डाल रहा (Bad habit of eating clay and chalk) है.बच्चों में बहुत सारी आदतें समान होती है. जिसमें एक आदत है मौका मिलते ही कुछ भी उठा कर मुंह में डाल लेना.

इस उम्र में बच्चे मिट्टी या चॉक मिलते ही उसे खाना शुरू (Bad habit of eating clay and chalk) कर देते हैं. मिट्टी खाने से पेट में इंफेक्शन के अलावा पथरी होने का भी भय बना रहता है. हालांकि मिट्टी या चॉक खाने की बीमारी कोई लाइलाज नहीं है. बच्चे के इस आदत को छुड़ाने के लिए आप उसे मारने-पीटने लगते हैं.

हालांकि मारना-पीटना किसी भी समस्या का समाधान नहीं है. अगर आप भी बच्चे की इस आदत (Bad habit of eating clay and chalk) से परेशान हैं तो हमारा यह ब्लॉग आपके लिए बहुत ही कारगर साबित होगा. यहां बताए जा रहे टिप्स को आपनाकर आप बहुत ही आसानी से बच्चे की इस आदत को छुड़ा सकते हैं.

अपनाएं यह उपाय –

  • जब कभी भी आपका बच्चा मिट्टी या चॉक खाए (Bad habit of eating clay and chalk) तो उसके साथ सख्ती से नहीं बल्कि प्यार से पेश आएं. अगर आप उसे डांटते या मारते हैं तो बच्चे के मन मे मनोवैज्ञानिक कुंठाएं आती है. जो कि नुकसानदायक साबित हो सकता है. इसलिए उसे प्यार से समझाएं की इसे खाने से क्या नुकसान हो सकता है.
  • छोटे बच्चों में मिट्टी खाना खून की कमी की निशानी है. हर चीज में अगर आप बच्चे को दूध मिलाकर देते हैं तो समें खून की कमी हो जाती है. इसलिए उसके खाने में अन्न, दाल, सूजीका हलवा, दलिया, केला, बिस्कुट, दही, अंडा व सब्जियों को भी शामिल करें.
  • कई बार बच्चे कैल्शियम की कमी के कारण भी मिट्टी या चॉक खाने लगते हैं. ऐसे में उसे ऐसा खाना खिलाएं जिसमें कैल्शियम की मात्रा भरपूर हो. लेकिन इस परिस्थिति में चिकित्सक की सलाह लेना भी जरूरी हो जाता है.
  • रोजाना रात के समय बच्चे को गुनगुने पानी के साथ 1 चम्मच अजवाइन का चूर्ण खाने को दें. यह प्रक्रिया तीन हफ्ते तक करने से बच्चे की यह बुरी आदत छूट जाती है.
  • लौंग की कुछ कलियों को पीसकर उसे पानी में उबाल लें. फिर इस पानी को एक-एक चम्मच करके बच्चे को तीन बार दें. ऐसा करने पर वह जल्द ही मिट्टी खाने की आदत छोड़ देगा.
  • आम की गुठली से निकलने वाली गिरी भी इसमें लाभदायक होती है. इस गिरी का चूर्ण बनाकर पानी में मिला दें और इसे दिन में तीन बार बच्चे को पीने के लिए दें. देखेंगे बच्चा मिट्टी या चॉक खाने की आदत छोड़ देगा.

इसे भी आजमा सकते हैं:

  • हर दिन एक पका केला शहद के साथ मिलाकर बच्चे को खाने के लिए दें. देखेंगे कि बच्चा मिट्टी खाना छोड़ देगा.
  • देसी घी बच्चे को अधिक से अधिक मात्रा में दें.
  • बच्चे को संपूर्ण आहार देने से उसके शरीर में किसी चीज की कमी नहीं होगी. जिससे वह मिट्टी या चॉक खाने की आदत नहीं पकड़ेगा.
  • कभी-कभी बच्चा एक दूसरे को देख कर भी बुरी आदतें सीख लेता है. तो ध्यान रखें कि आपका बच्चा किन बच्चों के साथ खेलता है और किससे उसने यह गंदी आदत सीख रहा है. तुरंत ही उसे मिट्टी खाने वाले बच्चों का साथ छुड़ाइए.
  • बच्चे को हर वक्त किसी न किसी काम में उलझा कर रखें. व्यस्त रहने पर उसे ये बुरी आदतें नहीं लगेंगी
  • इन तमाम उपायों से भी अगर बच्चे की मिट्टी व चॉक खाने की आदत नहीं जाती है तो फिर आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए.

अगर आपके बच्चे में भी यह आदत (Bad habit of eating clay and chalk) है तो उसे छुड़ाना बहुत जरूरी है. इस आदत से छुटकारा पाने के तमाम उपाय हमने इस आलेख में साझा भी किया है. अगर आप भी इस समस्या से परेशान हैं तो हमारे इस आलेख की मदद लें. इस विषय से संबंधी अगर कोई सुझाव आपके पास हो तो उसे ‘योदादी’ के साथ कमेंट कर साझा भी करें. #BadHabit

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here